--Advertisement--

इस अस्पताल में 489 पदों पर भर्ती की प्रक्रिया शुरू, 9 दिसंबर होंगे इंटरव्यू

236 स्टाफ नर्स समेत 489 पदों पर संविदा भर्ती की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। 9 दिसंबर से वॉक इन इंटरव्यू किया जाएगा।

Danik Bhaskar | Dec 03, 2017, 06:17 AM IST
सिम्बॉलिक इमेज। सिम्बॉलिक इमेज।

रायपुर. दाऊ कल्याण सिंह सुपर स्पेश्यालिटी अस्पताल चालू करने की दिशा में प्रयास तेज हो गए हैं। 236 स्टाफ नर्स समेत 489 पदों पर संविदा भर्ती की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इसके लिए 9 दिसंबर से वॉक इन इंटरव्यू किया जाएगा। अगले साल मार्च में सुपर स्पेश्यालिटी अस्पताल में इलाज व ऑपरेशन शुरू होने की संभावना है। इससे प्रदेश के लोगों को सरकारी क्षेत्र में सुपर स्पेश्यालिटी सुविधा मिलेगी।दाऊ कल्याण सिंह अस्पताल सीजीएमएससी द्वारा देरी से किए गए टेंडर के कारण लेट हो रहा है।

सीजीएमएससी ने सबसे कम कीमत भरने वाली कंपनी को वर्कआर्डर जारी करने में भी देरी की। पहले अस्पताल को एक नवंबर को शुरू करने की योजना थी, लेकिन रिनोवेशन, ओटी बनाने व उसमें उपकरण लगाने में देरी हो रही है। महीनेभर पहले हुई बैठक में स्वास्थ्य मंत्री ने ठेकेदार को दिसंबर तक डीके का काम पूरा करने काे कहा था। डॉक्टरों ने बताया कि स्टाफ नर्स के अलावा ओटी टेक्नीशियन, वार्ड ब्वाय, आया, कंप्यूटर ऑपरेटर, ईसीजी टेक्नीशियन, डायटिशियन समेत दूसरे पदों पर भर्ती की जा रही है। स्टाफ की भर्ती के बाद अस्पताल के संचालन व इलाज में आसानी होगी। डीके में नेफ्रालॉजी के अलावा न्यूरो सर्जरी, प्लास्टिक सर्जरी, यूरो सर्जरी विभाग होंगे। फिलहाल कार्डियोलॉजी व वेस्कुलर सर्जरी एडवांस कार्डियक इंस्टीट्यूट में संचालित हो रहा है।


एसीआई में सात से इंटरव्यू
एस्कार्ट हार्ट सेंटर से अब सरकारी दिल के अस्पताल हो चुके एसीआई सेंटर में 31 स्टाफ नर्स की भर्ती की जाएगी। इसके लिए वॉक इन इंटरव्यू सात दिसंबर से शुरू होगा। ये सभी भर्ती संविदा में होगी। नर्स के अलावा 11 कैथ टेक्नीशियन, तीन ओटी सुपर वाइजर, ओटी, ईसीजी व आईसीयू टेक्नीशियन की भर्ती की जाएगी। यही नहीं एचआर मैनेजर के अलावा बायो मेडिकल इंजीनियर, फार्मासिस्ट व दूसरे स्टाफ की भर्ती की जा रही है। एसीआई अलग ही इंस्टीट्यूट होगा। फिलहाल यह नेहरू मेडिकल कॉलेज के अधीन रहेगा। हार्ट सर्जरी विभाग में परफ्यूजिनिस्ट व फिजिशियन असिस्टेंट की भर्ती नहीं की जा रही है। इससे बायपास व दूसरे बड़े ऑपरेशन के लिए परेशानी हो सकती है।