• Home
  • Chhattisgarh News
  • Pithora News
  • आईटीआई में पानी का इंतजाम नहीं बोर से मिल पाता है बाल्टीभर पानी
--Advertisement--

आईटीआई में पानी का इंतजाम नहीं बोर से मिल पाता है बाल्टीभर पानी

पिथौरा में संचालित शासकीय आईटीआई में प्रशिक्षण लेने वाले छात्रों को एक-एक बूंद पानी के लिए जद्दोजहद करना पड़ रहा...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:40 AM IST
पिथौरा में संचालित शासकीय आईटीआई में प्रशिक्षण लेने वाले छात्रों को एक-एक बूंद पानी के लिए जद्दोजहद करना पड़ रहा है। अब तो हालत यह है कि दिनभर में एक बाल्टी बदबूदार पानी पीकर प्यास बुझाना पड़ रहा है, क्योंकि गांव के लोग हैंडपंप या नल के पास जाने से मना कर रहे हैं। बावजूद अब तक किसी जिम्मेदार अधिकारी ने इसे गंभीरता से नही लिया। पिथौरा के नाम पर यहां से चार किलोमीटर दूर ग्राम डोंगरीपाली से लगे पहाड़ी के समीप शासकीय आईटीआई की शुरूआत दो साल पहले की गई थी। शासन ने इसके लिए करोड़ों रुपए का भवन और छात्रावास भवन का निर्माण कराया है। यहां 30 छात्र प्रशिक्षण ले रहे हैं जिसमें से 16 छात्रावास में रहते हैं। लेकिन ये पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। लोक निर्माण विभाग द्वारा ठेकेदार के माध्यम से खुदवाए गए बोर से सुबह- शाम मात्र एक-एक बाल्टी पानी मिलता है जो बदबूदार है।

गांव के लोग कर रहे मना: इस गांव में एकमात्र तालाब है। यहां का पानी भी नहाने के लायक नहीं है, इसके बाद भी ग्रामीण इससे निस्तारी कर रहे हैं। इस तालाब में इन विद्यार्थियों को स्नान करने से मना किया जा रहा है। मामले की जानकारी मिलने पर लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की टीम और अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) बीसी एक्का यहां का निरीक्षण कर जा चुके हैं किंतु एक सप्ताह बीतने के बावजूद अब तक इस समस्या का समाधान नहीं हो सका है।

पिथौरा. डोंगरीपाली स्थिति आईटीआई का भवन।

दूसरी समस्याएं भी

इस प्रशिक्षण संस्थान को शुरू हुए दो साल बीत चुके हैं। सुविधा के नाम पर अब तक ज्यादा सामान नहीं हैं। सिर्फ 6 कंप्यूटर देकर इसका प्रशिक्षण शुरू कर दिया गया है। 30 विद्यार्थियों को अपनी बारी आने का घंटों इंतजार करना पड़ता है। एसडीएम बीसी एक्का ने बताया कि संस्थान का निरीक्षण किया गया है । यहां पानी की समस्या तो है। गांव में भी दिक्कत हैं। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के जरिए एक बोर की खुदाई कराई जाएगी। आगामी दिनों में इसका समाधान हो जाएगा ।