• Home
  • Chhattisgarh News
  • Palari
  • भरुवाडीह की महिलाएं बोलीं चारा भूमि से हटवाओ कब्जा
--Advertisement--

भरुवाडीह की महिलाएं बोलीं चारा भूमि से हटवाओ कब्जा

ब्लाॅक के ग्राम पंचायत मलपुरी के आश्रित ग्राम भरुवाडीह में सरकारी जमीन पर कुछ लोगों द्वारा सामूहिक रूप से कब्जा...

Danik Bhaskar | Jul 30, 2018, 03:10 AM IST
ब्लाॅक के ग्राम पंचायत मलपुरी के आश्रित ग्राम भरुवाडीह में सरकारी जमीन पर कुछ लोगों द्वारा सामूहिक रूप से कब्जा कर खेती करने से गांव के चरनोई की जमीन खत्म हो रही है। ऐसे में मवेशियों को घरों में ही बांध कर रखने से ग्रामीण परेशान हो रहे हैं। अतिक्रमण को हटाने जब लोगों से बात की गई तो अतिक्रमणकारियों ने उल्टे गांव के लोगों को ही डरा धमका दिया। ऐसे में उनके खिलाफ गांव की महिलाओं ने मोर्चा संभाला और एकजुुट होकर कलेक्टर, एसपी, एसडीएम, तहसील, थाने में शिकायत देकर सरकारी जमीन को खाली करवाने की मांग की। इसी बीच अतिक्रमणकारियों ने महिलाओं को भी धमकाया तो महिलाएं उग्र हो गईं और फिर उच्च अधिकारियों से तत्काल अतिक्रमणकारियों के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग पर अड़ गईं हैं। ऐसे में गांव की स्थिति तनावपूर्ण हो गई है।

महिलाओं ने बताया की 25 से 30 एकड़ चारा भूमि पर सामूहिक रूप से कब्जा कर करीब आठ-नौ लोग खेती कर रहे हैं। जिससे गांव में चरागन के लिए जमीन नहीं बची है। इससे मवेशियों को घरो में ही बांध कर रखना पड़ता है। अतिक्रमणकारी समूह में होकर ग्रामीणों का विरोध कर रहे हैं तथा धमका रहे हैं। अगर प्रशासन समय रहते इस पर ध्यान नहीं देता तो गांव की स्थिति कभी भी खराब हो सकती है। महिलायें रूखमणी, पेमेश्वरी, डिगेश्वरी, नीता, चांद कुमारी, पूर्णिमा, अमरीका, पदमा, बिराजो, अहिलिया, ललिता आदि महिलाओं ने कहा कि हम शांति पूर्ण बेजा कब्जा हटाने की मांग कर रहे हैं। अगर हमारी बात पर ध्यान न देकर हमें धमकाने की कोशिश करेंगे तो इसका अंजाम बुरा होगा।

पलारी. गांव की सरकारी जमीन से अतिक्रमण हटवाने लामबंद हुईं महिलाएं।

आरोप-चौकी पर हवलदार ने किया दुर्व्यवहार

महिलाओं ने कहा की जब वह पुलिस चौकी शिकायत करने गईं तो वहां मौजूद हवलदार ने महिलाओं के साथ ही दुर्व्यवहार कर दो घंटे तक परेशान किया। इसकी शिकायत एसपी से महिलाओं ने कर कार्रवाई की मांग की। वहीं इस संबंध में चौकी प्रभारी जीएस देशमुख ने बताया की ग्राम भरुवाडीह में अतिक्रमण हटाने की मांग को लेकर महिलाओं ने आवेदन दिए हैं। इस पर आठ लोगों के खिलाफ 107 ,116 के तहत प्रकरण तहसील न्यायालय में पेश किया गया है।