• Home
  • Chhattisgarh News
  • PANDARIYA
  • 600 शिक्षाकर्मियों को दो माह से वेतन नहीं, आर्थिक संकट से जूझ रहा परिवार
--Advertisement--

600 शिक्षाकर्मियों को दो माह से वेतन नहीं, आर्थिक संकट से जूझ रहा परिवार

ब्लॉक क्षेत्र से सर्वशिक्षा अभियान में कार्यरत शिक्षाकर्मियों को मार्च व अप्रैल दो महीने का वेतन नहीं मिला है।...

Danik Bhaskar | May 01, 2018, 03:20 AM IST
ब्लॉक क्षेत्र से सर्वशिक्षा अभियान में कार्यरत शिक्षाकर्मियों को मार्च व अप्रैल दो महीने का वेतन नहीं मिला है। इस कारण शिक्षाकर्मियों के पूरे परिवार को आर्थिक समस्याओं से जूझना पड़ रहा है। जबकि छत्तीसगढ़ शासन द्वारा शिक्षक पंचायतों को प्रत्येक माह के 5 तारीख तक वेतन भुगतान करने की घोषणा केवल घोषणा बनकर रह गई है।

इतना ही नहीं विशेष त्योहारों से लेकर किसी भी महीने निर्धारित समय में शिक्षाकर्मियों को वेतन नहीं मिला है। हर दो या तीन माह गुजरने के बाद ही एक महीने का वेतन दिया जाता है। कभी शासन द्वारा आवंटन नहीं दिया जाता, तो कभी स्थानीय अधिकारियों की लापरवाही के चलते वेतन भुगतान में विलंब होता है। शालेय शिक्षाकर्मी संघ पंडरिया के ब्लाक अध्यक्ष मोहन राजपूत, नरेन्द्र चंद्रवंशी, धरमलाल वर्मा, गोपी सोनी, मन्नू लाल चंद्रसेन, मनीराम ध्रुव व बीआर बघेल ने बताया कि नियमित वेतन नहीं मिलने के कारण शिक्षक पंचायतों को आर्थिक व पारिवारिक परेशानी हो रही है। किंतु शिक्षक पंचायतों को अप्रैल बीतने के बाद भी मार्च का वेतन नहीं मिला है। ब्लाक अध्यक्ष राजपूत ने बताया कि अप्रैल में शादियां अधिक होने के कारण लोगों को अधिक रुपए की जरूरत है। वेतन नहीं मिलने के कारण समस्या बढ़ गई है। इसके अलावा ब्लाक के अधिकांश शिक्षक पंचायत दूरस्थ जिले से विकास खंड में अपनी सेवा दे रहे हैं। जिन्हे मकान किराया, दैनिक खर्च व पारिवारिक जरूरतों के लिए वेतन पर निर्भर रहना पड़ता हैं। शिक्षक पंचायतों ने शीघ्र ही वेतन देने मांग की है। शिक्षाकर्मियों को नियमित वेतन नहीं मिल रहा है, वहीं वर्षो से लंबित समस्याएं भी दूर नहीं हो रहीं हैं।

आवंटन के बाद भुगतान