--Advertisement--

रविंदर सिंह ने गर्लफ्रेंड की मौत के बाद लिखा था फर्स्ट नॉवेल, ऐसे बने राइटर

यंग ऑथर रविंदर सिंह ने भास्कर से शेयर की राइटर बनने की स्टोरी।

Dainik Bhaskar

Dec 31, 2017, 05:40 AM IST
अब तक 7 नॉवेल लिख चुके रविंदर यं अब तक 7 नॉवेल लिख चुके रविंदर यं

रायपुर. देश के टॉप इंस्टीट्यूट से एजुकेशन। मल्टीनेशनल कंपनी में हाई सैलरी पैकेज पर जॉब। अच्छी लाइफस्टाइल। मकसद-आगे बढ़ना, लेकिन एक दिन ऐसा हुआ, जिसने सबकुछ बदल कर रख दिया। कार एक्सीडेंट में अपनी प्रेमिका की मौत की खबर सुनकर वह हताश तो हुआ, लेकिन अपने प्यार को अमर बनाने के लिए कलम थाम ली। सच्ची प्रेम कहानी को उपन्यास के सांचे में ढाला, जिसका नाम था 'आई टू हैड अ लव स्टोरी'। ये कहानी है यंग रीडर्स में पॉपुलर हो चुके रविंदर सिंह की। अपने पहले ही नॉवेल से यंगस्टर्स के बीच जबर्दस्त फैन फॉलोइंग रखने वाले रविंदर सिंह दैनिक भास्कर के 5 जनवरी से शुरू हो रहे द ग्रेट इंडियन फिल्म एंड लिटरेचर फेस्टिवल (जिफलिफ) में रापयुरियंस से रूबरू होंगे।

मैं राइटर बाय चांस बन गया, अब बाय चॉइस हूं
अब तक 7 नॉवेल लिख चुके रविंदर ने बताया- "मैंने कभी राइटर बनने के बारे में सोचा तक नहीं था। अच्छी कंपनी में जॉब करते हुए मैं अपनी लाइफ एन्जाॅय कर रहा था, लेकिन 2007 में मेरी गर्लफ्रेंड खुशी की कार एक्सीडेंट में मौत ने मुझे झकझोर दिया था। हताश और परेशान होने के बाद अपने जज्बातों और भावनाओं को व्यक्त करने के लिए लिखना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे राइटिंग मेरा पैशन बन गया। मैं राइटर लक बाय चांस बना। मेरा पहला नॉवेल 'आई टू हैड अ लव स्टोरी' मेरे ही प्यार की कहानी है, जिसमें मैंने रिलेशन की शुरुआत से लेकर अाखिरी तक के हर किस्सों को लिखा है। मैं अपनी प्रेम कहानी को अमर बनाना चाहता था, जिसमें मैं कामयाब भी हुआ। मेरे पहले नाॅवेल की अब तक 10 लाख से ज्यादा कॉपियां पब्लिश हो चुकी हैं। इसकी इंडिया ही नहीं विदेशों में भी डिमांड है।"

नए राइटर्स को दे रहे प्लेटफॉर्म

जिफलिफ में रविंदर शहर के लिटरेचर लवर्स से इंट्रैक्ट करेंगे। उन्होंने बताया कि उनका पब्लिशिंग हाउस 'ब्लैक इंक' ऐसे नए राइटर्स को मौका दे रहा है, जो अच्छा लिखते हैं, लेकिन बेहतर प्लेटफॉर्म नहीं मिल पाने से आगे नहीं बढ़ पाते। पब्लिशिंग हाउस ने अब तक पांच नए राइटर्स की बुक पब्लिश की है।

बता दें, 'जिफलिफ' इवेंट गुड़गांव की कंपनी व्हाइट वॉल्स मीडिया का इनिशिएटिव है। इवेंट के स्पॉन्सर सीवी रमन यूनिवर्सिटी है। हेल्थ पार्टनर एनएचएमएमआई हॉस्पिटल और सपोर्टेड बाय आरडीए है।

जिफलिफ 5 से, ऐसे मिलेगी एंट्री

दैनिक भास्कर की ओर से 5 जनवरी से वीआईपी रोड स्थित होटल बेबीलोन इन में तीन दिवसीय जिफलिफ का आर्गनाइज किया जा रहा है। इसमें पद्मभूषण रस्किन बॉन्ड, पद्मभूषण गोपालदास नीरज, एक्टर सौरभ शुक्ला, विनय पाठक, मशहूर शायर राहत इंदौरी, हास्य कवि सम्राट सुरेंद्र शर्मा, नेशनल अवॉर्ड विनर एक्टर-डायरेक्टर रजत कपूर, पीयूष मिश्रा अौर राइटर रविंदर सिंह, मेंटलिस्ट अभिषेक आचार्य जैसी शख्सियतें शामिल होंगी।

जिफलिफ में बुक रीडिंग, फिल्म स्क्रीनिंग, म्यूजिक कॉन्सर्ट, मुशायरा और कवि सम्मेलन जैसे कार्यक्रम होंगे। जिफलिफ के लिए अब तक देश के अलग-अलग शहरों से 1500 से ज्यादा रजिस्ट्रेशन हाे चुके हैं। व्हाइट वॉल्स मीडिया के फाउंडर करन कुकरेजा ने बताया कि जिफलिफ में एंट्री फ्री पास के जरिए मिलेगी। फ्री पास हासिल करने के लिए www.giflif.in पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

X
अब तक 7 नॉवेल लिख चुके रविंदर यंअब तक 7 नॉवेल लिख चुके रविंदर यं
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..