Home | Chhatisgarh | Palari | बीकॉम की 90 में से 80 सीटें खाली, विज्ञान के बच्चों का काॅमर्स में दाखिला कराने की तैयारी

बीकॉम की 90 में से 80 सीटें खाली, विज्ञान के बच्चों का काॅमर्स में दाखिला कराने की तैयारी

ग्राम वटगन में नए शिक्षा सत्र से नवीन काॅलेज खोला जा रहा है। हाईस्कूल के भवन को खाली कराकर इसमें सोमवार से काॅलेज...

Bhaskar News Network| Last Modified - Jul 29, 2018, 03:06 AM IST

बीकॉम की 90 में से 80 सीटें खाली, विज्ञान के बच्चों का काॅमर्स में दाखिला कराने की तैयारी
बीकॉम की 90 में से 80 सीटें खाली, विज्ञान के बच्चों का काॅमर्स में दाखिला कराने की तैयारी
ग्राम वटगन में नए शिक्षा सत्र से नवीन काॅलेज खोला जा रहा है। हाईस्कूल के भवन को खाली कराकर इसमें सोमवार से काॅलेज शुरू कराया जाएगा। यहां पर विज्ञान, कला और काॅमर्स के 90-90 सीट स्वीकृत हैं। लेकिन अब तक कॉमर्स की 90 सीटों में से महज 10 सीटों पर ही छात्रों ने दाखिला लिया है। 800 सीटें खाली रह गईं हैं। वहीं हैरत की बात यह है कि जिस गांव के हायर सेकेंडरी में कॉमर्स विषय की नहीं है तो फिर उस गांव से ही छात्र नहीं मिल रहे हैं। प्रवेश लेने के लिए अंतिम दिन 31 जुलाई है। ऐसे में विज्ञान के छात्रों को ही बीकॉम में प्रवेश कराने की तैयारी हो रही है।

उच्च शिक्षा के लिए ग्रामीण अंचल के बच्चों को बेहतर शिक्षा मिल सके इसके लिए ग्राम वटगन में तीन विषय में दो सौ सत्तर सीट की स्वीकृत के साथ नवीन कालेज खोला है। इसमें भर्ती और पढ़ाई की तैयारी की जा रही है।

बलौदाबाजार डीके कॉलेज के प्राचार्य जेएन केशरवानी वटगन काॅलेज के भी प्रभारी हैं। जो किसी भी तरह सभी विषय के विद्यार्थी की भर्ती कर पढ़ाई प्रारंभ करने की कोशिश में लगे हुए हैं, मगर काॅमर्स विषय को लेकर ब्लाॅक और काॅलेज की दयनीय स्थिति को देखते हुए परेशान हो रहे हैं, क्योंकि काॅलेज में काॅमर्स विषय की 90 सीट हैं मगर इस विषय के छात्र नहीं मिल रहे हैं। वहीं काॅलेज में विषय को चालू रखने लिए कम से कम अनिवार्य संख्या की पूर्ति में लगे हैं। अगर दस से कम बच्चे होंगे तो कॉलेज उस विषय को बन्द कर देगा।

इस कारण काॅलेज के प्रोफेसर और स्टाप बच्चों को काॅमर्स विषय में अच्छे अवसर होने की बात कह काॅमर्स में भर्ती करा रहे हैं। जबकि कला और विज्ञान में 30-30 सीट अभी भी खाली हैं, जिसमें 31 जुलाई तक भर्ती का अंतिम दिन है।

वटगन के हाईस्कूल भवन में लगने वाले कॉलेज में प्रवेश फॉर्म लेते विद्यार्थी।

सोमवार से शुरू होगी पढ़ाई

काॅलेज में पढ़ाई सोमवार से शुरू होने की बात प्राचार्य जेएन केशरवानी ने कही है। उन्होंने ब्लाॅक में 23 हायर सेकेंडरी स्कूल होने के बाद काॅमर्स विषय के लिए बच्चे नहीं मिलने की बात करते हुए कहा की 11वीं व 12वीं में काॅमर्स की पढ़ाई अनिवार्य कर जब तक स्कूलों में पढ़ाई नहीं होगी, कालेज में बच्चे कहां से मिलेंगे। आने वाले वर्षों में हायर सेकेंडरी स्कूल में काॅमर्स की पढ़ाई को अनिवार्य करना होगा।

स्कूल में नहीं काॅमर्स विषय

जिस गांव में काॅमर्स विषय का काॅलेज है वहीं के हायर सेकेंडरी स्कूल में उस विषय का एक भी छात्र नहीं है। जब गांव के स्कूल से विद्यार्थी नहीं निकलेंगे तो बहार से कितना उम्मीद की जा सकती है। हायर सेकंडरी स्कूल के प्राचार्य हेमन्त वर्मा का कहना है की गांव के बच्चे कामर्स विषय को लेकर रूचि नहीं ले रहे हैं। मैंने इस विषय पर दाखिला कराने की कोशिश की मगर सफल नहीं हो सका।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now