--Advertisement--

महिला बीजेपी लीडर ने घर पर लगाई फांसी, पुलिस काे मिला सुसाइड नाेट

पति पीछे के रास्ते से कमरे में दाखिल हुआ तो देखा कि पत्नी फंदे पर झूल रही थीं।

Danik Bhaskar | Jan 29, 2018, 08:22 AM IST
हेमलता पैकरा। हेमलता पैकरा।

रायपुर. बैकुंठपुर जिला पंचायत सदस्य और बीजेपी नेता हेमलता पैकरा (34) ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। रविवार शाम हेमलता का शव रायपुर में आमानाका स्थित उनके मकान में मिला।पुलिस के पहुंचने से पहले ही परिजन शव को फंदे से उतार चुके थे। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है, रिपोर्ट आने के बाद मौत का कारण का पता चल सकेगा।

पीछे के रास्ते से कमरे में दाखिल हुआ पति

पुलिस के मुताबिक जिस समय हेमलता ने खुदकुशी की, उस समय पति महेंद्र प्रताप पैकरा मां के साथ दोनों बच्चों को इलाज के लिए अस्पताल लेकर गए थे। घर में उनकी भतीजी और भांजी ही थीं, महेंद्र लौटे तो देखा कि वे दोनों टीवी देख रही थीं। हेमलता का कमरा बंद था, उन्होंने पत्नी को आवाज लगाई। लेकिन जब कोई जवाब नहीं आया तो वे कमरे तक गए। उन्होंने दरवाजे के पास खड़े होकर फिर आवाज लगाई, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। इसके बाद महेंद्र ने दरवाजा खोलने की कोशिश की पर वो बंद था, उन्हें शंका हुई। वे पीछे के रास्ते से कमरे में दाखिल हुए, उन्होंने देखा कि हेमलता फंदे पर झूल रही थीं।

पुलिस को वहां से एक सुसाइड नोट मिला

महेंद्र ने हेमलता को नीचे उतारा और नब्ज टटोली, उनकी मौत हो चुकी थी। इसके बाद महेंद्र ने पुलिस को सूचना दी। करीब 5 बजे मौके पर पहुंची पुलिस को वहां से एक सुसाइड नोट मिला। हेमलता का एक सात वर्ष का बेटा और दस वर्ष की बेटी है, दोनों रायपुर में पढ़ते हैं। पति कई तरह के कारोबार से जुड़े हैं। हेमलता ज्यादातर रायपुर में ही रहती थीं। उनका मायका अंबिकापुर में है।

डेढ़ साल पहले भी की थी खुदकुशी की कोशिश

डेढ़ साल पहले भी हेमलता ने खुदकुशी की कोशिश की थी। लेकिन परिजन ने उन्हें बचा लिया था। उस समय भी वे पंखे पर रस्सी डालकर फांसी लगा रही थीं। परिजन ने पुलिस को बयान दिया है कि वह अस्थमा की मरीज थीं। उनकी बीमारी बहुत बढ़ गई थी और वह इलाज कराकर परेशान हो गई थीं। सूत्रों के मुताबिक पति-पत्नी के बीच भी कुछ विवाद था।

बेटे और पति को मिले प्रॉपर्टी: पुलिस के मुताबिक हेमलता ने सुसाइड नोट में मौत के बाद बेटे और पति को उनके नाम की प्रॉपर्टी देने की बात लिखी है। पुलिस इस दिशा में भी जांच कर रही है कि प्रॉपर्टी को लेकर कोई विवाद तो नहीं था? उन्होंने सुसाइड नोट पर इसका विशेष उल्लेख किया है। पुलिस हैंडराइटिंग एक्सपर्ट को भी सुसाइड नोट जांच के लिए भेज रही है।