--Advertisement--

सोनी सोरी का विरोध, कहा- नक्सलियों ने हमारा घर उजाड़ा, वे उन्हीं का साथ दे रहीं

आप की लीडर सोरी के खिलाफ 'सोनी भगाओ-बस्तर बचाओ', 'माओवादी मुर्दाबाद' के नारे भी लगाए गए।

Danik Bhaskar | Feb 14, 2018, 07:28 AM IST
दंतेवाड़ा जिला मुख्यालय में रै दंतेवाड़ा जिला मुख्यालय में रै

दंतेवाड़ा(छत्तीसगढ़). आप नेत्री सोनी सोरी पर नक्सली समर्थक होने का आरोप लगा है। यह आरोप सलवा जुडूम कैंप में गुजर-बसर कर रही नक्सल पीड़ित परिवारों की महिलाओं ने लगाए हैं। मंगलवार को कारली बेस कैंप के अलावा बीजापुर, भैरमगढ़, नेलसनार कैंप की 100 से ज्यादा नक्सल हिंसा पीड़ित महिलाएं अपने दुधमुंहे बच्चों व पुरूषों के साथ दंतेवाड़ा पहुंचीं, जहां मुख्यमार्ग में रैली निकाली। सोनी सोरी के नक्सल समर्थन होने, सोनी भगाओ, बस्तर बचाओ, माओवादी मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए कलेक्टोरेट पहुंचे। महिलाओं ने कलेक्टोरेट पहुंच एसडीएम सुभाष राज सिंह को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा।


घर बार छोड़कर कैंपों में जिंदगी गुजारने हुए मजबूर

राहत शिविरों में रहने वाली नक्सल पीड़ित महिलाओं कोपेबाई, राधा, सुकमती, आयते, बुदरी, मीना, रामबती, कमला, राजे आदि ने बताया कि नक्सलियों की हिंसा से तंग आकर अपनी खेती-बाड़ी को छोड़कर हम दर-दर की ठोकरें खाने मजबूर हुए। नक्सली आए दिन निर्दोष ग्रामीणों की बेरहमीं से पिटाई करते हैं, उन्हें मौत के घाट उतारते हैं। डर के कारण रिपोर्ट तक दर्ज कराने नहीं पहुंच पाते। दबाव व दहशत से अपना घर-बार छोड़ने मजबूर हो जाते हैं। हाल ही में गाटम में मनोज की गोली मारकर नक्सलियों ने हत्या की, उसकी साली मुस्कान को गोली मारकर घायल किया। चार दिन पहले मां के क्रियाकर्म में फूलपाड़ गए हिंगा की हत्या कर दी। लेकिन ऐसे मामलों में खुद को आदिवासियों की समर्थक बताने वाली सोनी ने आवाज तक नहीं उठाई।

बहनें साथ दें , हिंसा के खिलाफ एक साथ लड़ेंगे : सोनी

इधर सोनी सोरी ने नक्सल समर्थक होने के सारे आरोपों को सिरे से नकारा है। सोनी ने कहा कि सभी बहनें किसी के भड़कावे में आकर मेरे खिलाफ प्रदर्शन कर रही हैं। सभी मेरा साथ दें हिंसा के खिलाफ एक साथ मिलकर लड़ेंगे, चाहे वह हिंसा नक्सलियों ने की हो या पुलिस ने। एकजुट होकर हिंसा खत्म करने जुड़ेंगे व बस्तर में शांति लाएंगे।

जमानत निरस्त कर कार्रवाई की जाए
नक्सल हिंसा पीड़ित परिवारों का आरोप है कि जब एनकाउंटर में पुलिस किसी नक्सली को मारती है, तो उसे निर्दोष ग्रामीण बताते हुए सोनी समर्थन में उतर आती हैं लेकिन जब कोई जवान या ग्रामीण की हत्या नक्सली करते हैं तो इस पर हमेशा उनकी चुप्पी रहती है। महिलाओं ने कहा कि सोनी खुद को आप पार्टी की नेता बताकर राजनीतिक प्रभाव की आड़ में शहर में रहकर नक्सलियों का खुला समर्थन कर काम कर रही है। सोनी के खिलाफ कोर्ट में चल रहे मामले में जमानत निरस्त करते हुए, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की गई है।

आप का पलटवार- सरकार के इशारे पर निकाली रैली

जगदलपुर। सोनी सोरी के खिलाफ दंतेवाड़ा में निकाली गई रैली के विरोध में आम आदमी पार्टी मैदान में उतर गई है। आप के नेताओं ने संयुक्त रूप से मंगलवार की देर शाम बयान जारी कर इस पूरी मुहिम को सरकार द्वारा प्रायोजित करार दिया है। नेताओं का कहना है कि सरकार माहौल खराब कर खुद के बचाव में लगी है। इस तरह का खेल सरकार बस्तर में पहले भी कर चुकी है। आप नेता सोनी सोरी, रोहित सिंह आर्य और समीर खान ने कहा कि आप पार्टी की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए सरकार इस तरह के प्रपंच रच रही है। नेताओं ने कहा कि वे किसी भी प्रकार की हिंसा चाहे किसी भी ओर से की जाए उसके खिलाफ है।