--Advertisement--

टीचरों ने की हड़तात तो सफाईकर्मियों ने बच्चों को पढ़ाया, रिटायर्ड-शिक्षकों को बुलाया

हड़ताल के कारण स्कूलों में पढ़ाई ठप हाेने से नाराज सरकार रिटायर्ड और दूसरे विभागों में अटैच शिक्षकों को बुलाया जाएगा।

Danik Bhaskar | Nov 22, 2017, 06:56 AM IST

रायपुर. शिक्षाकर्मियों की हड़ताल के कारण स्कूलों में पढ़ाई ठप हाेने से नाराज सरकार रिटायर्ड और दूसरे विभागों में अटैच शिक्षकों को बुलाया जाएगा। इन्हें स्वयंसेवा के आधार पर बुलाया जाएगा। दूसरी ओर शिक्षाकर्मी अपनी मांगों के माने जाने तक पीछे हटने को तैयार नहीं हैं, वहीं सात संगठनों ने खुद को हड़ताल से अलग कर लिया है। इसके लिए उन्होंने पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव एमके राउत को लिखित में ज्ञापन भी सौंप दिया है।

स्कूल शिक्षा विभाग के सचिव विकासशील ने मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए प्रदेश के सभी कलेक्टरों, जिला पंचायतों के सीईओ और डीईओ की बैठक ली। बैठक में उन्होंने अधिकारियों से हड़ताल को ध्यान में रखते हुए नियमित शिक्षकों, साक्षर भारत के प्रेरकों और प्रतिनियुक्ति पर भेजे गए शिक्षकों को बुलाने के लिए कहा है। स्कूलों का रिकॉर्ड भी मांगा गया है।

कांकेर: सफाईकर्मियों ने पढ़ाया, परीक्षा ली

ये है आमाबेड़ा के ग्राम लोहत्तर में बच्चों को पढ़ाती सफाईकर्मी। अंतागढ़ व कोयलीबेड़ा विकासखंड में स्कूल में ही तैनात सफाईकर्मी व रसोइए पढ़ा रहे हैं। परीक्षा कराने की जिम्मेदारी भी इन्हीं पर है।

ये संगठन अलग हुए :

प्रदेश शिक्षाकर्मी महासंघ, छत्तीसगढ़ व्याख्याता पंचायत संघ, क्रांतिकारी पंचायत शिक्षक संघ, शिक्षक पंचायत नगरीय निकाय संघ, शिक्षक पंचायत नगरीय निकाय संघ, वरिष्ठ शिक्षाकर्मी संघ, दिव्यांग संघ।

सिंहदेव का सीएम को पत्र :
22 कमेटियां बनीं पर हल नहीं निकला

शिक्षाकर्मियों की हड़ताल स्कूलों में तालाबंदी की नौबत आ गई है। परीक्षाएं करीब हंै, हड़ताल से बच्चों का भविष्य प्रभावित होगा। शिक्षाकर्मियों की वेतन विसंगति व अन्य मुद्दों के समाधान के लिए अब तक 22 कमेटियां बन चुकी हैं, लेकिन अाज तक हल नहीं निकला।