--Advertisement--

जीएसटी कम हुआ लेकिन घरेलू वस्तुओं के दाम अब भी वही, बढ़ा दी बेसिक प्राइज

वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के तहत कई चीजों की टैक्स स्लैब घटी है।

Dainik Bhaskar

Dec 14, 2017, 04:52 AM IST
GST tax slab of many things has decreased raipur

भिलाई(रायपुर). वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के तहत कई चीजों की टैक्स स्लैब घटी है। इससे वस्तुओं के दाम घटने चाहिए, लेकिन कारोबारियों ने हर सामान की बेसिक प्राइज बढ़ा दी। इसके चलते जीएसटी कम करने से लोगों को कोई फायदा नहीं मिल रहा। यही वजह है कि वे सारी वस्तुएं आज भी पुरानी कीमतों पर मिल रहीं हैं, जिन पर जीएसटी कम हुआ है। इस तरह कारोबारी एक तरफ टैक्स बचा रहे हैं और दूसरी ओर बेसिक प्राइज बढ़ाकर ज्यादा लाभ कमा रहे हैं। वे बेसिक प्राइज तय करने के लिए कोई मापदंड नहीं होने का बेजा फायदा उठा रहे हैं।

इन वस्तुओं पर घटा टैक्स

- वस्तु एवं कर अधिनियम (जीएसटी) के तहत घरेलू उपयोग की चीजें नूडल्स, तेल, साबुन, बर्तन धोने की लिक्विड आदि की टैक्स स्लैब 18 से घटाकर 14 फीसदी की गई है। लेकिन व्यापारियों द्वारा इसका बेसिक प्राइज बढ़ा देने के कारण लोगों को इसका फायदा नहीं मिल रहा है।

- वस्तुओं के दाम घट नहीं रहे और कारोबारी दोहरा लाभ कमा रहे हैं। इन वस्तुओं को बनाने में जितनी लागत नहीं आई, उससे ज्यादा लागत बताई जा रही है। ऐसा कर व्यापारी गोलमाल कर रहे हैं। केंद्र सरकार ने आपत्तियों के बाद कई वस्तुओं का जीएसटी रेट नए सिरे से तय किया था। कई वस्तुओं के टैक्स कम किए। कुछ की स्लैब 28 से घटाकर 18 और कुछ की स्लैब 18 से घटाकर 14 और 12 फीसदी तक की गई। इससे उम्मीद थी कि वस्तुओं के दाम घटेंगे, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ।

बर्तन धोना भी हुआ कुछ महंगा
- बर्तनों की सफाई के लिए एक ब्रांड का जर्मन टेक्नोलॉजी युक्त लिक्विड बाजार में लाया गया है। इसके 120 मिलीलीटर वाले पाउच की बेसिक प्राइज पहले 14.47 रुपए थी। इसे बढ़ाकर अब 15.69 रुपए कर दिया गया है। इस तरह इसकी बेसिक प्राइज 1.22 रुपए बढ़ी। इसे भी पहले 18 फीसदी की स्लैब में रखा गया था, बाद में 14 फीसदी में लाया गया। कंपनी के एएसएम सौरभ तिवारी का कहना है कि वे इस संबंध में मिलने पर ही बात कर सकेंगे। फोन पर कोई जानकारी नहीं दे सकते।

साबुन में प्रति पेटी बढ़ा दिए 174 रुपए
एक नामी ब्रांड का साबुन पहले 18 फीसदी की स्लैब में रखा गया था। इसे घटाकर 14 फीसदी किया गया है। तब इसकी बेसिक प्राइज 1224 रुपए प्रति पेटी रखी गई थी। इन दिनों इसे बढ़ाकर 1397.68 रुपए प्रति पेटी कर दिया गया है। ऐसे में इसकी कीमत भी पहले जितनी ही है। जबकि 50 पैसे कम होनी चाहिए।

एंटी प्रॉफिटियरिंग एक्ट है
- गड़बड़ी करने वालों के खिलाफ एंटी प्रॉफिटियरिंग एक्ट लाया जा रहा है। इस एक्ट के तहत गड़बड़ी करने वाले का लाइसेंस तक रद्द किया जा सकता है। उसके खिलाफ आपराधिक मामला भी दर्ज कर सकते हैं। इस बारे में जिला वाणिज्यिक कर विभाग में ऑनलाइन या ऑफलाइन शिकायत की जा सकती है।

आगे की स्लाइड्स में पढ़े बिजनेस मैन कैसे करते हैं धांधली...

GST tax slab of many things has decreased raipur

पहले था दाम
मान लीजिए किसी वस्तु की कीमत 100 रुपए है। कारोबारी ने इसमें 10 रुपए अपना फायदा जोड़ा। कुल कीमत हो गई 110 रुपए। इस पर 28 फीसदी जीएसटी जोड़ा। टैक्स हुआ 30.80 रुपए। वस्तु की कुल कीमत हुई 140.80 रुपए। 

GST tax slab of many things has decreased raipur

नई स्लैब में होना चाहिए 
अब जीएसटी घटकर 18 फीसदी हो गया। वस्तु की कीमत 110 रुपए है। इस पर टैक्स 18 फीसदी लगना है। टैक्स की राशि 19.80 रुपए होती है। कुल कीमत हुई 129.80 रुपए। नई दर के हिसाब से 140.80 रुपए में मिलने वाली वस्तु 11 रुपए कम पर 129.80 रुपए में मिलना चाहिए। 

 

GST tax slab of many things has decreased raipur

ऐसे कर रहे गड़बड़ी
100 रुपए मैन्युफैक्चरिंग कास्ट को बढ़ाकर कर दिया 109.09 रुपए। अपना 10 रुपए मार्जिन जोड़ा। कुल कीमत हुई 119 रुपए। इस पर 18 फीसदी जीएसटी के 21.80 रुपए जोड़े। वस्तु की कुल कीमत फिर से हो गई 140.80 रुपए।

X
GST tax slab of many things has decreased raipur
GST tax slab of many things has decreased raipur
GST tax slab of many things has decreased raipur
GST tax slab of many things has decreased raipur
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..