• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • दो दिन की छुट्टी से अस्पताल में नहीं हो पाया इलाज
--Advertisement--

दो दिन की छुट्टी से अस्पताल में नहीं हो पाया इलाज

रविवार और सोमवार को सरकारी छुट्टी रही। इन दोनों दिन मेकाहारा में मरीजों को बेहतर उपचार नहीं मिल पाया। ओपीडी बंद...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:20 AM IST
दो दिन की छुट्टी से अस्पताल में नहीं हो पाया इलाज
रविवार और सोमवार को सरकारी छुट्टी रही। इन दोनों दिन मेकाहारा में मरीजों को बेहतर उपचार नहीं मिल पाया। ओपीडी बंद रहे। सिर्फ इमरजेंसी केस के मरीजों को भर्ती किया गया। ओपीडी बंद रहने से गांवों से पहुंचे मरीज हताश होकर लौट गए। मौसम में उतार- चढ़ाव के कारण इन दिनों सर्दी, बुखार के मरीजों की संख्या भी बढ़ती जा रही है। ऐसे में लोग मेकाहारा अस्पताल में बेहतर और मुफ्त इलाज की उम्मीद लिए पहुंच रहे हैं, लेकिन यहां आकर उनकी परेशानी और बढ़ रही है।

ओपीडी बंद है, जिसके कारण लोगों को मजबूरी में प्राइवेट क्लीनिक में महंगा इलाज कराना पड़ रहा है। अस्पताल में दो दिन की छुट्टी थी। रविवार के बाद सोमवार को बुद्ध पूर्णिमा थी। ऐसे में दोनों दिन ओपीडी बंद रही। आज ओपीडी शुरू होगी। यहां सर्दी-खांसी जैसे मामूली बीमारी के इलाज के लिए लोगों को निजी अस्पताल की सेवाएं लेनी पड़ी। रविवार और सोमवार तक अन्य सरकारी विभागों की तरह मेकाहारा में भी अवकाश रहा। 24 घंटे की अनिवार्य सेवा है, पर छुट्टी के दिनों में केवल इमरजेंसी केस देखे जाते हैं। सामान्य बीमारी का इलाज नहीं हो पाता। सोमवार सुबह करीब साढ़े 12.30 बजे अस्पताल में 10 साल के बच्चे का इलाज कराने के लिए ग्राम अमली पाली से लोग पहुंचे थे। बच्चे को लेकर वे ओपीडी की तरफ बढ़े। वहां पर एक वार्ड ब्वाय मिला, जिसने छुट्टी होने का हवाला देकर कहा कि ओपीडी बंद है। गंभीर मरीज को भर्ती किया जा सकता है, लेकिन सर्दी और बुखार जैसी सामान्य बीमारी का इलाज नहीं होगा। डॉक्टरों ने इसके लिए मना किया है। इस पर वे हताश होकर बच्चे को लेकर अस्पताल से बाहर चले गए। अस्पताल में इलाज के लिए पहुंचने वालों में अधिकांश गरीब वर्ग से होते हैं। निजी अस्पताल का खर्च नहीं उठा पाने के कारण वे सरकारी अस्पताल पहुंचते हैं। यहां सरकारी छुट्टी के दिनों में इलाज नहीं होने से ऐसे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मेल सर्जिकल वार्ड रविवार व सोमवार को डॉक्टर राउंड पर ही नहीं आए।

जो भर्ती हैं उनकी भी अनदेखी....

दो दिन से बेहोश का इलाज नहीं: सरसीवां निवासी नसीब दास निराला शनिवार को मोटरसाइकल में एक्सीडेंट हो गया। बलौदाबाजार के पास उसकी दुर्घटना हुई। वहां से रिफर होकर वह मेकाहारा पहुंचा। मेल सर्जिकल वार्ड में कल सुबह से वह भर्ती है। सिर में चोट लगने के कारण वह बेहोश है। रविवार के बाद सोमवार को भी डॉक्टर नहीं आने से उसका इलाज नहीं हुआ।

केस नंबर 1

अस्पताल में भर्ती मरीज।

पेट की बीमारी से ग्रसित मरीज को सर्जिकल वार्ड में कर दिए भर्ती: लैलूंगा के लम डांड निवासी मया राम राठिया को पेट संबंधी परेशानी है। परिजन ने बताया उसके पेट में गैस भर गया है। शनिवार को उसे मेकाहारा लेकर आए। यहां के डॉक्टरों की लापरवाही देखिए उस मरीज को मेल सर्जिकल वार्ड में भर्ती कर दिये हैं। इतना ही नहीं दो दिन से उसके पास डॉक्टर भटकने भी नहीं गए।

केस नंबर 2

X
दो दिन की छुट्टी से अस्पताल में नहीं हो पाया इलाज
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..