Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» Villagers Celebrate Celebrating The Birth Of A Baby Elephant

गांव वालों ने हाथी के बच्चे के जन्म का मनाया जश्न, नाम रखा सोनू

पांच दिन पहले ही नारा में मादा हाथी ने दिया था बच्चे को जन्म।

दिलीप शर्मा। | Last Modified - Dec 14, 2017, 06:11 AM IST

  • गांव वालों ने हाथी के बच्चे के जन्म का मनाया जश्न, नाम रखा सोनू
    +1और स्लाइड देखें

    महासमुंद(रायपुर).जंगली हाथियों के झुंड ने जिन गांव के चार लोगों को कुचलकर मार डाला और सैकड़ों एकड़ फसल रौंद डाली, उस गांव के लोगों ने एक नई परंपरा की नींव रखी है। कुछ दिन पहले हाथियों का जो झुंड भटककर राजधानी के करीब नारा गांव पहुंच गया था। वहां मादा हाथी ने एक नवजात को जन्म दिया था। हाथी के बच्चे के जन्म को छह दिन होने पर गांव के लोगों ने छट्ठी मनाई। पांच गांव के ग्रामीण जुटे, मिठाइयां बांटी गईं।

    पंडित ने हाथी के बच्चे का किया नामकरण

    - गांव वालों ने पंडित को बुलाकर नामकरण किया गया। पुरोहित के मुताबिक हाथी के बच्चे का जन्म कुंभ राशि में हुआ है, इसलिए उसका नाम सोनू रखा गया है। इसके बाद एक दूसरे को मिठाई खिलाई। वन अफसर और वन्य जीव प्रेमी इस घटनाक्रम को इसलिए भी काफी महत्वपूर्ण मान रहे हैं, क्योंकि मानव और हाथी के बीच संघर्ष को रोकने के लिए मानव की आेर से सौम्य संबंध की बात की जाती है, यह उस दिशा में एक कदम है।

    वन विभाग पहुंचा मादा हाथी को लेने
    - दरअसल, हाथी और नवजात पिछले दो दिन से कुकराडीह के जंगल में फंसे हुए थे। बाकि 16 हाथियों का दल 30 किलोमीटर दूर केशलडीह जंगल पहुंच चुका था। हाथी भगाओ के संयोजक राधेलाल सिन्हा ने बताया कि बुधवार को 16 हाथियों का दल हाथी और बच्चे को लेने के लिए वापस कुकराडीह पहुंचे।

    - कुछ देर यहां रूकने के बाद हाथियों का दल मादा और बच्चे को लेकर वापस केशलडीह के जंगल लौट गए। मानव और हाथी के बीच संघर्ष को रोकने के लिए अच्छे संबंध की बात की जाती है, यह उस दिशा की ओर एक कदम के रूप में है।

    पांच गांव के ग्रामीण जुटे, मनाया त्योहार
    बुधवार को लहंगर, खड़सा, मोहकम, परसाडीह, पीढ़ी के ग्रामीण एक साथ जुटे थे। ग्रामीण जिस प्रकार गांव में बच्चे के जन्म पर छट्ठी कार्यक्रम मनाकर नामकरण करते हैं, ठीक उसी प्रकार बुधवार को लोगों ने एक दिन काम बंद किया और त्योहार मनाया। इस दौरान झुलबाई, मानबाई, मीना, दुलारी, रेवती, सोनकुवर, अहिल्या, लालवती ध्रुव, मिलू राम, सालिक, कृष्ण कुमार, धनाजी, दिलीप, दिनेश कुमार, चंद्रशेखर, लक्ष्मण साहू, पनकुराम, गौतम, रतनु, ओमप्रकाश के साथ खड़सा, मोहकम, परसाडीह, पीढ़ी तथा लहंगर के गांव प्रमुख हाथी के छट्ठी निमंत्रण में पहुंचे थे।

  • गांव वालों ने हाथी के बच्चे के जन्म का मनाया जश्न, नाम रखा सोनू
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×