रायगढ़

  • Home
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • बच्चों को भयमुक्त वातावरण देने की जरूरत: दुबे
--Advertisement--

बच्चों को भयमुक्त वातावरण देने की जरूरत: दुबे

छत्तीसगढ़ राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष प्रभा दुबे ने सृजन सभाकक्ष में बच्चों को सुरक्षित एवं भयमुक्त...

Danik Bhaskar

Mar 02, 2018, 03:05 AM IST
छत्तीसगढ़ राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष प्रभा दुबे ने सृजन सभाकक्ष में बच्चों को सुरक्षित एवं भयमुक्त वातावरण देने के लिए महिला बाल विकास, पुलिस विभाग, जिला स्तरीय अधिकारी एवं बाल संरक्षण संस्थाओं के संचालकों की संयुक्त बैठक ली।

उन्होंने कहा कि बच्चों के लिए समाज में ऐसा वातावरण विकसित करने की जरूरत है, जिसमें बच्चे भयमुक्त होकर अपनी बात को रख सके। उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य है कि बच्चों का सर्वांगीण विकास करके समाज में उन्हें आगे बढ़ाए ताकि बच्चा शिक्षित होकर प्रदेश स्तर पर अपना नाम रोशन कर सके। समीक्षा बैठक में महिला बाल अधिकारी जे.आर.प्रधान ने बताया कि रायगढ़ जिले में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान में निरंतर सार्थक प्रयास किए जा रहे है, साथ ही बाल विवाह की रोकथाम के लिए प्रयास किए जा रहे है। जिले में विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से लोगों में जन-जागरूकता लायी जा रही है, जिसके परिणाम स्वरूप 2016-17 में हमारा जिला राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत हो चुका है और आगामी 8 मार्च को झुनझुन राजस्थान में प्रधानमंत्री द्वारा पुरस्कृत किया जाएगा। इस अवसर पर राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की सदस्य टीआर.श्यामा, महिला बाल विकास के कार्यक्रम अधिकारी टीके जाटवर, महिला बाल विकास अधिकारी जेआर.प्रधान, आदिम जाति विभाग के सहायक आयुक्त संकल्प साहू, राजीव गांधी शिक्षा मिशन के जिला समन्वयक रमेश देवांगन, समाज कल्याण विभाग के प्रभारी साहू, जिला पंचायत के ग्रामीण विस्तार अधिकारी वीरेंद्र राय, नगर निगम के सहायक जनसंपर्क अधिकारी लक्ष्मी नारायण विश्वकर्मा, महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष डॉ. माधुरी त्रिपाठी,चाइल्ड लाइन के श्याम सुंदर यादव, उन्नायक सेवा समिति के श्री सिद्धार्थ शंकर मोहंती, श्रम विभाग, पुलिस विभाग एवं बाल संरक्षण संस्थान के संचालक गण उपस्थित थे। शिक्षा अधिकारी ने अपने विभाग के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि बाल संरक्षण के तहत 3310 स्कूलों में पास्को बॉक्स लगाया गया है तथा 9 वीं से 12 वीं तक बालिकाओं को सुरक्षित वातावरण देने के लिए सार्थक प्रयास किए जा रहे है। उन्होंने बताया कि जिन स्कूलों ने अपना मान्यता संबंधी दस्तावेज जमा नहीं किए है उनमें से 54 स्कूलों की मान्यता रद्द करने की प्रक्रिया की जा रही है। साथ ही पालकों की सुविधा के लिए पंजीकृत स्कूलों की सूची का भी प्रकाशन आगामी दिनों में करवाया जाएगा।

आयोग की अध्यक्ष प्रभा दुबे ने अवगत कराया कि रायगढ़ जिले की गतिविधियों की जानकारी के लिए राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की सदस्य सुश्री टी.आर.श्यामा को जिम्मेदारी दी गई है। वे जिले की विभिन्न गतिविधियों पर निगरानी रखेगी।

बैठक

राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष गर्ल्स स्कूल कोष्टापारा को लिया गोद, बच्चियों के साथ कैरम खेला

विद्यार्थियों के बीच उपस्थित राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष।

Click to listen..