--Advertisement--

भोजन परोसने में 20 मिनट देरी, नाराज युवक ने ढाबा मालिक को गाड़ी से रौंदा

राजधानी के पास तरपोंगी के ढाबे में आधी रात हत्या से सनसनी

Danik Bhaskar | Dec 27, 2017, 07:36 AM IST
डेमोफोटो डेमोफोटो

रायपुर. रायपुर-बिलासपुर रोड राजधानी से 25 किलोमीटर दूर तरपोंगी गांव के ढाबा संचालक की सोमवार-मंगलवार की रात युवक ने अपनी गाड़ी में रौंदकर हत्या कर दी। फिल्मों की तरह उसने पहले ढाबा संचालक को सामने से टक्कर मारी। वह गिरकर घायल हो गया। उसके बाद उसने गाड़ी रिवर्स ली और तेज रफ्तार से ढाबा संचालक को कुचलते हुए भाग निकला। बुरी तरह जख्मी संचालक को अस्पताल ले जा गया, लेकिन कुछ देर इलाज चलने के बाद उसकी मौत हो गई। पुलिस ने हत्या के कुछ घंटों के भीतर आरोपी को पकड़ लिया है।

हत्या के बाद आरोपी ने गाड़ी एक पहचान वाले के खलिहान में छिपा दी और खुद रिश्तेदार के यहां चला गया था। पुलिस ने सोमवार सुबह उसे वहीं घेरकर पकड़ा। उसकी गाड़ी भी जब्त कर ली गई है। धरसींवा टीआई भूषण एक्का ने बताया कि मुजफ्फरपुर के रहने वाले किशोर तिवारी (38) का तरपोंगी में बिहारी ढाबा है। किशोर वहीं रहता था। सोमवार की रात लगभग 2 बजे में सड्डू में रहने वाले पिकअप ड्राइवर भागवत वर्मा(31)खाना खाने पहुंचा। ढाबे में टेबल पर बैठते ही उसने रोटी और पालक पनीर का ऑर्डर दिया। उसके बाद वह अपने मोबाइल को देखने में व्यस्त हो गया। इस दौरान वह बीच-बीच में वेटर को भोजन जल्दी लाने की बात कह रहा था। करीब 20 मिनट तक भोजन नहीं आया। इससे वह अचानक आक्रोशित हो गया।

वेटर पर नाराजगी जाहिर करते हुए उस पर भड़क गया। चिल्लाने की तेज आवाज सुनकर ढाबा संचालक किशोर आया और उसने भागवत को समझाने की कोशिश की। भागवत ने उसकी भी नहीं सुनी और गाली गलौज करते हुए बाहर निकल गया। वह सीधे अपनी गाड़ी में जाकर बैठ गया। ढाबा के कर्मचारी भी उसके पीछे-पीछे आए। उसे समझाने की कोशिश करने लगे। वे यही कह रहे थे कि भैया भोजन तैयार है, बस एक मिनट लगेगा। वह किसी की बात नहीं सुन रहा था। उसने गाड़ी स्टार्ट की और पीछे करने लगा। इसी दौरान किशोर भी ढाबा से बाहर निकल आया। वह ढाबे से गाड़ी बाहर रोड पर ले जाने वाले रास्ते पर खड़ा था। आरोपी ने उसे देख लिया और गाड़ी को तेजी से आगे की ओर बढ़ा दी। किशोर को जरा भी अंदाजा नहीं था कि भागवत सीधे उसे टक्कर मार देगा। वह भागकर बचाव नहीं कर सका ओर सीधी टक्कर से गिरकर घायल हो गया। उसे टक्कर मारने के बाद भागवत ने गाड़ी पीछे की और फिर थोड़ी दूर ले जाकर गाड़ी की स्पीड एकदम बढ़ा दी।

वह किशोर को रौंदते हुए भाग निकला। ढाबे में मौजूदा कर्मचारी उसे अस्पताल ले गए। जहां इलाके दौरान उनकी मौत हो गई। घटना की सूचना पुलिस को दी गई। कर्मचारियों ने गाड़ी का नंबर नोट कर लिया था। इस आधार पर सुबह 5 बजे पुलिस उसके घर पहुंच गई। आरोपी वहां नहीं था। वह रात से घर नहीं गया था। पुलिस ने आसपास पता किया। मुखबिर की सूचना पर उसे रिश्तेदार के घर से गिरफ्तार किया गया। गाड़ी भी उसके एक परिचित के खलिहान से जब्त की गई। पुलिस के अनुसार आरोपी ने बहुत शराब पी रखी थी। सुबह भी वह होश में नहीं था