--Advertisement--

बैंकों में कैश की किल्लत से फीका पड़ रहा होली का रंग

News - बैंकों में कैश की किल्लत इस बार होली का त्योहार फीका कर रही है। एसबीआई, छत्तीसगढ़ ग्रामीण बैंक, जिला सहकारी बैंक,...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 03:05 AM IST
बैंकों में कैश की किल्लत से फीका पड़ रहा होली का रंग
बैंकों में कैश की किल्लत इस बार होली का त्योहार फीका कर रही है। एसबीआई, छत्तीसगढ़ ग्रामीण बैंक, जिला सहकारी बैंक, पोस्ट आफिस इन सभी जगहों पर कैश का टोटा बना हुआ है। आम लोगों की सुविधा के लिए विभिन्न राष्ट्रीयकृत बैंक संचालित हैं।

बैंक ग्राहकों की रोजमर्रा जरूरतों को पूरा करने नगद राशि की व्यवस्था करती है। इन दिनों रिजर्व बैंक से ही क्षेत्र के बैंकों में पर्याप्त राशि नहीं पहुंच पा रही है। बैंकों से उपभोक्ताओं को पांच से दस हजार रुपए लिमिट में प्रदाय किए जा रहे हैं। ग्राहक दीनबंधु, रामसिंग, सपन सरकार, सुभाष दास, अशोक विश्वकर्मा, रमेश हलधर ने कहा एक दिन बाद होली है। बैंकों में पांच हजार से ज्यादा नगदी नहीं दी जा रही है। लोगों को सामान खरीदने व मजदूरी भुगतान करने में दिक्कत हो रही है। सरकार कैशलेस लेनदेन पर ज्यादा जोर दे रही है लेकिन आज भी लेनदेन कैशलेस के बजाय व्यापारियों द्वारा नगदी के रूप में किया जाता है। इसके चलते नगदी की जमाखोरी बढ़ती जा रही है। बड़े सामानों के विक्रेताओं द्वारा थोक व्यापारियों जो बड़े शहरों में हैं उन्हें नगद भुगतान किया जा रहा है। इसके कारण आरबीआई द्वारा प्रेषित रोटेशन उसी बैंक सेवाओं में नहीं हो पा रहा है।

परेशानी

एसबीआई, छत्तीसगढ़ ग्रामीण बैंक, जिला सहकारी बैंक, पोस्ट आॅफिस में कैश की कमी, एसबीआई मैनेजर ने कहा- गुरुवार को बैंकों में बंटने की संभावना

बाजार में नहीं लौट रहा पैसा

इस साल केवल परलकोट में धान खरीदी का भुगतान 1 अरब से अधिक का हो चुका है, लेकिन पैसा बाजार या बैंकों में वापस नहीं जा पा रहा है। जिला सहकारी बैंक पखांजूर में 70 करोड़ और कापसी में 30 करोड़ से अधिक की राशि किसानों को बांटी गई है, फिर भी बाजार से रुपए गायब हैं।

पखांजुर में हेलीकॉप्टर उतरते ही पैसा आने की आस

अमूमन बैंकों में पैसा कहां से आता है और कब आता है इसकी जानकारी आम आदमी को नहीं हो पाती है। लोग जानने की कोशिश भी नहीं करते लेकिन नगदी के संकट से जूझ रहे परलकोट के 300 गांव के लोग ज्यादा परेशान हैं। जब भी पखांजूर के मैदान में हेलीकॉप्‍टर उतरता है और सुरक्षा की तैयारी होती है तो आम आदमी के चेहरे पर खुशी दौड़ जाती है कि अब बैंक में पैसा आ गया है।

एक दिन पहले ही पहुंची है राशि

पखांजूर एसबीआई शाखा प्रबंधक चेतन सिंह ठाकुर ने कहा 20 दिनों से आरबीआई से पैसा नहीं आने से नगदी की किल्लत बनी हुई थी। 1 दिन पहले हेलीकॉप्टर से राशि आ गई है। इसे क्षेत्र की सभी बैंक शाखाओं में प्रदान किया जाएगा। अब लगातार राशि आने की संभावना है जिससे लोगों की परेशानी दूर होगी।

व्यापारी कमीशन काटकर लोगों को दे रहे रुपए

अंतागढ़|
बैंकों में पैसे नहीं होने के कारण होली का त्योहार फीका होगा। अंतागढ़ में तीन बैंक व तीन ग्राहक सेवा केंद्र है। तीनों बैंकों में पिछले महीने भर से दो हजार, पांच हजार रुपए ही दिए जा रहे है। कैश की किल्लत के चलते नगर के कुछ व्यापारी इसमें भी अपना मुनाफा निकालने में लग हुए हैं। उनके द्वारा स्वीप मशीन के माध्यम से जरूरतमंद ग्राहकों को एक हजार के पीछे डेढ़ से दो सौ रुपए कमीशन काटकर पैसा दे रहे हैं।

X
बैंकों में कैश की किल्लत से फीका पड़ रहा होली का रंग
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..