--Advertisement--

नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा में शुरू हो रहा कॉल सेंटर; 150 युवाओं ने ली अंग्रेजी बोलने की ट्रेनिंग

पहले चरण में जिन 150 युवाओं की ज्वाइनिंग होनी है, उन्हें 2 दिन की फाइनल ट्रेनिंग के लिए हैदराबाद भेजा गया है।

Dainik Bhaskar

Feb 12, 2018, 04:46 AM IST
अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर वर्क यूनिट तैयार किया गया है। अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर वर्क यूनिट तैयार किया गया है।

दंतेवाड़ा/रायपुर. छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित क्षेत्र दंतेवाड़ा की पहचान अब फर्राटेदार अंग्रेजी बोलते और टेक्नोलॉजी-फ्रेंडली युवाओं से होगी। दंतेवाड़ा में अंतरराष्ट्रीय मानकों पर आधारित बीपीओ कॉल सेंटर खोला जा रहा है। दंतेवाड़ा के समेली, महाराकरका, बीजापुर के गंगालूर, नारायणपुर के बेनूर के गांव, जहां मोबाइल नेटवर्क तक नहीं है, वहां के युवा अब मल्टीनेशनल कंपनियों के लिए काम करेंगे। कॉल सेंटर में काम के लिए युवाओं को अंग्रेजी में बात करने, गैजेट्स और टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करने की ट्रेनिंग दी जा रही है।

1000 यूथ्स को मिलेगा रोजगार

- ये कॉल सेंटर अभी 150 युवाओं को, फिर धीरे-धीरे 1000 युवाओं को रोजगार देगा। यहां के एनएमडीसी पॉलीटेक्निक कॉलेज में इन युवाओं की ट्रेनिंग भी शुरू हो चुकी है।

- पहले चरण में जिन 150 युवाओं की ज्वाइनिंग होनी है, उन्हें 2 दिन की फाइनल ट्रेनिंग के लिए हैदराबाद भेजा गया है। ट्रेनिंग पूरी होते ही ये 150 युवा कॉल सेंटर ज्वाइन कर लेंगे।

- फिर बाकी युवाओं की ट्रेनिंग कराई जाएगी। कॉल सेंटर का हॉस्टल भी है। इसमें अभी 116 लोग रह रहे हैं। जिला प्रशासन ने 15 फरवरी से कॉल सेंटर का काम शुरू कर देने का लक्ष्य तय किया है।

- प्रशासन ऐसी कंपनियों से करार कर रहा है, जिनकी क्लाइंट लिस्ट में देश-विदेश के नामी ब्रांड शामिल हैं। इन कंपनियों के आउटसोर्सिंग के काम दंतेवाड़ा काॅल सेंटर को मिल सकेंगे।

- बीपीओ का काम देख रही सिक्स जेनरेशन टेक्नोलॉजी के सीईओ राजीव ने बताया कि- अभी 10 कंपनियों ने यहां आउटसोर्सिंग के लिए रुचि दिखाई है, इनमें 2 मल्टीनेशनल हैं।

सोलर पावर से संचालित होगा ये कॉल सेंटर

- धीरे-धीरे कॉल सेंटर की पूरी निर्भरता सोलर पावर पर करके इसे ग्रीन बीपीओ बनाने की योजना है। इंटरनेट के लिए कॉल सेंटर में तीन सर्विस प्रोवाइडर की लीज लाइन है।

- निर्बाध बिजली के लिए 120 केवीए के 4 यूपीएस, 20 केवी के दो इनवर्टर लगाए गए हैं। बीपीओ के लिए 200 केवी का ट्रांसफॉर्मर लगाया गया है।

हैदराबाद में अंतिम ट्रेनिंग के बाद ये युवा बीपीओ ज्वाइन करेंगे। हैदराबाद में अंतिम ट्रेनिंग के बाद ये युवा बीपीओ ज्वाइन करेंगे।
X
अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर वर्क यूनिट तैयार किया गया है।अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर वर्क यूनिट तैयार किया गया है।
हैदराबाद में अंतिम ट्रेनिंग के बाद ये युवा बीपीओ ज्वाइन करेंगे।हैदराबाद में अंतिम ट्रेनिंग के बाद ये युवा बीपीओ ज्वाइन करेंगे।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..