Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» Thieves Of 10 Million Phone Numbers Found,Raipur

10 लाख फोन नंबरों से मिला चोरों का ठिकाना, एक इतना क्रूर कि पायल चुराने काट लिया था पैर

हरियाणा और राजस्थान के दो नंबर बार-बार इस इलाके में आए तब हुआ शक।

Bhaskar News | Last Modified - Dec 19, 2017, 06:39 AM IST

  • 10 लाख फोन नंबरों से मिला चोरों का ठिकाना, एक इतना क्रूर कि पायल चुराने काट लिया था पैर

    रायपुर.विधानसभा स्टेट बैंक की सनसनीखेज चोरी का खुलासा करने 10 लाख से ज्यादा मोबाइल नंबरों को सर्च किया गया। इस दौरान विधानसभा स्टेट बैंक से तिल्दा, नेवरा और खरोरा और बिलासपुर रोड में धनेली तक 200 टावरों के संपर्क में आने वाले एक-एक नंबर को खंगाला गया। राजस्थान और हरियाणा के दो नंबरों पर शक हुआ।

    ऐसे सर्च किए नंबर

    - फेसबुक पर उन नंबरों को सर्च में डालने पर अनिल पवार और राकेश कीर का प्रोफाइल सामने आया। अनिल का फुटेज पहले ही गैस एजेंसी में मिल चुका था। राकेश की हिस्ट्री चेक करने के दौरान पता चला कि वह इतना खतरनाक है पांच साल पहले केवल एक पायजेब के कारण सो रही युवती का पैर काटकर अलग कर चुका है।
    - क्राइम ब्रांच को बैंक में चोरी के तीन-चार दिन के भीतर ही मास्टर माइंड का फुटेज बालाजी गैस एजेंसी में मिल गया था, लेकिन केवल तस्वीर के सहारे आगे बढ़ना संभव नहीं था। इसलिए क्राइम ब्रांच के एसपी अजातशत्रु बहादुर सिंह ने एक टीम को फील्ड और दूसरी को हाईटेक जांच का जिम्मा सौंपा गया। बैंक से एक बीड़ी का टुकड़ा मिला था।
    - आमतौर पर बीड़ी तिल्दा और आस-पास में ही बिकती है। इस वजह से विधानसभा स्टेट बैंक से लेकर खरोरा, तिल्दा और नेवरा के मोबाइल टावरों को सर्चिंग में लिया गया। मौदहापारा की दुकान में फुटेज मिलने की वजह से यहां के टावर को भी सर्च में लिया।

    - प्रधान आरक्षक प्रदीप पटेल और टीम ने एक हफ्ते के दौरान 10 लाख से ज्यादा मोबाइल नंबर खंगाले। इसमें दूसरे राज्यों के नंबर अलग किए गए। अंत में यूपी, राजस्थान, हरियाणा और दिल्ली का नंबर छांटा गया। उसके बाद दो नंबरों पर शक की सुई अटकी।

    - एक नंबर राजस्थान अौर दूसरा हरियाणा का था। दोनों नंबरों का मूवमेंट लगातार विधानसभा बैंक और तिल्दा नेवरा दिखा रहा था। दोनों नंबरों को फेसबुक में सर्चिंग किया गया। दोनों की तस्वीरें सामने आ गईं। अनिल का फुटेज पहले ही मिल चुका था। इस वजह से उसमें दिक्कत नहीं हुई।

    बेमेतरा की लॉज में रुके
    - अनिल और राजेश के साथ एक और व्यक्ति था, जिसका नाम अरुण बताया गया है। चोरों ने पुलिस को चकमा देने बेमेतरा की लॉज में कमरा लिया था, वहीं से आते-जाते थे। तीनों शातिर चोर हैं। अनिल आईटीबीपी की बटालियन का भगोड़ा है।

    - उसका गुड़गांव में तीन मंजिला आलीशान मकान है। वह अपनी आई-20 कार में घूमता है। उसका साथी राकेश इतना खतरनाक है कि एक मकान में चोरी के दौरान जब पैर से पायजेब नहीं उतर रही थी तो उसने महिला का पैर ही काट दिया था।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×