• Home
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • 16 मई से 1 माह तक नहीं कर सकेंगे शुभ कार्य
--Advertisement--

16 मई से 1 माह तक नहीं कर सकेंगे शुभ कार्य

ज्येष्ठ महीना एक मई से शुरू होकर 28 जून तक। भास्कर न्यूज | जशपुरनगर मंगलवार से शुरू हुआ हिन्दू पंचांग का ज्येष्ठ...

Danik Bhaskar | May 03, 2018, 02:50 AM IST
ज्येष्ठ महीना एक मई से शुरू होकर 28 जून तक।

भास्कर न्यूज | जशपुरनगर

मंगलवार से शुरू हुआ हिन्दू पंचांग का ज्येष्ठ महीना इस साल दो बार पड़ रहा है। हिन्दू धर्म ग्रंथों के अनुसार जब किसी वर्ष कोई महीना दो बार पड़ता है तो बीच के दिनों को पवित्र पुरुषोत्तम मास के नाम से जाना जाता है।

पुरुषोत्तम मास में भगवान की कथा सुनने, दान पुण्य करने और तीर्थ क्षेत्रों की यात्रा करने को विशेष महत्व दिया गया है। पर इस माह में मांगलिक कार्यों पर रोक लग गई है। ज्येष्ठ महीना एक मई से शुरू होकर 28 जून तक रहेगा। ज्येष्ठ महीना शुरू होने के 15 दिनों बाद 16 मई से लेकर 13 जून तक की अवधि को पुरुषोत्तम मास (मल मास) के रूप में मनाया जाएगा। इस दौरान भगवान विष्णु की पूजा, विष्णु सहस्त्रनाम, श्रीमद्भागवत कथा का श्रवण करना, दान-पुण्य करना, ब्रज क्षेत्र की तीर्थ यात्रा करना अति पुण्यदायी माना गया है।

पुरुषोत्तम माह शुरू होने के 15 दिन पहले और पुरुषोत्तम माह खत्म होने के बाद के 15 दिनों को साधारण ज्येष्ठ के रूप में मनाया जाएगा। इस तरह देखा जाए तो एक मई से 15 मई तक और फिर इसके बाद 14 जून से 28 जून तक की अवधि को साधारण ज्येष्ठ महीना के रूप में मनाया जाएगा।

तीसरे साल बनता है पुरुषोत्तम मास का संयोग

हिन्दू पंचांग के अनुसार जब तिथियों में घट-बढ़ होती है तब कोई महीना 30 का और कोई 28 या 29 दिन का होता है। इस तरह तीन साल में लगभग 30 दिनों की बढ़ोतरी होती है। इस वजह से तीन साल में एक बार अधिकमास (पुरुषोत्तम मास) मनाया जाता है।