• Home
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • सॉइल रिपोर्ट देखने के बाद ही किसानों को दी जाएगी खाद
--Advertisement--

सॉइल रिपोर्ट देखने के बाद ही किसानों को दी जाएगी खाद

फसल की पैदावार बढ़ाने किसानों को सॉइल (मिट्टी) हेल्थ कार्ड बांटे जा रहे हैं। अब इसी रिपोर्ट के आधार पर किसानों को खाद...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:50 AM IST
फसल की पैदावार बढ़ाने किसानों को सॉइल (मिट्टी) हेल्थ कार्ड बांटे जा रहे हैं। अब इसी रिपोर्ट के आधार पर किसानों को खाद उपलब्ध कराया जाएगा।

अभी तक जिले के 1 लाख 2044 किसानों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड का वितरण किया जा चुका है। शेष नमूनों की जांच का कार्य जारी है। अफसरों का दावा है कि अप्रैल में ही मिट्टी नमूनों का परीक्षण पूरा कर लिया जाएगा। मौजूदा समय में किसान अधिक पैदावार के लिए काफी मात्रा में रासायनिक खाद का उपयोग कर रहे है। जिसके कारण मिट्टी में पोषक तत्वों की कमी हो गई। इससे फसल उत्पादन घट रही है। किसान मिट्टी में कौन से पोषक तत्व की कमी है इसे जाने बिना ही बाजार में बिकने वाले खाद का उपयोग कर रहे है। ये मिट्टी को और नुकसान पहुंचा रहा है। इसलिए शासन ने तय किया कि सभी किसानों को उनके खेत की मिट्टी जांचकर सॉइल हेल्थ कार्ड दिया जाए। ताकि इस हेल्थ कार्ड के जरिए किसान मिट्टी के लिए जरूरी खाद खरीद पाए।

सरकार खुद किसानों को मृदा हेल्थ रिपोर्ट के आधार पर ही खाद का वितरण करेगी। कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक एसपी सिंह की मानें तो रिपोर्ट के आधार पर खेत में खाद का छिड़काव करने से नुकसान का दायरा घटेगा।

कार्ड में 12 पैरामीटर की रिपोर्ट

मिट्टी की जांच 12 पैरामीटर होती है। यही रिपोर्ट हेल्थ कार्ड में अंकित है। इसमें मिट्टी का पी एच, इसी, आर्गेनिक कार्बन, उपलब्ध नाइट्रोजन, फॉस्फोरस, पोटेशियम, सल्फर, जिंक, बोरान, आयरन, मैग्नीज और कॉपर का परीक्षण मान है।