• ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

Best of City

विवेकानंद सरोवर (बूढ़ा तालाब )

विवेकानंद सरोवर शहर के बीचो-बीच स्थित है, हालांकि इसकी पहचान बूढ़ा तालाब के रूप में भी है। इसके साथ कई महापुरुषों की स्मृतियां जुड़ी हुई हैं। यह राजधानी का एक ऐसा पर्यटन स्थल है जिसका अपना ऐतिहासिक महत्व है। तालाब को ६०० वर्ष पहले कल्चुरी वंश के राजाओं द्वारा खुदवाया गया था। इतिहासकारों के मुताबिक यह पहले १५० एकड़ में था जो अब मात्र लगभग ६० एकड़ में ही सीमित हो गया है। तालबा के बीच में बनीं विवेकानंद की विशाल मूर्ति और उद्यानों की साज सज्जा इसे एक बेहतरीन पर्यटन स्थल का रूप देती है। यहां आप वोटिंग का आनंद भी ले सकते हैं। शाम के समय तालाब में उभरती दूधिया रोशनी यहां की सुंदरता को बढ़ा देती है और बेहद मनोरम दृश्य देखने लायक हो जाता है। युवाओं का तो यहां जमघट लगता ही है साथ ही परिवार के साथ यहां घूमने आने वालों को भी यह बेहद पसंद आता है। तालबा के आसपास ऐसे बहुत से ठिकाने हैं जहां आप स्वाद का आनंद भी ले सकते हैं। यह जानना आपके लिए रोचक रहेगा कि तालाब के पास स्थानीय महापुरुषों के अलावा स्वामी विवेकानंद ने भी अपने जीवन के कुछ वर्ष बिताया था । १४ वर्ष की आयु में स्वामी विवेकानंद जब रायपुर आये थे तो वे इस तालाब में तैरकर बीच टापू तक जाते थे, इस कारण से वहां अभी विवेकानंद की विशाल प्रतिमा स्थापित है।

Address: बूढा पारा के पास, रायपुर

दोस्तों से शेयर करें

Email 
 
  
 
विज्ञापन

RECOMMENDED