--Advertisement--

कैट 2017 के नतीजे घोषित, 100 पर्सेंटाइल के 20 में से बिलासपुर के चिन्मय नेरकर

देश के 140 शहरों में 26 नवंबर को दो पालियों में करीब दो लाख उम्मीदवार कैट परीक्षा में बैठे थे।

Danik Bhaskar | Jan 09, 2018, 09:00 AM IST
चिन्मय नेरकर । चिन्मय नेरकर ।

रायपुर/नई दिल्ली. आईआईएम सहित अन्य बी-स्कूलों में एडमिशन की परीक्षा कैट 2017 के नतीजे सोमवार को जारी हो गए। आईआईएम लखनऊ ने इस साल परीक्षा कराई थी। 20 उम्मीदवारों ने 100 पर्सेंटाइल स्कोर किया है, इनमें बिलासपुर के चिन्मय हेमंत नेरकर भी शामिल हैं। रायपुर के सूर्यकांत अग्रवाल को 99.95, आयुष्मान दुबे को 99.85 पर्सेंटाइल मिले हैं। आईआईएम लखनऊ की एग्जाम कन्वीनर नीरजा द्विवेदी ने बताया कि इनमें दो छात्राएं और इंजीनियरिंग फैकल्टी के बाहर के तीन युवा हैं। कैट 2016 में भी 20 उम्मीदवारों ने 100 पर्सेंटाइल स्कोर किए थे लेकिन तब सभी इंजीनियरिंग फैकल्टी के और पुरुष थे।


- देश के 140 शहरों में 26 नवंबर को दो पालियों में करीब दो लाख उम्मीदवार कैट परीक्षा में बैठे थे। 20 आईआईएम में दो साल के पीजी प्रोग्राम में 4000 सीटें हैं।

- कैट के स्कोर, ग्रुप डिस्कशन, इंटरव्यू के आधार पर आईआईएम एडमिशन के अपने मानदंड घोषित करेंगे। कैट में सफल उम्मीदवारों के नाम और रोल नंबर संबंधित आईआईएम की वेबसाइट पर रहेंगे। हरेक आईआईएम शार्टलिस्ट उम्मीदवार को सीधे इंटरव्यू के लिए बुलाएगा। हरेक आईआईएम और बी-स्कूल का इंटरव्यू के लिए चुनाव का अपना मानदंड होगा।


ये हैं टॉप स्कोरर :
टॉप स्कोरर्स में आईआईटी मद्रास के साई प्रनीत, पटना के सिद्धार्थ कुमार, कोलकाता के विशाल वोहरा, सूरत के मीत अग्रवाल शामिल हैं। मुंबई के कोच पैट्रिक डिसूजा ने भी 100 पर्सेंटाइल स्कोर किए हैं। केवल दो छात्राओं ने 100 पर्सेंटाइल स्कोर किए हैं। इनमें दिल्ली की छवि गुप्ता है। आईआईटी दिल्ली की प्रीति बॉयोटेक्नोलॉजी में ग्रेजुएट हैं।

मुंबई के पैट्रिक डिसूजा का चौथी बार 100 पर्सेंटाइल स्कोर :
41 साल के पैट्रिक डिसूजा ने 14वीं बार कैट दी और इस बार चौथी मर्तबा उनका 100 पर्सेंटाइल स्कोर रहा है। वे कैट के उम्मीदवारों को कोचिंग देते हैं। परीक्षा देने का उनका मकसद एग्जाम पैटर्न को समझना है। वे बी-स्कूल में एडमिशन नहीं लेना चाहते। 1997 में एनआईटी इलाहाबाद के पास आउट डिसूजा ने 2000 में कैट दी थी लेकिन उनका किसी आईआईएम में दाखिला नहीं हुआ था।