• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Palari
  • काम हुए 2 महीने नहीं बीते, 10 किमी की सड़क 56 जगह पर उखड़ी
--Advertisement--

काम हुए 2 महीने नहीं बीते, 10 किमी की सड़क 56 जगह पर उखड़ी

Palari News - दस किमी के रोहांसी मार्ग को 4 करोड़ की लागत से सिरे से बनाया जाना था। लेकिन इस सड़क का निर्माण घटिया तरीके से कर दिया...

Dainik Bhaskar

Jul 24, 2018, 03:00 AM IST
काम हुए 2 महीने नहीं बीते, 10 किमी की सड़क 56 जगह पर उखड़ी
दस किमी के रोहांसी मार्ग को 4 करोड़ की लागत से सिरे से बनाया जाना था। लेकिन इस सड़क का निर्माण घटिया तरीके से कर दिया गया। कुछ दिनों में ही उभरे गड्ढाें की खबर प्रकाशित कर दैनिक भास्कर मामले को उजागर किया था। इसके बाद आनन-फानन में घटिया काम को छिपाने के लिए ठेकेदार द्वारा डामर की परत बिछा दी गई थी।

अब दो महीने ही नहीं हुए कि दिनभर की रिमझिम बारिश ने सड़क निर्माण के भ्रष्टाचार को फिर से उजागर कर दिया है। सड़क में जगह-जगह गड‌्ढे और दरारें नजर आने लगीं हैं। विधानसभा अध्यक्ष गौरी शंकर अग्रवाल सड़क बनाने 4 करोड़ की मंजूरी देने के बाद दस किलोमीटर की सड़क का निर्माण प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना से किया गया था। दो महीने पहले ही सड़क बनाना शुरू हुई थी। आनन-फानन में सड़क निर्माण भी हो गया। सड़क का डामरीकरण हो गया जो बनते-बनते टूट गया। इसकी मरम्मत भी हो गई और घटिया निर्माण को छिपाने पूरे सड़क में फिर से डामर की परत डालकर सड़क को नया बनाने की कोशिश की गई थी। अब फिर वह टूटने लगी है।

घटिया निर्माण : पहली बारिश नहीं झेल पा रही 4 करोड़ रुपए से बन रही पीएम योजना से बनी रोहांसी सड़क

पलारी. रोहांसी मार्ग निर्माण के निर्माण के दौरान मरम्मत और मरम्मत के बाद फिर टूटा।

खुशी इतनी जल्दी मायूसी में तब्दील होगी उम्मीद नहीं थी

खुशी इतनी जल्दी मायूसी में तब्दील होगी उम्मीद नहीं थी

सड़क से गुजरने वाले आस-पास के ग्रामीण घटिया निर्माण करने वालों को कोसते-कोसते यात्रा करते हैं। इस मार्ग से बलौदी, बोईरडीह बासबीनोरी, खपरी, लारिया, सीतापार, कानाकोट, अमेठी, टेमरी, खेलवारी, धमनी , खेरा, लकड़ियां, टिपावन नवागांव गांव के लोग इस मार्ग से रोज आना-जाना करते हैं। ग्रामीण चेतन रमेश, सन्जु, जयराम, तोषण, नोहर, हरीश, प्रीतम, गैंद, सन्तोष, गांधी श्यामरतन आदि ग्रामीणों का कहना है की जब सड़क का निर्माण शुरू हुआ तो सब खुश थे, मगर खुशी इतनी जल्दी मायूसी में तब्दील होगी उम्मीद नहीं थी। इससे अच्छा तो पुरानी सड़क ही थी। इस सड़क की एक जगह मरम्मत होती दूसरी जगह टूट जाती है। ऐसा लग रहा है की चार करोड़ मरम्मत के लिए मंजूर किए थे।

सड़क से गुजरने वाले आस-पास के ग्रामीण घटिया निर्माण करने वालों को कोसते-कोसते यात्रा करते हैं। इस मार्ग से बलौदी, बोईरडीह बासबीनोरी, खपरी, लारिया, सीतापार, कानाकोट, अमेठी, टेमरी, खेलवारी, धमनी , खेरा, लकड़ियां, टिपावन नवागांव गांव के लोग इस मार्ग से रोज आना-जाना करते हैं। ग्रामीण चेतन रमेश, सन्जु, जयराम, तोषण, नोहर, हरीश, प्रीतम, गैंद, सन्तोष, गांधी श्यामरतन आदि ग्रामीणों का कहना है की जब सड़क का निर्माण शुरू हुआ तो सब खुश थे, मगर खुशी इतनी जल्दी मायूसी में तब्दील होगी उम्मीद नहीं थी। इससे अच्छा तो पुरानी सड़क ही थी। इस सड़क की एक जगह मरम्मत होती दूसरी जगह टूट जाती है। ऐसा लग रहा है की चार करोड़ मरम्मत के लिए मंजूर किए थे।

जल्दबाजी में काम कराया, ठीक कराया जाएगा

इस सबंध में प्रधानमंत्री सड़क योजना ईई कमल शर्मा का कहना है की जब वो गए थे तो 8 जगह टूटा था, बाद में और बड़ गया होगा तो कह नहीं सकता। अभी सड़क निर्माणाधीन है, फरवरी में काम पूरा होगा। ठेकेदार ने जल्दबाजी में इस पर डामर का कार्य कर दिया है, जो जगह टूट गया है उसको ठीक करा दिया जाएगा।

जल्दबाजी में काम कराया, ठीक कराया जाएगा

इस सबंध में प्रधानमंत्री सड़क योजना ईई कमल शर्मा का कहना है की जब वो गए थे तो 8 जगह टूटा था, बाद में और बड़ गया होगा तो कह नहीं सकता। अभी सड़क निर्माणाधीन है, फरवरी में काम पूरा होगा। ठेकेदार ने जल्दबाजी में इस पर डामर का कार्य कर दिया है, जो जगह टूट गया है उसको ठीक करा दिया जाएगा।

सड़क के पुुराने डामर को तोड़ किया उपयोग

जिस सड़क का बेस ही कमजोर हो वो ज्यादा कैसे टिक सकती थी। पुराने सड़क को उखाड़ कर उसी डामर को पुनः सड़क निर्माण के लिए डालकर रोलर चला दिया था। उसके बाद नया निर्माण उसी के ऊपर किया गया। जो एक तरफ बनते बनते ही टूट गया। जिसकी मरम्मत ठेकेदार ने करके उसे छिपाने की कोशिश की मगर अंचल में लगातार दो दिन से हो रही बारीश ने इसकी सड़क की फिर पोल खोल दी। पूरे सड़क में पलारी से रोहांसी तक राइट साइड शोल्डर छप्पन जगह टूटा और दब गया है।

X
काम हुए 2 महीने नहीं बीते, 10 किमी की सड़क 56 जगह पर उखड़ी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..