Hindi News »Chhatisgarh »Raigarh» गर्जना टीम ने कहा- सामान अगर है मेरा, तो सुरक्षा की जिम्मेदारी भी मेरी

गर्जना टीम ने कहा- सामान अगर है मेरा, तो सुरक्षा की जिम्मेदारी भी मेरी

समान अगर है मेरा, तो जिम्मेदारी भी है मेरी, इसी सोच को लेकर रेल यात्रियों में आत्मरक्षा का प्रशिक्षण रेल गर्जना की...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 18, 2018, 03:40 AM IST

समान अगर है मेरा, तो जिम्मेदारी भी है मेरी, इसी सोच को लेकर रेल यात्रियों में आत्मरक्षा का प्रशिक्षण रेल गर्जना की टीम दे रही है। गुरुवार को दोपहर 1 बजे से रेल गर्जना की टीम महिला रेल यात्रियों को आत्मरक्षा के गुर बताए। कार्यक्रम का आयोजन रायगढ़ रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर किया गया।

इसमें लोगों को अपने ़सामानों की सुरक्षा करने के टिप्स भी दिए गए। रेल गर्जना द्वारा चलती ट्रेन व प्लेटफार्म पर लोगों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इस अभियान की शुरुआत जीआरपी द्वारा स्वयंसेवकों के सहयोग से 14 मई को रायपुर रेलवे स्टेशन से किया गया था। रेल गर्जना टीम के मोहम्मद सिराज ने बताया कि रायपुर से भिलाई और भिलाई से दुर्ग चलती लोकल ट्रेन में भी प्रशिक्षण कार्यक्रम हुआ है। उन्होंने बताया कि अगला आयोजन राजनांदगांव में है। एसआर पी मिलना कुर्रे की सोच को जमीन पर उतारने का काम हर्षा साहू और उनकी टीम कर रही है। इस संबंध में मिलिना कुर्रे ने बताया कि ट्रेन में महिला के साथ छेड़खानी, पर्स छिनैती, सहित अन्य घटनाएं आए दिन सुनने में आती है, तो हमलोगों ने सोचा कि क्यों न महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाएं ताकि वह अपनी रक्षा कर सके। इसके लिए मितान पुलिस के साथ मिलकर रेल गर्जना शुरू किए। इसकी शुरुआत हमने रायपुर रेलवे स्टेशन से किए थे, जो राज्य के अन्य जिलों में 14 से 20 मई तक चलेगा। उन्होंने बताया कि भविष्य में रेलवे स्टेशन के अलावा शहरों व गांवों में जाकर सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग देने की है। उन्होंने स्टेशन में टीम के सहयोग से चैन स्नैचिंग, बैग छिनने से रोकना सहित आत्मरक्षा के गुण बताएं। इस अवसर पर विधायक रौशन लाल अग्रवाल, एसपी दीपक झा सहित विभिन्न सामाजिक संगठन के लोग उपस्थित रहे।

ट्रेन में सफर के दौरान यह सावधानी बरतें

राष्ट्रीय कराटे चैंपियन हर्षा साहू ने बताया कि महिलाओं को अपने पर्स का चैन वाला हिस्सा सामने रखना चाहिए। इससे ट्रेन में चढ़ते वक्त आपके पीछे से बैग में से कोई समान नहीं निकाल पाएगा।

पुरूषों को अपने बटुए पीछे की पॉकेट में ना रखकर सामने के पॉकेट में रखना चाहिए।

खड़े रहने पर पीछे से कोई छेड़खानी करें तो कोहनी से उसके पेट पर वार करें।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Raigarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×