न्यूज़

--Advertisement--

कर्नाटक से आई 5 स्पेशल एलिफेंट टीम, इनकी मदद से पकड़े जाएंगे हिंसक हाथी

स्पेशल एलिफेंट टीम की मदद से प्रदेश में ऑपरेशन गजराज चलाया जाएगा।

Dainik Bhaskar

Jan 26, 2018, 07:31 AM IST
- फाइल। - फाइल।

रायपुर. कर्नाटक से 5 कुमकी हाथियों का दल गुरुवार को सिरपुर पहुंच गया। इस दल की मदद से अब पूरे राज्य में हिंसक हाथियों को पकड़कर रेस्क्यू सेंटर में रखा जाएगा। सबसे पहले महासमुंद और बार नवापारा के हाथी दल को कंट्रोल करने के लिए ऑपरेशन चलाया जाएगा। महासमुंद के 18-20 हाथियों का दल बार नवापारा अभ्यारण और आस-पास के क्षेत्र में कई हिंसक वारदातों को अंजाम दे चुका है, दो बार तो राजधानी की सरहद तक पहुंच चुका है। पिछले साल दिसंबर में तो हाथी मंदिरहसौद के पास पहुंच गए थे। उसके बाद यह तय किया गया कि प्रदेश में ऑपरेशन गजराज चलाया जाए।

ऑपरेशन गजराज शुरू किया जाएगा
इसके अंतर्गत सबसे पहले महासमुंद के हाथी दल को कंट्रोल करने के लिए अभियान चलाया जाएगा। इसके बाद बलौदाबाजार में ऑपरेशन चलाया जाएगा। वन विभाग के विशेषज्ञों के अनुसार हर दल में एक-दो हिंसक हाथी होते हैं। महासमुंद के हाथी दल में उनकी पहचान कर शांत करने के लिए रेस्क्यू सेंटर में रखा जाएगा। इसके अलावा दल की लोकेशन पता चलती रहे इसलिए लीडर के गले में रेडियो कॉलर पहनाया जाएगा। इसमें कुमकी हाथी दल की मदद ली जाएगी। इनके दल में तीन नर और दो मादा हाथी हैं। छत्तीसगढ़ के माहौल में ढलने में इन्हें करीब 25 दिन लगेंगे, इसके बाद ऑपरेशन गजराज शुरू किया जाएगा।

अंजोरा से रायपुर तक बनाया ग्रीन कॉरीडोर
हाथियों की शिफ्टिंग के लिए कर्नाटक से सिरपुर तक 1694 किलोमीटर की दूरी तय होनी थी। हाथियों के काफिले ने इसे तीन दिन में तय किया। 22 जनवरी की रात विशेषज्ञों के नेतृत्व में टीम रायपुर के लिए रवाना हुई। लेकिन दुर्ग अंजोरा से रायपुर के बीच भारी ट्रैफिक के कारण हाथियों को लाने में परेशानी हो रही थी। इसके लिए रायपुर और दुर्ग पुलिस द्वारा वन विभाग की सिफारिश पर अंजोरा से रायपुर के बीच ग्रीन कॉरीडोर बनाया गया।

X
- फाइल।- फाइल।
Click to listen..