• Home
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • बोर्ड की कॉपियां जांचने हाईस्कूल व हायर सेकंडरी स्तर पर 3 साल का अनुभव जरूरी
--Advertisement--

बोर्ड की कॉपियां जांचने हाईस्कूल व हायर सेकंडरी स्तर पर 3 साल का अनुभव जरूरी

10वीं बोर्ड की परीक्षा खत्म हो गई है। वहीं 12वीं का एक दो पेपर ही शेष रह गए हैं। इधर माध्यमिक शिक्षा मंडल ने दोनों...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 03:15 AM IST
10वीं बोर्ड की परीक्षा खत्म हो गई है। वहीं 12वीं का एक दो पेपर ही शेष रह गए हैं। इधर माध्यमिक शिक्षा मंडल ने दोनों कक्षाओं के परिणाम एक साथ जारी करने10वीं, 12वीं की उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन की तैयारी शुरू कर दी है। माशिमं ने मूल्यांकन केंद्रा धिकारियों को भेजे गए आदेश में कहा है कि अगर किसी अध्यापक को हाईस्कूल और हायर सेकेंडरी स्तर पर 3 साल पढ़ाने का अनुभव नहीं है तो उन्हें बोर्ड की उत्तर पुस्तिका जांच के लिए नहीं दी जाएगी।

मंडल से मान्यता प्राप्त स्कूलों के प्राचार्य, व्याख्याता, उच्च श्रेणी शिक्षकों के साथ व्याख्याता पंचायत ही उत्तर पुस्तिकाओं की जांच कर सकते हैं, लेकिन उनके पास तीन साल शैक्षणिक कार्य का अनुभव होना अनिवार्य है। माध्यमिक शिक्षा मंडल के डिप्टी सेक्रेटरी बताते है कि किसी की नियुक्ति अंशकालीन है तो वो भी मूल्यांकन के लिए पात्र नहीं होंगे। मूल्यांकन केंद्राध्यक्षों को इन बातों का विशेष ध्यान रखने के निर्देश दिए गए है। तीन अप्रैल से पूरे प्रदेश में उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन शुरू होने जा रहा है। इसकी तैयारी शुरू हो गई, इस बात शिक्षा विभाग 10 और 12 वीं दोनों कक्षाओं के परिणाम एक साथ जारी करने की घोषणा की है। यही वजह है कि उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन भी परीक्षा समाप्त होते ही शुरू कर दी जाएगी।

समय पर कार्यमुक्त नही किया तो कार्रवाई

राज्य शासन ने अधिसूचना जारी कर परीक्षाओं के कामों को अनिवार्य सेवा घोषित किया है। इसमें किसी भी तरह की अवमानना करने वालों के विरुद्ध कार्रवाई होगी। इसके चलते प्राचार्यों को जिन अध्यापकों की ड्यूटी कापी चेक करने के लिए लगी है, उन्हें तय समय के अंदर कार्यमुक्त करना होगा। ऐसा नहीं करने वाले प्राचार्यों के खिलाफ जिला शिक्षा अधिकारी कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे।