Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» Kedia Group Had Opened Hundreds Of Accounts For Transactions With Shell Companies

केडिया ग्रुप ने शेल कंपनियों से लेन-देन के लिए खोले थे सैकड़ों खाते, भिलाई में जांच पूरी

छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश सहित छह राज्यों में आयकर विभाग द्वारा मारे गए छापे के तहत कई ठिकानों पर जांच चौथे दिन भी जारी।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 18, 2017, 07:15 AM IST

  • केडिया ग्रुप ने शेल कंपनियों से लेन-देन के लिए खोले थे सैकड़ों खाते, भिलाई में जांच पूरी

    रायपुर/इंदौर।शराब कारोबारी केडिया ग्रुप पर छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश सहित छह राज्यों में आयकर विभाग द्वारा मारे गए छापे के तहत कई ठिकानों पर जांच चौथे दिन भी जारी रही। जांच एक-दो दिन और चलने की संभावना जताई जा रही है। इसका एक बड़ा कारण ग्रुप का शेल कंपनियों के साथ संबंधों का उजागर होना है। समूह शराब और रियल एस्टेट से हो रही कमाई का एक बड़ा हिस्सा शेल कंपनियों में शिफ्ट कर रहा था और वहां से ‌विभिन्न कंपनियों में इधर-उधर किया जा रहा था। इस राशि को शिफ्ट करने के लिए ग्रुप ने अलग-अलग बैंकों में सैकड़ों खाते खुलवाए थे।

    - जांच अधिकारी सभी खातों का रिकाॅर्ड खंगाल रहे हैं कि किस खाते से कितनी राशि किस शेल कंपनी में पहुंचाई गई? फिर वह राशि कहां पर गई? इंदौर में केडिया परिवार के सभी सदस्यों के सामने आ जाने के बाद अब उनके बयान लिए जा रहे हैं और आय को लेकर पूछताछ हो रही है।

    इंदौर की पेज-3 पार्टी का चेहरा हैं केडिया
    - केडिया इंदौर के सबसे सक्रिय सोशल क्लब अभ्युदय क्लब का संचालन करते हैं। इसमें होने वाली पार्टियों में इंदौर के सभी नामचीन कारोबारी, नेता और ब्यूरोक्रेट्स नजर आते हैं। क्लब का फेसबुक पेज कहता है कि क्लब की वार्षिक साधारण सभा में किरण बेदी,मेनका गांधी और नंदिता जैसी ख्यातनाम हस्तियां संबोधन दे चुकी हैं।

    पेंटिंग्स खरीदकर छुपाई करोड़ों रुपए की काली कमाई

    केडिया ग्रुप ने शराब कारोबार से हुई काली कमाई का एक बड़ा हिस्सा ख्यातनाम चित्रकारों की पेंटिंग्स खरीदने में खर्च किया।


    भिलाई में छापे के बाद से भूमिगत हुए नवीन केडिया
    - छत्तीसगढ़ में आयकर विभाग ने जांच पूरी कर ली है। यहां समूह के संचालक नवीन केडिया के भिलाई स्थित घर समेत सात ठिकानों पर छापे मारे गए थे। छापे के बाद से ही नवीन केडिया भूमिगत हैं। अब अधिकारियों की नजरें चार बैंक लॉकरों और करीब ढाई दर्जन खातों पर टिकी है।

    - इंदौर निवासी नवीन के दो भाई जो फर्म का संचालन करते हैं लौट आए हैं। जांच टीमें अभी भी गोदामों में जांच में लगी है। स्टाक मिलान किया जा रहा है। सभी परिसरों से दस्तावेजी प्रमाण और ऑनलाइन बिजनेस से संबंधित इंस्ट्रूमेंट जब्त कर लिए गए हैं। छापे में करोड़ों रुपए नगद, करोड़ों के जेवर और करीब 350 एकड़ जमीन के कागजात मिले हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×