Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» Fraudster Caught By Police After Several Years

शहर में ठगी के केस में 8 साल से फरार, दुबई से आधार लिंक कराने आया और फंसा

आधार कार्ड लिंक नहीं होने के कारण उसकी पेंशन अटक गई थी, इसलिए कार्ड लिंक कराने के लिए भारत आया।

Bhaskar News | Last Modified - Feb 13, 2018, 07:35 AM IST

शहर में ठगी के केस में 8 साल से फरार, दुबई से आधार लिंक कराने आया और फंसा

रायपुर.राजधानी के एक कारोबारी से 21 लाख की ठगी करने वाला आरोपी हरगोविंद अरोरा आठ साल बाद चंड़ीगढ़ एयरपोर्ट में गिरफ्तार किया गया। यहां जालसाजी का केस दर्ज होने के बाद से वह अमेरिका भाग गया था। वहां से चार साल पहले दुबई जाकर बस गया। आरोपी पंजाब सरकार का रिटायर अफसर है। आधार कार्ड लिंक नहीं होने के कारण उसकी पेंशन अटक गई थी, इसलिए कार्ड लिंक कराने के लिए भारत आया। पुलिस ने आरोपी का लुक आउट सर्कुलर जारी किया था। इसी आधार पर एयरपोर्ट पर पुलिस ने उसे पकड़ लिया। आरोपी के ऊपर पांच हजार ईनाम भी है।

छत्तीसगढ़ में अपना कारोबार शुरू करना चाहती थी कंपनी
सीएसपी कोतवाली सुखनंदन राठौर ने बताया कि दिल्ली के हरगोविंद अरोरा (69) पंजाब वाटर सप्लाई एंड सीवरेज बोर्ड में डायरेक्टर था। रिटायरमेंट के बाद उसने अपने दोस्त राकेश चौहान के साथ एडवियंस इंफ्रा एंड बेसिक एमीनिटीज लिमिटेड कंपनी शुरू की। यह कंपनी रेडिएशन को रोकने वाले उपकरण बनाने का दावा करती थी। कंपनी मोबाइल, चीप, हार्ट गार्ड जैसे कवर बनाती थी। कंपनी छत्तीसगढ़ में अपना कारोबार शुरू करना चाहती थी।

21 लाख लेकर हुए फरार

कंपनी ने यहां कई लोगों से संपर्क किया। उनकी बातचीत रायपुर के आरके इंटरप्राइजेस के वंदना राय से हुई। उन्होंने कंपनी की फ्रेंचाइजी लेने की सहमति दी। कंपनी का डायरेक्टर राकेश चौहान अपने स्टाफ के साथ 2008 में रायपुर आया और उनके साथ अनुबंध किया। उनसे 21 लाख सुरक्षा निधि के तौर पर ले लिए। छह महीने के भीतर कारोबार शुरू करने का आश्वासन दिया और चले गए। उसके बाद कंपनी ने कारोबार ही शुरू नहीं किया और पैसे भी वापस नहीं किए। उन्होंने आरोपियों से कई बार संपर्क भी किया। दूसरा कोई विकल्प नजर नहीं आने पर उन्होंने कोर्ट में परिवाद दायर किया।

आरोपी के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी किया गया था

कोर्ट के आदेश के बाद कोतवाली पुलिस ने 2010 में धोखाधड़ी का केस दर्ज किया। आरोपियों की तलाश में टीम दिल्ली और पंजाब गई, लेकिन आरोपी नहीं मिले। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ पांच हजार ईनाम की घोषणा की थी। पुलिस ने 2016 में आरोपी के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी किया। आरोपी शनिवार को चंड़ीगढ़ एयरपोर्ट पहुंचा। वहां से पुलिस को सूचना मिली कि फरार आरोपी अरोरा भारत आया है। चंड़ीगढ़ पुलिस की मदद से उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी को सोमवार को रायपुर लाया गया।

बेटे के साथ दुबई में कारोबार

पुलिस के अनुसार हरगोविंद अरोरा दुबई में अपने बेटे के साथ रहता है। वहां उनका खुद का कारोबार है। उसकी बेटी अमेरिका में रहती है। वह फरारी के दौरान पहले अमेरिका गया। फिर अपने बेटे के पास आ गए। आठ साल से भारत नहीं आया। आरोपी के खिलाफ दूसरे राज्यों में भी केस दर्ज है। उसके फरार साथी की तलाश की जा रही है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×