--Advertisement--

इस साल पांच पैसे प्रति यूनिट तक बढ़ेंगे बिजली के दाम, पिछले 3 साल में सबसे कम

आयोग ने प्लान को अपनी वेबसाइट पर अपलोड कर दिया है और लोगों से इस पर राय मांगी है।

Danik Bhaskar | Jan 15, 2018, 09:00 AM IST
सिम्बॉलिक इमेज। सिम्बॉलिक इमेज।

रायपुर. इस साल बिजली की दरों में बड़ी बढ़ोतरी नहीं होगी। राज्य बिजली कंपनी द्वारा नियामक आयोग को भेजे गए नए प्रस्तावित टैरिफ प्लान के अनुसार हर श्रेणी में 5 पैसे प्रति यूनिट तक की बढ़ोतरी की अनुमति मांगी गई है। आयोग ने प्लान को अपनी वेबसाइट पर अपलोड कर दिया है और लोगों से इस पर राय मांगी है। इसके बाद फरवरी माह में जनसुनवाई कर 31 मार्च को नई दरों की घोषणा की जाएगी, जो 1 अप्रैल से लागू हो जाएंगी।

- कंपनी के सूत्रों के अनुसार पिछले तीन वर्ष में यह सबसे कम बढ़ोतरी होगी। कंपनी ने बड़े बकायादारों से 2500 करोड़ रुपए की वसूली की बात कही है, ये इस वर्ष उसके लिए बड़ी आय होगी। इसे देखते हुए कंपनी ने इस साल बढ़ोतरी से हाथ खींच लिया है।

- हालांकि इसे राजनीतिक गलियारों में चुनावी कदम बताया जा रहा है, पर कंपनी का मानना है कि उसकी उत्पादन लागत में अगले वर्ष भी कोई बढ़ोतरी नहीं होगी। इसलिए उपभोक्ताओं पर बोझ नहीं डाला जा रहा। वितरण कंपनी के एमडी अंकित आनंद के मुताबिक दरें लगभग वही रहेंगी। हमारा आंकलन है कि प्रोडक्शन काॅस्ट अगले वर्ष भी लगभग वही रहेगा, इसलिए टैरिफ में नाॅमिनल चेंज के साथ नया प्लान दिया है।

- बीते सालों में कंपनी ने न केवल दरें बढ़ाई थीं, बल्कि उसे सरकार की तरफ से भी पैकेज दिया जा रहा है। कंपनी को इस दौरान करीब 400 करोड़ रुपए की मदद पहुंचाई गई है। इसे अलावा वर्ष 2016-17 में सरकार ने वीसीए चार्ज की भी भरपाई की थी।

- 2015-16 में घरेलू दरें 11 फीसदी, गैर घरेलू में 7 फीसदी और एचटी में 20 फीसदी कुल 14.30 फीसदी बढ़ाई गई थी। वर्ष 2017-18 में और कम करते हुए कुल 12-13 फीसदी ही बढ़ाया गया।

इसी महीने होगी चर्चा
विद्युत वितरण कंपनी का नया टैरिफ प्लान जमा हो चुका है। कंपनी ने वर्ष 2017-18 की दरों की तुलना में करीब एक हजार करोड़ की आय जुटाने 12 हजार करोड़ का एआरआर दिया है। नाॅमिनल वृध्दि प्रस्तावित की गई है। आयोग अब कंसलटेंट से नई दरों का परीक्षण करा रहा है। 18-20 जनवरी को कंपनी से नए टैरिफ पर चर्चा करेंगे।’’
-पीएन. सिंह, सचिव नियामक आयोग