--Advertisement--

वो 3 गोले अगर फूटे होते तो मारे जाते दर्जनों नक्सली, बच जाते हमारे जवान

इस हमले में पेट्रोलिंग पर निकले 9 जवान शहीद हो गए।

Danik Bhaskar | Mar 13, 2018, 08:31 PM IST

जगदलपुर। छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में नक्सलियों ने मंगलवार को आईईडी ब्लास्ट कर सीआरपीएफ जवानों के व्हीकल को निशाना बनाया। इस हमले में पेट्रोलिंग पर निकले 9 जवान शहीद हो गए। 2 जवान जख्मी हुए, जिन्हें हेलिकॉप्टर के जरिए रायपुर लाया गया है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने हमले की निंदा की और सीआरपीएफ डीजी को छत्तीसगढ़ जाने का ऑर्डर दिया है। बता दें कि सुकमा में पिछले एक साल में 12 जवान शहीद हो चुके हैं।

ऐसे चला घटनाक्रम
- सीआरपीएफ अफसरों के मुताबिक, सीआरपीएफ 212वीं बटालियन के 200 से ज्यादा जवान 5 टीमों में बंटकर किस्टाराम से पलोदी के लिए निकले थे। 4 टीमों ने जंगल का रास्ता अपनाया, एक टीम बाइक से सड़क पर चलने लगी।

- जवान सुबह 7.35 बजे किस्टाराम कैंप से 3 किमी दूर नदी किनारे पहुंचे तो नक्सलियों ने जवानों को घेर लिया। इसके बाद नक्सलियों ने एक-एक कर तीन बड़े विस्फोट किए, लेकिन जवानों ने नक्सलियों के एंबुंश तोड़ दिए और जमकर जवाबी फायरिंग की।

- इसके बाद जवान वापस किस्टाराम कैंप पहुंचे और नक्सलियों के चाइना मेड वायरलेस सेट को इंटरसेप्ट किया। इसमें नक्सलियों की ओर से मैसेज चल रहा था कि एक बड़ा नक्सली नेता मारा गया, करीब 5 अन्य घायल हैं।

- इसके बाद जवान दोबारा कैंप से पलोदी जाने के लिए निकले। इस बार जवानों ने अपने साथ एमपीवी (मल्टी पर्पज वेहिकल) को भी साथ रखा था, लेकिन कैंप से कुछ किमी दूर 12.15 बजे के करीब नक्सलियों ने एमपीवी को बलास्ट कर उड़ा दिया।

नक्सलियों ने फोर्स की वर्दी पहनकर दिया धोखा

- किस्टारम में सुबह नदी के किनारे नक्सली जवानों को घेर नहीं पाए। जवानों ने दूर से ही उनको देख लिया था, लेकिन नक्सलियों ने फोर्स की वर्दी पहनी थी, इसलिए जवानों ने सोचा यह सीआरपीएफ की दूसरी पार्टी है। लेकिन थोड़ा नजदीक आने पर वे समझ गए और जवानों ने ताबड़तोड़ फायरिंग की।
- इसके बाद, जवानों ने एक के बाद एक 3 गोले भी नक्सलियों पर दागे, लेकिन ये फूटे नहीं। अगर इनमें से एक भी गोला फूटा होता तो 100 से ज्यादा नक्सलियों में आधे तो मौके पर ढेर हो गए होते। एन वक्त पर गोलो ने भी जवानों को धोखा दिया।