Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» गायत्री महायज्ञ के आखिरी दिन दी गई पूर्णाहुति, ऋषि पुत्रों से लोगों ने ली दीक्षा

गायत्री महायज्ञ के आखिरी दिन दी गई पूर्णाहुति, ऋषि पुत्रों से लोगों ने ली दीक्षा

गुढ़ियारी के बिजली ऑफिस मैदान में चल रहे चार दिवसीय 24 कुंडीय गायत्री महायज्ञ का समापन रविवार को पूर्णाहुति के साथ...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 03:00 AM IST

गायत्री महायज्ञ के आखिरी दिन दी गई 
पूर्णाहुति, ऋषि पुत्रों से लोगों ने ली दीक्षा
गुढ़ियारी के बिजली ऑफिस मैदान में चल रहे चार दिवसीय 24 कुंडीय गायत्री महायज्ञ का समापन रविवार को पूर्णाहुति के साथ हो गया। पूर्णाहुति के दौरान प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री श्री राजेश मूणत, सांसद श्री रमेश बैस, बीज विकास निगम के अध्यक्ष श्याम बैस के साथ कई विशिष्ट अतिथि मौजूद रहे। इस दौरान हरिद्वार से आए ऋषि पुत्रों ने दीक्षा और संस्कार के माध्यम से कई लोगों को गायत्री परिवार की दीक्षा दिलाई। इस मौके पर अनिष्ट निवारण, मानव कल्याण, मानव स्वास्थ्य लाभ , संस्कृति को बचाने, गायत्री परिवार के सेवा भावी सदस्यों, पर्यावरण संशोधनात्मक, प्रकृति को बचाने, सीमा पर तैनात सैनिकों के कल्याण और शहीद सैनिकों की आत्मा की शांति के लिए आहुतियां दी गईं। इस दौरान मां गायत्री की महिमा का गुणगान भी किया गया। इस मौके पर बीज निगम के एमडी आलोक अवस्थी, बीज निगम की संचालक सदस्य वृंदा तांबे का स्वागत भी किया गया। पूर्णाहुति के के अवसर पर गायत्री परिवार ट्रस्ट के मुख्य प्रबंध ट्रस्टी श्याम बैस ने गायत्री परिजनों को संबोधित करते हुए कहा कि गायत्री परिवार में दीक्षा मिलती है जिसे जीवन में धारण करने से बेहतर समाज का निर्माण होता है। उन्होंने कहा कि गायत्री परिजनों को शिक्षित होने के साथ दीक्षित होना भी जरुरी है। गायत्री परिवार संस्कारों का परिवार है। इसलिए गायत्री परिवार के परिजन जिस कार्य को करने का मन में संकल्प ले लेते है उसे खुद के श्रम दान से पूरा करते हैं। आयोजन समिति के प्रमुख दीनानाथ शर्मा ने बताया की अनुयाज के रूप में महायज्ञ का आयोजन हुआ, जो गायत्री परिजनों और क्षेत्र की जनता के सहयोग से पूरा हो सका। आगे भी गायत्री परिजनों के द्वारा अनुयाज का कार्य जारी रहेगा

महायज्ञ में पूर्णाहुति डालने के लिए बड़ी संख्या में गायत्री परिवार के सदस्य गुढ़ियारी के बिजली ऑफिस मैदान पहुंचे।

ऋषि पुत्रों की विदाई, भंडारा भी हुआ

समापन के साथ ही हरिद्वार से आए ऋषि पुत्रों से आशीर्वाद लेते हुए उन्हें विदाई दी गई। इसके साथ ही विदाई के बाद भंडारे का आयोजन किया गया। इसमें सैकड़ो की संख्या में गायत्री परिजनों के अलावा आम जनता की उपस्थिति रही। इस अवसर पर सभी ने राष्ट्र कल्याण और समाज कल्याण के दिशा में कार्य करने का संकल्प लिया। इस अवसर पर जोन समन्वयक दिलीप पाणीग्राही, जिला समन्वयक लच्छू निषाद, एकनाथ येवले, एसएन राय, नीलकंठ साहू, सनमान सिंह, मोहन उपारकर , बंशीलाल, एसएन मूर्ति, दिनेश निषाद, रघुवर दयाल, आरएस रहांगडाले, संध्या सिन्हा, राम खिलावन साहू ,चोलाराम साहू, एमएल भारती, तिलक सिंह राजपूत आदि मौजूद थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×