• Home
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • जायसवाल निको की ईडी ने रायपुर, बिलासपुर में 101 करोड़ की संपत्ति जब्त की
--Advertisement--

जायसवाल निको की ईडी ने रायपुर, बिलासपुर में 101 करोड़ की संपत्ति जब्त की

कोयला घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को जायसवाल निको इंडस्ट्रीज के रायपुर और बिलासपुर में 101...

Danik Bhaskar | Jul 14, 2018, 03:10 AM IST
कोयला घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को जायसवाल निको इंडस्ट्रीज के रायपुर और बिलासपुर में 101 करोड़ की संपत्ति मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत जब्त कर लिया। ईडी जल्द ही धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार के तहत समूह के एमडी अरविंद जायसवाल, संयुक्त एमडी रमेश जायसवाल और मनोज जायसवाल के खिलाफ चार्जशीट भी दायर करेगा। इनमें से मनोज जायसवाल पारिवारिक विभाजन के बाद अभी अभिजीत इंफ्रा लिमिटेड के निदेशक हैं। यह मामला विशेष न्यायाधीश पटियाला हाउस नई दिल्ली में चल रहा है। ईडी रायपुर के आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक कंपनी के खिलाफ साल 2014 में केस दर्ज किया गया था। एक साल की जांच के बाद ईडी ने पिछले साल शेष|पेज 5





जून में 206 करोड़ की संपत्ति अटैच किया था। और अब 101 करोड़ की संपत्ति । कंपनी पर आरोप है कि रायगढ़ के गारेपेलमा सब ब्लाक, 4/4 को निको जायसवाल ने धोखाधड़ी आैर गलत तरीके से हासिल किया था। कंपनी ने अपने कैप्टिव पावर प्लांट में बिना किसी अनुमति के कोल खनन भी शुरू कर दिया था। इतना ही नहीं इस खदान के एलाटमेंट के बाद कंपनी ने अपने एक्सपांशन प्लान बता बड़ी मात्रा में शेयर जारी कर लगभग 1400 करोड़ रुपए की राशि भी जुटाई। इसके मुताबिक कंपनी को रायगढ़ या रायपुर में कोल वाशरी लगाना था लेकिन ऐसा नहीं किया गया। लेकिन अपने कैप्टिव उपयोग के लिए कोल खनन करते रही। कंपनी ने 2006 से 2015 के दौरान खदान से 3.8 मिलियन टन कोयला निकाला था। कंपनी अपने सालाना माइन प्लान से परे जाकर एक्सेसिव खनन किया। इसे लेकर छत्तीसगढ़ प्रदूषण बोर्ड ने भी कंपनी को नोटिस जारी किया था। ईडी ने इसे अपराधिक मानते हुए जायसवाल निको इंडस्ट्रीज के सिलतरा (रायपुर) स्थित आफिस सहित एकीकृत इस्पात संयत्र की 80 करोड़ आैर बिलासपुर स्थित संयंत्र में 21 करोड़ की संपत्ति जब्त कर ली है। जांच जारी है।

(

कोल ब्लॉक घोटाले में दो जगह की गई कार्रवाई