--Advertisement--

अनमैरिड, विधवा और बेसहारा महिलाओं को 3 लाख के लोन पर 1.20 लाख की छूट

बजट में इस बार छत्तीसगढ़ सरकार का फोकस महिला सशक्तिकरण पर ज्यादा है।

Dainik Bhaskar

Feb 09, 2018, 09:06 AM IST
सिम्बॉलिक इमेज। सिम्बॉलिक इमेज।

रायपुर. छत्तीसगढ़ सरकार चल रहे बजट सत्र में बड़ी घोषणा करने जा रही है। अविवाहित, विधवा और परित्यक्त महिलाओं ने ग्रामोद्योग के लिए 3 लाख रुपए तक का लोन लिया, तो उन्हें सिर्फ 1.80 लाख रुपए चुकाने होंगे। शेष 1.20 लाख रुपए की राशि सरकार अदा करेगी। ग्रामोद्योग विभाग की इस योजना को महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए गेम-चेंजर माना जा रहा है।

बजट में इस बार सरकार का फोकस महिला सशक्तिकरण पर ज्यादा

मौजूदा डाॅ. रमन सरकार के 15वें सत्र का अंतिम बजट 10 फरवरी को पेश होगा, जिसमें इस योजना की घोषणा की जाने वाली है। बजट में इस बार सरकार का फोकस महिला सशक्तिकरण पर ज्यादा है। ग्रामोद्योग विभाग का यह प्लान भी ग्रामीण महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण का हिस्सा है। अब तक विभाग महिलाओं को स्कूल यूनिफॉर्म की सिलाई आदि के काम देता रहा है। पहली बार उन्हें कारोबार में भी मदद दी जा रही है, वह भी इस बड़ी छूट के साथ। प्रदेशभर में इससे 502 स्वसहायता समूहों की 5 हजार महिलाएं लाभान्वित हैं। महिलाओं को कारोबार में अनुदान की यह राज्य में अपनी तरह की पहली योजना है।

छुईखदान, कुरुद व गरियाबंद समेत छह जगह खुलेंगे कृषि कॉलेज

इस बार जशपुर, कोरबा, कुरुद, छुईखदान, कोरिया और गरियाबंद में एग्रीकल्चर कालेज खोलने जा रही है। कुछ कॉलेजों में एग्रीकल्चर की पढ़ाई भी शुरू होगी। कृषि के बजट में पिछले बार की तुलना में 75 फीसदी तक बढ़ोतरी करने जा रही है। सरकार को उम्मीद है कि इससे किसानों की आय दोगुनी करने में मदद मिलेगी। पिछली बार कृषि बजट में 26 फीसदी की बढ़ोतरी हुई थी। केंद्र से कृषि क्षेत्र में मिलने वाली राशि को जोड़ दिया जाए, तो इस बार कृषि बजट 4.5 हजार करोड़ तक पहुंच सकता है।


सौर सुजला योजना के तहत सरकार ने 51 हजार सोलर पंप बांटने का भी फैसला किया है, इसके लिए भी बजट में व्यवस्था की गई है। सरकार पिछले साल की तरह इस बार भी किसानों के बीच धान का बोनस बांटेगी। इसके लिए बजट में 2100 करोड़ रुपए रखा गया है।
मितानिन व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का बढ़ेगा मानदेय : प्रदेश की 65 हजार मितानिनों और एक लाख से अधिक आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के मानदेय में भी बढ़ोतरी होगी। मितानिनों के मानदेय में 400 रुपए और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व सहायिकाओं के वेतन में 200 से 250 रुपए बढ़ाने की तैयारी है। इसके साथ ही सेवा अवधि पूरी होने पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को एक मुश्त 50 हजार और सहायिकाओं को 25 हजार रुपए भी देने की तैयारी है।

X
सिम्बॉलिक इमेज।सिम्बॉलिक इमेज।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..