Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» आदेश न मिलने से सरकारी अस्पतालों में शुरू नहीं हुई मुफ्त जांच

आदेश न मिलने से सरकारी अस्पतालों में शुरू नहीं हुई मुफ्त जांच

राज्य में बजट के मुताबिक एक अप्रैल से सभी जिला और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों को पैथोलॉजी और...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 03:00 AM IST

आदेश न मिलने से सरकारी अस्पतालों में शुरू नहीं हुई मुफ्त जांच
राज्य में बजट के मुताबिक एक अप्रैल से सभी जिला और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों को पैथोलॉजी और रेडियोलॉजी जांच मुफ्त में शुरू किया था, लेकिन शहरवासियों को इसका लाभ पहले दिन नहीं मिल पाया। भास्कर की पड़ताल में सामने आया कि रविवार को जिला अस्पताल में आने वाले मरीजों से इन जांचों के लिए रोजाना की तरह ही शुल्क लिए गए। इसके पीछे का कारण बताया जा रहा है कि अब तक इसे लेकर शासन की तरफ से कोई आदेश ही नहीं आया है। हालांकि रविवार को बाहर के ज्यादा मरीज नहीं आए।

राजधानी के पंडरी आैर कालीबाड़ी में संचालित जिला अस्पताल में रोजाना इलाज और जांच के लिए करीब 150 मरीज पहुंचते हैं। डॉक्टरों के अनुसार कालीबाड़ी के जिला अस्पताल परिसर में गर्भवती महिलाएं ज्यादा होती हंै। कालीबाड़ी में राेजाना लगभग 80 मरीजों में 70 गर्भवती होती हैं। इसके अलावा नवजात बच्चों को पीलिया होने पर उनका भी टेस्ट यहां किया जाता है। जबकि पंडरी वाले अस्पताल में 70-80 मरीज आते हैं। इनमें सभी प्रकार की बीमारियों के होते हैं। डॉक्टरों ने बताया कि वैसे तो अभी भी स्मार्ट कार्ड, बीपीएल कार्ड, वीआईपी, अस्पताल स्टॉफ, सीनियर सिटीजन से जुड़े लोगों की जांच और इलाज फ्री में किया जाता है। पैथोलॉजी और रेडियोलॉजी जांच मुफ्त में करने को लेकर नया आदेश आने पर सामान्य मरीजों की भी इसकी सुविधा मिलेगी। पीलिया की जांच पहले से सालभर फ्री में किए जाने का प्रावधान है।

शहर के जिला अस्पतालों में रोजाना पैथोलॉजी जांच कराने आते हैं 150 मरीज

पंडरी से 45 तो कालीबाड़ी से 35 हजार होती है कमाई

राजधानी के जिला अस्पताल में अभी पैथालॉजी- रेडियोलॉजी से होने वाली कमाई लगभग 70 से 80 हजार रुपए प्रतिमाह है। पंडरी अस्पताल से जहां 40 से 45 हजार रुपए तो कालीबाड़ी स्थित अस्पताल से लगभग 30 से 35 हजार रुपए की इस जांच से कमाई होती है। डॉक्टरों का कहना है कि अचानक जांच फ्री करने से यह आय प्रभावित होगी। इस खत्म होने वाली आय को कैसे मैनेज करना है, यह अभी नहीं बताया गया है। इसलिए अभी जांच में जो न्यूनतम शुल्क है, वह मरीजों से लिया जा रहा है।

बाजार में रेट ज्यादा, सरकारी अस्पतालों में आैर बढ़ेगी भीड़

पैथालॉजी जांच के लिए बाजार या निजी अस्पतालों में जाने पर 100 से 500 रुपए ब्लड की जांच के लिए लग जाते हैं, लेकिन यह सुविधा जिला अस्पतालों आैर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में मुफ्त में दी जाएगी। इससे अब सरकारी अस्पतालों में आने वाले मरीजों की संख्या पहले से दोगुनी हो जाएगी। इससे उन मरीजों को भी फायदा मिलेगा जिनके पास बीपीएल कार्ड या स्मार्ट कार्ड नहीं हैं। स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने बताया कि फ्री टेस्ट की सुविधा शुरु होने में डेढ़ से दो महीने का समय आैर लग सकता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×