• Home
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • पत्नी पर बुरी नजर रखता था इसलिए भांजे और दोस्त के साथ मिलकर युवक का गला घोंटा
--Advertisement--

पत्नी पर बुरी नजर रखता था इसलिए भांजे और दोस्त के साथ मिलकर युवक का गला घोंटा

31 जनवरी की सुबह थाना सारंगढ़ परसापाली गांव में हुई हत्या के मामले में पुलिस ने हत्यारों को पकड़ लिया है। आरोपी ने...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:20 AM IST
31 जनवरी की सुबह थाना सारंगढ़ परसापाली गांव में हुई हत्या के मामले में पुलिस ने हत्यारों को पकड़ लिया है। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि युवक उसकी प|ी पर बुरी नियत रखता था। इससे नाराज होकर उसने भांजे व दोस्त के साथ मिल उसका गला दबाकर मार दिया। पुलिस ने मुख्य आरोपी के साथ उसके दो सहयोगियों को भी गिरफ्तार किया है।

परसापाली गांव में 31 जनवरी को एक अज्ञात युवक की लाश मिली थी। जांच में मृतक की पहचान परसकोल थाना कोसीर निवासी टेंगनू यादव के रूप में हुई। टेंगनू 30 जनवरी की शाम रामायण गाने के लिये घर से बीरा सिलाडीह के लिए निकला था। उसकी लाश छिंद और परसापाली के बीच मिली थी। पूछताछ में आरोपी लालाराम साहू ने बताया कि उसकी प|ी पर टेंगनू बुरी नियत रखता और छेड़खानी करता था। उसने टेंगनू को कई बार समझाइश देकर ऐसा करने से बाज आने के लिए कहा लेकिन वह नहीं माना। लालाराम इस बात को लेकर टेंगनू यादव से नाराज था और उसे हमेशा के लिए सबक सिखाना चाहता था। उसने अपने भांजे गोपाल साहू 28 वर्ष निवासी हसौद और उसके दोस्त कोमलाल साहू 37 वर्ष निवासी हसौद को टेंगून की हत्या की प्लानिंग में शामिल किया। आरोपी ने फोन पर अपने भांजे और दोस्त को टंगनियापारा परसपुर के पास बुलाया। आरोपी गोपाल साहू कोमलाल दोनों बाइक से लालाराम साहू के पास पहुंचे।

तीनों ने घटना के पहले आपस में बातचीत कर एक दूसरे का रोल डिसाइड किया। लालाराम ने अपने साथ लाया गमछा गोपाल साहू को दिया। लालाराम ने भांजे और दोस्त को परसकोल जाकर दूर से टेगनू यादव की पहचान करा दी। पहचान हो जाने के बाद दोनों युवक टेगनू यादव के पास गए और उसे मौजमस्ती कराने के बहाने बाइक पर बिठाकर ढाबा ले आए। यहां शराब पीने के बाद वापस में वे अधेड़ को सुनसान रास्ते परसापाली खार की तरफ से ले जाने लगे। इसके बाद बीच रास्ते में स्कार्फ गमछा से टेंगनू यादव का गला घोंट दिया। हत्या कबूल करने के बाद उन्हें जेल दाखिल करा दिया गया है। मामले में पुलिस ने खुलासा तो कर दिया लेकिन पुलिस को मामले का सुराग कैसे मिला और आरोपियों तक कैसे पहुंची यह नहीं बता पाई।

परिजन के शक पर दिशा से भटक गई थी जांच मृतक के बेटे राधेश्याम यादव ने अपने मामा इंजिल यादव छिंद पर शक जाहिर किया था। मृतक के बेटे ने पूर्व में उसके मामा द्वारा झगड़ा-विवाद होने से घटना हत्या करने की आंशका जाहिर की गई थी। हालांकि पुलिस ने जांच में अभी तक उसके मामा के विरुद्ध कुछ नहीं मिला। इस कारण से पुलिस कुछ समय के लिए जांच की दिशा से भटक भी गई थी, हालांकि पुलिस समय रहते सही आरोपियों तक पहुंच भी गई।

पुलिस गिरफ्त में आरोपी।