• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • 4.5 साल में विधानसभा के 14 सत्र, उमेश ने पूछे 561 प्रश्न तो केरा बाई ने मात्र 94
--Advertisement--

4.5 साल में विधानसभा के 14 सत्र, उमेश ने पूछे 561 प्रश्न तो केरा बाई ने मात्र 94

विधानसभा का मानसून सत्र समाप्त हो गया है। इसे वर्तमान कार्यकाल का आखिरी सत्र माना जा रहा है। इस सत्र के बाद...

Dainik Bhaskar

Jul 14, 2018, 03:05 AM IST
4.5 साल में विधानसभा के 14 सत्र, उमेश ने पूछे 561 प्रश्न तो केरा बाई ने मात्र 94
विधानसभा का मानसून सत्र समाप्त हो गया है। इसे वर्तमान कार्यकाल का आखिरी सत्र माना जा रहा है। इस सत्र के बाद विधायकों की विधानसभा में मौजूदगी व क्षेत्र से जुड़े उन्होंने कितने सवाल किए यह रिपोर्ट कार्ड भी छग विधानसभा की वेबसाइट पर जारी हो चुका है। साढ़े 4 साल में विधान सभा के 14 सत्र बुलाए गए, जिसमें 22 हजार 892 प्रदेश के विधायकों ने विधानसभा में उठाया। रायगढ़ जिले के पांचों विधायकों की बात करें तो इसमें खरसिया के कांग्रेस विधायक उमेश पटेल सबसे आगे रहे। उन्होंने 561 सवाल किया है, दूसरे नंबर पर कांग्रेस के ही धरमजयगढ़ विधायक लालजीत सिंह राठिया ने 384 सवाल किए, वहीं बीजेपी के रायगढ़ व सारंगढ़ विधायक फिसड्डी साबित हुए।

रायगढ़ के रोशन ने 177, सारंगढ़ की केरा बाई मनहर ने 94 सवाल किए। छत्तीसगढ़ विधानसभा की वेबसाइट के अनुसार नवंबर 2013 में हुए विधानसभा चुनाव के बाद विधायकों की पहली बैठक 6 जनवरी से 25 फरवरी 14 तक हुई। पहले सत्र में ही 23 दिनों तक बैठकें चलीं, तब से अब तक 14 बार सत्र बुलाए गए, जिसमें 138 बैठकें हुई। इसमें केरा बाई मनहर सबसे अधिक 131, उमेश पटेल 125, लालजीत सिंह राठिया 117 और रोशन लाल 116 में ही शामिल हुए, वहीं लैलूंगा विधायक सुनीति राठिया इसमें भी कमजोर रही और मात्र 44 दिनों की ही उपस्थिति दर्ज करवाई। हालांकि सुनीति राठिया 22 मई 15 को संसदीय सचिव बन गई इसलिए सरकार का हिस्सा होने के कारण उन्हें उपस्थिति पत्रक में हस्ताक्षर करने से छूट मिल गई।

रोशनलाल 116 दिन सदन में उपस्थित हुए और किए 177 सवाल

सबसे ज्यादा सवाल देवजी ने पूछे

विधानसभा में 14 सत्र हुए, जिनमें बजट सत्र, मानसून सत्र और शीतकालीन सत्र शामिल हैं। सभी सत्र को मिलाकर पूरे प्रदेश के विधायकों ने 22 हजार 892 सवाल किए। 5 सालों में सबसे ज्यादा 596 सवाल भाजपा विधायक देवजी भाई पटेल ने पूछे हैं। 16 विधायकों ने 500 से ज्यादा सवाल पूछे, 12 ने 400 से 500 के बीच सवाल पूछे व 10 विधायकों ने 300 से 400 के बीच सवाल पूछे। बाकियों ने इनसे कम ही सवाल पूछे। पीसीसी चीफ भूपेश बघेल ने 539 नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने 575, प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष रामदयाल उइके ने मात्र 103, युकां प्रदेश अध्यक्ष उमेश पटेल ने 561, अमित जोगी ने 512 तो निर्दलीय विधायक विमल चोपड़ा ने 539 सवाल किए हैं।

भास्कर न्यूज | रायगढ़

विधानसभा का मानसून सत्र समाप्त हो गया है। इसे वर्तमान कार्यकाल का आखिरी सत्र माना जा रहा है। इस सत्र के बाद विधायकों की विधानसभा में मौजूदगी व क्षेत्र से जुड़े उन्होंने कितने सवाल किए यह रिपोर्ट कार्ड भी छग विधानसभा की वेबसाइट पर जारी हो चुका है। साढ़े 4 साल में विधान सभा के 14 सत्र बुलाए गए, जिसमें 22 हजार 892 प्रदेश के विधायकों ने विधानसभा में उठाया। रायगढ़ जिले के पांचों विधायकों की बात करें तो इसमें खरसिया के कांग्रेस विधायक उमेश पटेल सबसे आगे रहे। उन्होंने 561 सवाल किया है, दूसरे नंबर पर कांग्रेस के ही धरमजयगढ़ विधायक लालजीत सिंह राठिया ने 384 सवाल किए, वहीं बीजेपी के रायगढ़ व सारंगढ़ विधायक फिसड्डी साबित हुए।

रायगढ़ के रोशन ने 177, सारंगढ़ की केरा बाई मनहर ने 94 सवाल किए। छत्तीसगढ़ विधानसभा की वेबसाइट के अनुसार नवंबर 2013 में हुए विधानसभा चुनाव के बाद विधायकों की पहली बैठक 6 जनवरी से 25 फरवरी 14 तक हुई। पहले सत्र में ही 23 दिनों तक बैठकें चलीं, तब से अब तक 14 बार सत्र बुलाए गए, जिसमें 138 बैठकें हुई। इसमें केरा बाई मनहर सबसे अधिक 131, उमेश पटेल 125, लालजीत सिंह राठिया 117 और रोशन लाल 116 में ही शामिल हुए, वहीं लैलूंगा विधायक सुनीति राठिया इसमें भी कमजोर रही और मात्र 44 दिनों की ही उपस्थिति दर्ज करवाई। हालांकि सुनीति राठिया 22 मई 15 को संसदीय सचिव बन गई इसलिए सरकार का हिस्सा होने के कारण उन्हें उपस्थिति पत्रक में हस्ताक्षर करने से छूट मिल गई।

बतौर विधायक सुनीति राठिया 4 सत्र में शामिल हुईं सवाल पूछे मात्र 2

लैलूंगा विधायक सुनीति राठिया विधायक के बतौर 4 सत्र में शामिल हुए, चारों सत्र 43 दिनों तक चला। पहले सत्र में एक भी सवाल नहीं किया। दूसरे व तीसरे में एक भी सवाल नहीं किए। चौथे सत्र में ही उन्होंने कुल 2 सवाल पूछे 22 मई 2015 को वे संसदीय सचिव बन चुके थे इसलिए इसके बाद जुलाई 2015 में शुरू हुए सत्र से उन्होंने कोई सवाल नहीं किया। क्योंकि मुख्यमंत्री, मंत्री, संसदीय सचिव सरकार के अंग हैं इसलिए वे सवाल नहीं पूछते। वहीं विस अध्यक्ष, उपाध्यक्ष भी सवाल नहीं करते हैं।

किस विधायक ने कितने सवाल किए और कितने दिन रहे सदन में उपस्थित

विधायक सवाल उपस्थिति

रोशन लाल अग्रवाल 177 116

केरा बाई मनहर 94 131

सुनीति राठिया 02 44

उमेश पटेल 561 125

लालजीत सिंह राठिया 384 117

नोट: लैलूंगा विधायक 22 मई 15 से संसदीय सचिव इसलिए उपस्थिति से छूट व सवाल कम। ये सारी जानकारी विधानसभा की वेबसाइट से ली गई है।

X
4.5 साल में विधानसभा के 14 सत्र, उमेश ने पूछे 561 प्रश्न तो केरा बाई ने मात्र 94
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..