--Advertisement--

डिलिवरी के पहले 24 घंटे दर्द से तड़पती रही मां, नर्स कहती रही- डिस्टर्ब मत करो

नर्स कहती थी बार-बार डिस्टर्ब मत करो। जब बच्चादानी का थैली फूटेगा तब बताना।

Danik Bhaskar | Dec 28, 2017, 08:00 AM IST
जिला अस्पताल में बुधवार को घटन जिला अस्पताल में बुधवार को घटन

रायपुर. बालोद जिला अस्पताल में बुधवार को दोपहर 1 बजे पाकुरभाट के ग्रामीणों ने प्रसव केस में लापरवाही का आरोप लगाकर नवजात की मौत पर जमकर हंगामा किया। ग्रामीण ईकेश्वर पटेल की पत्नी दिनेश्वरी को शादी के 2 साल बाद बेटा पैदा हुआ था। जिसकी मौत सुबह 6:20 बजे अस्पताल में हो गई। परिजनों ने डॉक्टर और नर्स पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि सही ढंग से इलाज नहीं किया गया। जिसके कारण बच्चे की मौत हुई।

जन्म लेने के बाद बच्चा स्वस्थ था, अचानक बिगड़ी तबीयत

परिजनों ने बताया 25 दिसंबर को सुबह 11:30 बजे दिनेश्वरी को प्रसव के लिए भर्ती किया गया था। उस समय दर्द हो रहा था। नर्स ने चेकअप करके कहा कि दो-तीन घंटा और लगेगा। फिर दूसरी नर्स की ड्यूटी लग गई। उन्होंने भी कहा कि 3 घंटे और लग सकते हैं। फिर नर्स अपने कमरे में जाकर सो गई। महिला दर्द से कराहती रही। जब परिजन नर्स को बुलाने जाते थे तो कहती थी बार-बार डिस्टर्ब मत करो। जब बच्चादानी का थैली फूटेगा तब बताना। 26 दिसंबर को सुबह 11:45 बजे महिला ने 3 किलो 200 ग्राम वजन के बच्चे को जन्म दिया। पिता ईकेश्वर पटेल ने कहा कि बच्चा स्वस्थ था। रात में खेल भी रहा था। अचानक तबीयत बिगड़ी। जिसे डॉक्टरों ने आॅपरेशन वार्ड में भर्ती किया।

इंजेक्शन लगाने के बाद सुस्त पड़ा बच्चा
सुबह 5 बजे बच्चे को इंजेक्शन लगाया गया। 5:30 बजे उसका हिलना-डुलना भी बंद हो गया। 5:55 बजे व 6:10 बजे दो इंजेक्शन लगाया गया। 6.20 बजे बच्चे की मौत हो गई। इस मौत से परिजन काफी आक्रोशित हो गए। अंतिम संस्कार के बाद दोपहर एक बजे अस्पताल लौटे।

खराब पानी पिया
प्रसव के दौरान बच्चे ने खराब पानी पी लिया था। जिससे उसकी तबीयत बिगड़ी। उसका पैर भी टेढ़ा हो रहा था। हमने उसे बचाने का पूरा प्रयास किया था। गलत इंजेक्शन भी नहीं लगा है। आरोप गलत है।
डॉ. आरके श्रीमाली, शिशु रोग विशेषज्ञ, जिला अस्पताल

जांच कराएंगे
कहां से चूक हुई है, इसकी जांच कराई जाएगी। जांच कमेटी गठित कर रहे हैं। अगर डॉक्टर या स्टाफ नर्स की गलती पाई जाती है तो नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।
डॉ. एसपी केसरवानी, सिविल सर्जन, जिला अस्पताल