• Home
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • फर्जीवाड़े की शिकायत पर पहले बीईओ से मिले फिर छात्र संघ ने साधी चुप्पी
--Advertisement--

फर्जीवाड़े की शिकायत पर पहले बीईओ से मिले फिर छात्र संघ ने साधी चुप्पी

शनिवार को तमनार के शासकीय हाईस्कूल तमनार में ओपन स्कूल की परीक्षा चल रही थी, जिसमें नकल के लिए कुछ लोगों द्वारा...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 03:15 AM IST
शनिवार को तमनार के शासकीय हाईस्कूल तमनार में ओपन स्कूल की परीक्षा चल रही थी, जिसमें नकल के लिए कुछ लोगों द्वारा क्वेश्चन पेपर से छेड़छाड़ किया जा रहा था।

इस बात का सबूत लेकर पहले तो एनएसयूआई के कार्यकर्ता बीईओ के पास ज्ञापन देने पहुंचे थे, लेकिन बाद में जब मीडिया ने इस ज्ञापन के बारे में पूछा तो उनके द्वारा खबर लीक न करने की बात कही गई। इस मामले में बाद में कुछ भी बता पाने से इनकार कर दिया। जिले में कुछ दिनों से ओपन स्कूल की परीक्षा चल रही है। जिले के सभी विकासखंडों में 10,12 वीं के लिए ओपन स्कूल के लिए परीक्षा का आयोजन किया गया है। शनिवार को तमनार के हाईस्कूल में 12 वीं कक्षा के लिए ओपन स्कूल परीक्षा चल रही थी। इसी दौरान केंद्र में चल रहे नकल को लेकर एनएसयूआई कार्यकर्ता बीईओ तमनार के पास पहुंचे थे। एनएसयूआई कार्यकर्ताओं का कहना था कि केंद्र में खुलेआम नकल चल रहा है। यहां तक कि कुछ दलाल, स्टाफ के साथ मिलकर क्वेश्चन पेपर में आंसर लिखकर छात्रों को बांट रहे है।

तमनार एनएसयूआई के ब्लॉक अध्यक्ष नवीन बरेठ अपने सहयोगियों के साथ मिलकर बीईओ से मिलने के लिए पहुंचे थे। इससे पहले उन्होंने भास्कर के संवाददाता से संपर्क किया था और मैसेज भी डाला था, जिसमें फोटो कापी के दुकान में क्वेश्चन पेपर फोटो कापी करते हुए देखा जा सकता था, लेकिन 5 मिनट बाद ही एनएसयूआई कार्यकर्ता ने मैसेज को डिलीट मार दिया। इसके बाद उनसे तमनार के भास्कर संवाददाता ने लगातार संपर्क कर ज्ञापन की कॉपी और ग्रुप में डाले हुए मैसेज को दोबारा डालने के लिए कहा, लेकिन उसने मना कर दिया।

डीईओ ने खुद बनाए 7 प्रकरण

डीईओ आरपी आदित्य ने बताया कि वे स्वयं शनिवार को तमनार के हाईस्कूल में मौजूद थे। उनके द्वारा 7 नकल के प्रकरण भी बनाए गए, लेकिन डीईओ ने स्कूल या उसके बाहर चल रहे किसी भी नकल के संबंध या उसकी जानकारी से इनकार किया। बीईओ ने एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं द्वारा ज्ञापन सौंपने आने की बात बताई थी, लेकिन यह नहीं बताया कि किस संबंध में ज्ञापन सौंपा गया है।

नकल प्रकरण रोकने बनाई टीम

उल्लेखनीय है कि डीईओ ने ओपन स्कूल में होने वाले नकल प्रकरण को रोकने के लिए केंद्राध्यक्ष और पर्यवेक्षक की ड्यूटी लगाई थी। जिले में कुल 11 केंद्र बनाए गए है जिसमें 22 केंद्राध्यक्ष और पर्यवेक्षक है। नकल प्रकरण न हो पर्यवेक्षक और केंद्राध्यक्ष की ड्यूटी है। इसके अलावा खुद डीईओ भी निरीक्षण के लिए मौके पर पहुंच रहे है। बावजूद नकल प्रकरण रुकने का नाम नहीं ले रहा है।

जिले में ऐसे बनाए गए है सेंटर