रायगढ़

  • Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • जिला अस्पताल में 1 ही घर के 3 पीलिया मरीज पर दवा नहीं हाेने से स्मार्ट कार्ड से खरीद रहे
--Advertisement--

जिला अस्पताल में 1 ही घर के 3 पीलिया मरीज पर दवा नहीं हाेने से स्मार्ट कार्ड से खरीद रहे

भास्कर न्यूज | जांजगीर-चांपा जिला अस्पताल में पीलिया की दवाइयां पिछले पंद्रह दिनों से नहीं है। यहां खैरताल के एक...

Dainik Bhaskar

May 03, 2018, 02:45 AM IST
जिला अस्पताल में 1 ही घर के 3 पीलिया मरीज पर दवा नहीं हाेने से स्मार्ट कार्ड से खरीद रहे
भास्कर न्यूज | जांजगीर-चांपा

जिला अस्पताल में पीलिया की दवाइयां पिछले पंद्रह दिनों से नहीं है। यहां खैरताल के एक ही घर पीलिया के तीन पिछले सप्ताह भर से इलाज के लिए भर्ती हैं, लेकिन दवा नहीं होने के कारण स्मार्ट कार्ड के पैकेज से उनका इलाज किया जा रहा है।

राजधानी में पीलिया को लेकर हाईकोर्ट ने सख्त निर्देश दिया है, लेकिन जिले में इसका असर नहीं दिख रहा है। हालांकि जिले में हाल ही में पीलिया से मौत के मामले सामने नहीं आए हैं, पर जिले के सबसे बड़े सरकारी जिला अस्पताल में पीलिया की दवाइयां नहीं होना गंभीर मामला है। 24 से अस्पताल में खैरताल की हीराबाई और उसका बेटा सुरेश कुमार दिवाकर भर्ती हैं। 30 अप्रैल को उसकी बहु मंजू को भी पीलिया की शिकायत पर भर्ती किया गया है। सुरेश दिवाकर ने बताया कि अस्पताल में दवाई नहीं मिलने के कारण उन लोगों ने रेडक्रास की दुकान से दवाइयां खरीदी है। अभी भी हीराबाई और सुरेश का पीलिया कम नहीं हुआ है।

सीएस का कहना पीलिया की दवा की सप्लाई ही नहीं होती

जिला अस्पताल में भर्ती पीलिया के मरीज

ये है वजह: घर के बोर के पास है घुरवा

सुरेश दिवाकर ने बताया कि उसके घर में खुद का बोर है उसी बोर का पानी वे लोग उपयोग करते हैं। उसने बताया कि बोर के पास ही घुरवा भी है। हाल में शादी होने के कारण पानी का उपयोग अधिक हुआ है, वह पानी घुरवा में गया है, यही प्रदूषित पानी बोर में पहुंचा होगा।

सरकारी सप्लाई ही नहीं: सीएस


पीलिया होने पर पिता भी था भर्ती

सुरेश कुमार दिवाकर ने बताया कि उसके पिता हरिराम दिवाकर को कमजोरी व बुखार की शिकायत पर 12 अप्रैल को भर्ती किया गया था। उसे भी पीलिया था, घर में शादी हाेने के कारण उसे 16 अप्रैल को घर ले गए थे।

कम नहीं हो रहा पीलिया

जिला अस्पताल में हीराबाई, सुरेश को जनरल वार्ड में रखा गया है। दोनों को जब भर्ती किया गया उस दिन सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार खून में पीलिया की मात्रा हीराबाई को 10.20 ग्राम थी जो बुधवार को 9.40 ग्राम था वहीं सुरेश कुमार का कम होने के बजाय और बढ़ गया, बुधवार को प्राइवेट लैब में कराए गए टेस्ट के अनुसार 10 ग्राम बताया गया।

X
जिला अस्पताल में 1 ही घर के 3 पीलिया मरीज पर दवा नहीं हाेने से स्मार्ट कार्ड से खरीद रहे
Click to listen..