Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» Chhattisgarh Drystate Not Now

छत्तीसगढ़ में शराबबंदी फिलहाल नहीं, खुलेंगी नई दुकानें, पुरानी का बढ़ेगा एग्रीमेंट

इससे यह भी साफ हो गया है कि शराब दुकानों की संख्या कम नहीं की जाएगी।

Bhaskar News | Last Modified - Dec 28, 2017, 08:27 AM IST

छत्तीसगढ़ में शराबबंदी फिलहाल नहीं, खुलेंगी नई दुकानें, पुरानी का बढ़ेगा एग्रीमेंट

रायपुर.प्रदेश में अगले साल से शराबबंदी के आसार कम हैं, क्योंकि सरकार ने वर्तमान में चल रही दुकानों का अनुबंध आगे बढ़ाने का फैसला किया है। शराब कारोबार सरकारी उपक्रम स्टेट मार्केटिंग कॉर्पोरेशन ही करेगा। आबकारी विभाग ने प्रदेश के सभी जिलों में पिछले साल विवाद या जगह न मिलने के कारण जहां दुकान नहीं खुल सकी थीं उनके लिए नए टेंडर जारी कर दिए हैं। वहीं, किराए की दुकानों में खोली गईं शराब दुकानों का एग्रीमेंट और एक साल के लिए बढ़ाया जा रहा है।

- रायपुर में शराब दुकानों के लिए स्टाफ की भर्ती करने वाली इंदौर की प्लेसमेंट एजेंसी को भी निर्देश दिए गए हैं कि वे एक साल बढ़ोतरी के अनुसार नई भर्ती कर लें और पुराने कर्मचारियों का एग्रीमेंट रिन्यू कर लें। इससे यह भी साफ हो गया है कि शराब दुकानों की संख्या कम नहीं की जाएगी।

- राज्य में इस समय 693 दुकानों के जरिए शराब बिक्री की जा रही है। क्योंकि, सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार बीते 9 माह में शराब की खपत में अक्टूबर तक 30 फीसदी गिरी है।

- अफसरों का मानना है कि पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश ने भी वर्तमान नीति को जारी रखने का फैसला किया। ऐसे में अगर छत्तीसगढ़ में नीति बदलने पर अवैध बिक्री बढ़ने की संभावना बढ़ सकती है।

अब तक नहीं आई शराबबंदी समिति की रिपोर्ट
- गुजरात और बिहार में शराबबंदी के असर देखने और दक्षिण के राज्यों का शराब बिक्री फार्मूला छत्तीसगढ़ में लागू कराने के लिए सरकार ने करीब 12 सदस्यीय समिति बनाई।

- इसमें आबकारी विभाग के अफसरों के अलावा चेंबर अध्यक्ष और पद्मश्री से सम्मानित लोगों को शामिल किया गया। समिति द्वारा गुजरात, बिहार, आंध्रप्रदेश और कर्नाटक के कई शहरों का दौरा किया, लेकिन अभी तक रिपोर्ट नहीं दी है। समिति सदस्यों का कहना है कि अभी कुछ शहरों का दौरा बाकी है, इसके बाद रिपोर्ट सरकार को रिपोर्ट दी जाएगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Raipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: à¤à¤¤à¥à¤¤à¥à¤¸à¤à¤¢à¤¼ मà¥à¤ श&
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×