--Advertisement--

130 जवानों में अकेली ये महिला तैनात, जहां खौफ के चलते 30 साल नहीं हो सका था काम

छत्तीसगढ़ की रावघाट रेल प्रोजेक्ट के बजाय देश में नक्सल मूवमेंट के कारण प्रसिद्ध है।

Danik Bhaskar | Mar 08, 2018, 08:15 AM IST
असिस्टेंट कमांडेंट निहारिका सिन्हा। असिस्टेंट कमांडेंट निहारिका सिन्हा।

रायपुर. छत्तीसगढ़ की रावघाट रेल प्रोजेक्ट के बजाय देश में नक्सल मूवमेंट के कारण प्रसिद्ध है। नक्सलियों का खौफ इतना कि 30 साल तक प्रोजेक्ट पर काम ही शुरू नहीं हुआ। रेलवे ने सेफ्टी देने में असमर्थता जाहिर कर दी थी। लेकिन इसी खौफ के बीच प्रोजेक्ट को सेफ्टी देने के लिए एसएसबी के करीब 130 जवानों की कंपनी को लीड कर रही हैं असिस्टेंट कमांडेंट निहारिका सिन्हा। 7ृ-8 किलोमीटर कवर करती है कंपनी...

- प्रोजेेक्ट के अंतर्गत बिछाई जाने वाली पटरी के लिए अभी काम चल रहा है। भानुप्रतापपुर से अंतागढ़ रोड पर स्टेट हाइवे के समानांतर प्रोजेक्ट चल रहा है।

- दोनों आेर रिजर्व फॉरेस्ट है, कुछ मैदानी इलाका भी है। यहां छोटे-छोटे गांव हैं जिससे होते हुए ट्रैक बनाया जा रहा है। निहारिका की कंपनी रोज 7-8 किलोमीटर तक का इलाका कवर करती है।

रावघाट रेल प्रोजेक्ट इसलिए महत्वपूर्ण

- सेल के भिलाई स्टील प्लांट को चालू रखने के लिए रावघाट रेल परियोजना लाई गई। यहां क्षेत्र की 6 डिपाॅजिट में अनुमानित 791.93 मिलियन टन अयस्क है।

- सरकार की लेट लतीफी और बीएसपी की ढिलाई के कारण 40 वर्ष से यह परियोजना शुरू ही नहीं हो सकी थी। नक्सलियों ने भी यहां पैर जमाए हुए हैं।प्रोजेक्ट एरिया जगदलपुर से 140 किमी और नारायणपुर से 29 किमी दूरी पर बनी है। निकटतम रेलवे स्टेशन दल्ली राजहरा यहां से 95 किमी दूर है।

तीन आैर युवतियां बनी थीं एसएसबी में असिस्टेंट कमांडेंट

- निहारिका ने बताया , मैं गरियाबंद के फिंगेश्वर गांव की हूं। मेरे अलावा एसएसबी में कोई दूसरा छत्तीसगढ़िया नहीं है। एसएसबी में जाने का पहले सोचा नहीं था। बस फार्म भरा आैर परीक्षा दे दी। पहले भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद दिल्ली में थी, एसएसबी बेहतर लगा इसलिए इसमें आ गई। यहां मेरे जीवनशैली में काफी बदलाव आया। कभी छिपकली से डरती थी, लेकिन अब तो मुझे फील्ड में हथियार, गोला-बारुद आैर तमाम तरह के खतरों के बीच रहने की आदत हो गई है।’’

जिस जगह निहारिका तैनात है वह इलाका नक्सल मूवमेंट के कारण प्रसिद्ध है। जिस जगह निहारिका तैनात है वह इलाका नक्सल मूवमेंट के कारण प्रसिद्ध है।