• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • सुबह धूप-छांव का खेल, दोपहर को बारिश शाम को ठंडी हवा से मौसम हुआ सुहाना
--Advertisement--

सुबह धूप-छांव का खेल, दोपहर को बारिश शाम को ठंडी हवा से मौसम हुआ सुहाना

तेलंगाना के साथ ही बंगाल की खाड़ी में चक्रवात का असर रविवार को भी शहर में दिखाई दिया। इसके चलते दोपहर 12 बजे तक तेज...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 02:55 AM IST
सुबह धूप-छांव का खेल, दोपहर को बारिश शाम को ठंडी हवा से मौसम हुआ सुहाना
तेलंगाना के साथ ही बंगाल की खाड़ी में चक्रवात का असर रविवार को भी शहर में दिखाई दिया। इसके चलते दोपहर 12 बजे तक तेज धूप के साथ पारा 36 डिग्री सेल्सियस रहा। देखते ही देखते आसमान में काले घने बादल छा गए और दोपहर 12.40 बजे अचानक झमाझम बारिश शुरू हो गई। दोपहर चार बजे के बाद नमी युक्त ठंडी तेज हवा चलने लगी और तापमान 29 डिग्री तक गिरा। न्यूनतम तापमान भी 18 डिग्री तक गिरा।

अप्रैल माह की शुरुआत में अचानक हुई इस बारिश ने लोगों को चुभती गर्मी से राहत दिलाई है। हालांकि विशेषज्ञ इस बारिश से सेहत व फसल दोनों पर बुरा प्रभाव पड़ने की बात कह रहे हैं। रायपुर मौसम केंद्र के विशेषज्ञ आर्द्रता बढ़ने की वजह से बारिश होने की बात कह रहे हैं। दोपहर को करीब 35 मिनट तक शहर में बारिश हुई। विशेषज्ञ अगले 48 घंटों तक सिस्टम का प्रभाव उत्तरी छत्तीसगढ़ में बने रहने की बात कह रहे हैं। दरअसल एक दिन पहले तेलंगाना में बने सिस्टम से दक्षिणी छत्तीसगढ़ में तेज बारिश के साथ ओले गिरे थे। विशेषज्ञों ने इसका प्रभाव अगले दो दिनों तक दूसरे हिस्सों पर पड़ने की संभावना जताई थी। यही वजह है कि रविवार को झमाझम बारिश के बाद नमी युक्त ठंडी हवा ने लोगों को गर्मी से राहत तो दिलाई।

दोपहर 12 बजे 36 डिग्री सेल्सियस था तापमान, हवा चलने के बाद शाम 4 बजे 29 डिग्री पर पहुंचा पारा

आने वाले दिनों का मौसम

सोमवार 20न्यू. 36 अधि.

मंगलवार 22 न्यू. 37 अधि.

बुधवार 23 न्यू. 37 अधि.

गुरुवार 22 न्यू. 39 अधि.

शुक्रवार 25 न्यू. 40 अधि.

शनिवार 27 न्यू. 41 अधि.

तेजी से गिरा तापमान

10 बजे सुबह 22 न्यू. 34 अधि.

2.30 बजे दोपहर 27 न्यू. 32 अधि.

5 बजे शाम 25 न्यू. 30 अधि.

12 बजे रात 17 न्यू. 24 अधि.

इन पर पड़ सकता है, प्रभाव

1. गेंहूं और सरसों को नुकसान. शहर में एकाएक बेमौसम बारिश ने चिलचिलाती गर्मी से राहत जरूर महसूस की। लेकिन कृषि विशेषज्ञ डॉ एके सिंह बताते हैं कि इससे खेतों में कटाई योग्य हो चुके गेहूं और सरसों की फसलों को नुकसान होगा। यह हालत अगले दो तीन दिनों तक लगातार बने रहे तो सब्जियों पर भी बुरा प्रभाव पड़ सकता है। उनमें कीट का प्रकोप बढ़ने लगेगा।

2. वायरल और सरद गरम का डर. मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर बताते है कि बीते कुछ दिनों में मौसम में तेजी से उतार चढ़ाव हो रहा है। मार्च आखिर में तेज गर्मी पड़नी शुरू हुई थी, इसी बीच अचानक बारिश हो हुई। इसका प्रभाव लोगों की सेहत पर पड़ सकता है, अक्सर ऐसे मौसम के बाद वायरल फीवर और सरद गरम की वजह से सर्दी खांसी की शिकायत बढ़ जाती है।

मौसम में परिर्वतन संभव

मौसम विशेषज्ञों की माने तो आने वाले दिनों में बेमौसम बारिश की संभावना ज्यादा रहेगी। क्योंकि जलवायु हर 70 से 80 साल में बदलता रहता है। 15 जून से शुरू होने वाली बारिश की तारीख 1 जून या मई तक आ सकती है। जलवायु से ऋतु प्रभावित होती है। यह बदलते पर्यावरण के कारण संभव है।

बढ़ेगी मरीजों की संख्या

डाक्टरों के अनुसार मौसम में आए परिवर्तन का असर लोगों के स्वास्थ्य पर भी बढ़ेगा। इससे सर्दी जुकाम के मामले बढ़ेंगे। सर्द, गर्म की वजह से बुखार भी आ सकता है। मौसम बदलने का ज्यादा असर बच्चे और बुजुर्गों पर पड़ेगा। बादल छंटते ही एक बार फिर तेज गर्मी पड़ेगी। इससे लू लगने की आशंका बढ़ जाएगी। बहरहाल डाक्टरों ने शहरवासियों से ऐसे में सावधानी बरतने के लिए कहा है।

X
सुबह धूप-छांव का खेल, दोपहर को बारिश शाम को ठंडी हवा से मौसम हुआ सुहाना
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..