--Advertisement--

राजधानी में नमी के चलते आसमान में बादल, शाम तक चल सकती हैं तेज हवाएं

बुधवार को तापमान 42 डिग्री के आस-पास है और आसमान में हल्के बादल हैं।

Dainik Bhaskar

May 02, 2018, 12:06 PM IST
मंगलवार शाम को पानी की बौछार से नहा गया शहर। मंगलवार शाम को पानी की बौछार से नहा गया शहर।

रायपुर। शहर में अप्रैल महीने से ही मौसम रह-रहकर अपनी करवटें ले रहा है। मई महीने के शुरुआती दिन मंगलवार को मौमस का रुख शाम 4 बजे तक एकदम पलट गया। 43 डिग्री सेंटीग्रेट तापमान और तेज गर्मी से लोगों को राहत मिली। वहीं तेज आंधी ने कई पेड़ों को उखाड़ फेंका। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक बुधवार को तापमान 42 डिग्री के आस-पास है और आसमान में हल्के बादल हैं।

- मंगलवार को राजधानी को एक बार फिर अंधड़ और तूफानी हवा ने परेशान कर दिया। मंगलवार की शाम करीब 5 बजे 10 मिनट तक 40 किमी से ज्यादा रफ्तार से चली तूफानी हवा से पेड़ों की टहनियां और सैकड़ों बड़े-छोटे होर्डिंग्स फट कर उड़ने लगे और बिजली के तारों पर गिरे।

- इस वजह से दो दर्जन से ज्यादा ट्रांसफार्मर शार्ट होकर फेल हो गए और आधे शहर में बिजली सप्लाई ठप रही। घने शहरी इलाके में तो बिजली सामान्य कर ली गई, लेकिन आउटर की दो दर्जन से ज्यादा कालोनियों और बस्तियों में रात 12 बजे तक बिजली नहीं आई।

- इस अंधड़ से शहर और आउटर में दर्जनों पेड़ या तो पूरी तरह गिरे या टहनियों से सड़कें ब्लॉक हो गईं। क्रेनों से पेड़ हटाए गए, तब जाकर कुछ सड़कें आधी रात के बाद खुलीं।

ओडिशा के तूफान का असर, 15 मिनट में आधा सेमी बारिश


- करीब 15 मिनट में राजधानी में आधा सेमी पानी गिरा। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि नमी आने का सिलसिला अभी एक-दो दिन रहेगा। बुधवार को भी दोपहर बाद या शाम के हल्के बादल और हवा चलने की संभावना है। मौसम विज्ञानियों ओडिशा के आसपास बने चक्रवात की वजह से समुद्र से बड़ी मात्रा में नमी आ रही है।

- शाम को साढ़े पांच बजे के रिकाॅर्ड के अनुसार राजधानी में नमी 61 फीसदी थी। सुबह भी वातावरण में नमी 42 फीसदी के आसपास थी। मौसम विज्ञानियों के अनुसार दिन में शहर में तापमान 42 डिग्री के आसपास रहा। तेज गर्मी के कारण लोकल सिस्टम बना।

- सिस्टम के कारण हवा के कम दबाव वाले इस जगह को भरने के लिए नमीयुक्त हवा तेजी से आई। इसी वजह से करीब 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से अंधड़ चला। इससे कई पुराने पेड़ भी उखड़ गए। शंकर नगर इलाके में पेड़ गिरने की वजह से जाम लग गया। क्रेन से पेड़ हटाया गया, तब रास्ता साफ हुआ।

- जीई रोड में जगह-जगह पेड़ की डंगाल और कहीं-कहीं छोटे पेड़ ही धराशाई हो गए।

कई इलाकों में घंटों बिजली बंद


- तेज आंधी और बारिश के कारण शहर के कई इलाके देर रात तक अंधेरे में डूबे रहे। खासकर गुढ़ियारी में रात 9 बजे तक बिजली बंद रही। रामसागर पारा, बढ़ईपारा, संतोषी नगर, टिकारपारा, लाखे नगर, एकता नगर सहित कई इलाकों में बिजली बंद रही। कुछ-कुछ जगहों पर तेज हवा के कारण ट्रांसफार्मर में फाल्ट आ गया तो कुछ जगहों पर बिजली के तार भी टूटकर गिर गए।


गरज-चमक से गिरा तापमान

- नमी की वजह से राज्य के ज्यादातर हिस्सों में दिन का तापमान गिरा हुआ है। सबसे ज्यादा तापमान माना में 41.6 डिग्री रहा। बिलासपुर, पेंड्रारोड, अंबिकापुर में तापमान 40 डिग्री से नीचे पहुंच गया है। जगदलपुर में सबसे कम 33.8 डिग्री पहुंच गया।

- मौसम विज्ञानियों के अनुसार बुधवार को भी नमी की वजह से राजधानी में शाम को हल्के बादल छाने की संभावना है। दिन में तापमान 42 डिग्री के आसपास रहेगा।


तेज आंधी से होर्डिंग टूटकर हाईटेंशन तारों पर जा गिरे थे, जिससे शॉर्ट सर्किट हो गया था। तेज आंधी से होर्डिंग टूटकर हाईटेंशन तारों पर जा गिरे थे, जिससे शॉर्ट सर्किट हो गया था।
शहर के कई इलाकों में पेड़ गिरने से मार्ग भी अवरुद्ध हो गया था। शहर के कई इलाकों में पेड़ गिरने से मार्ग भी अवरुद्ध हो गया था।
X
मंगलवार शाम को पानी की बौछार से नहा गया शहर।मंगलवार शाम को पानी की बौछार से नहा गया शहर।
तेज आंधी से होर्डिंग टूटकर हाईटेंशन तारों पर जा गिरे थे, जिससे शॉर्ट सर्किट हो गया था।तेज आंधी से होर्डिंग टूटकर हाईटेंशन तारों पर जा गिरे थे, जिससे शॉर्ट सर्किट हो गया था।
शहर के कई इलाकों में पेड़ गिरने से मार्ग भी अवरुद्ध हो गया था।शहर के कई इलाकों में पेड़ गिरने से मार्ग भी अवरुद्ध हो गया था।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..