Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» तारों पर गिरे होर्डिंग्स पोस्टर, आधी रात तक अंधेरा

तारों पर गिरे होर्डिंग्स पोस्टर, आधी रात तक अंधेरा

राजधानी में रविवार शाम को आंधी-बारिश की वजह से कम, होर्डिंग्स और बैनरों के तारों पर गिरकर शार्ट होने से लोग आधी रात...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 03:05 AM IST

तारों पर गिरे होर्डिंग्स पोस्टर, आधी रात तक अंधेरा
राजधानी में रविवार शाम को आंधी-बारिश की वजह से कम, होर्डिंग्स और बैनरों के तारों पर गिरकर शार्ट होने से लोग आधी रात तक परेशान रहे। शहर के एक चौथाई इलाके में आधी रात तक बिजली सप्लाई बहाल नहीं की जा सकी। शहरभर में 150 से ज्यादा शिकायतें दूर करने के लिए बिजलीकर्मी कम पड़ गए।

शाम को करीब 5 बजे तेज आंधी के साथ ही बिजली कंपनी ने कई इलाकों में शट डाउन कर लिया। कुछ जगहों पर एहतियातन बिजली बंद की गई लेकिन शहर के बड़े हिस्से में पेड़ों और बड़े-बड़े होर्डिंग्स में फंसकर बिजली की सप्लाई प्रभावित हो गई। पोस्टर उलझने से ज्यादातर सप्लाई लाइनें शार्ट हुईं। जीई रोड में शारदा चौक के पास, ईदगाहभाठा, रामसागरपारा, संजय नगर, टिकरापारा, कुशालपुर, तेलघानी नाका, मौदहापारा, लाखे नगर, अग्रसेन चौक, समता कालोनी और कुछ अन्य इलाकों में बिजली बंद हो गई। रात 9 बजे तक कुछ इलाकों में बिजली लौटी आई लेकिन ज्यादातर देर रात तक अंधेरे में डूबे रहे। कई जगह मैदानी अमला मरम्मत के लिए पहुंचा, लेकिन फाल्ट ढूंढने और उसे दूर करने में वक्त लग गया।

बिजली दफ्तरों में भीड़, गुस्सा भी

शहर के ज्यादातर इलाकों में देर रात तक लाइट नहीं आने पर लोग परेशान होते रहे। बिजली दफ्तर खाली थे, इसलिए कई जगह लोगों का गुस्सा भी फूटा। लाखेनगर बिजली दफ्तर सिर्फ लाइनमैन के भरोसे था, और वहीं सबसे ज्यादा शिकायतें आईं। बूढ़ापारा बिजली दफ्तर में भी लोग शिकायतें लेकर देर रात तक पहुंचते रहे। सिविल लाइन बिजली आफिस में आसपास की शिकायतें कम थीं, दूर वाले वार्डों से लोग रात तक पहुंचते रहे।

अफसर भी उतारे : सीई

मैदानी अमले के साथ अफसर भी फील्ड पर उतार दिए थे। 70 फीसदी जगहों पर 10 बजे तक बिजली चालू हो गई। जहां बड़े फाल्ट हैं, वहीं देर रात तक काम चला। सीके अवस्थी, चीफ इंजीनियर रायपुर

सिटी रिपोर्टर | रायपुर

राजधानी में रविवार शाम को आंधी-बारिश की वजह से कम, होर्डिंग्स और बैनरों के तारों पर गिरकर शार्ट होने से लोग आधी रात तक परेशान रहे। शहर के एक चौथाई इलाके में आधी रात तक बिजली सप्लाई बहाल नहीं की जा सकी। शहरभर में 150 से ज्यादा शिकायतें दूर करने के लिए बिजलीकर्मी कम पड़ गए।

शाम को करीब 5 बजे तेज आंधी के साथ ही बिजली कंपनी ने कई इलाकों में शट डाउन कर लिया। कुछ जगहों पर एहतियातन बिजली बंद की गई लेकिन शहर के बड़े हिस्से में पेड़ों और बड़े-बड़े होर्डिंग्स में फंसकर बिजली की सप्लाई प्रभावित हो गई। पोस्टर उलझने से ज्यादातर सप्लाई लाइनें शार्ट हुईं। जीई रोड में शारदा चौक के पास, ईदगाहभाठा, रामसागरपारा, संजय नगर, टिकरापारा, कुशालपुर, तेलघानी नाका, मौदहापारा, लाखे नगर, अग्रसेन चौक, समता कालोनी और कुछ अन्य इलाकों में बिजली बंद हो गई। रात 9 बजे तक कुछ इलाकों में बिजली लौटी आई लेकिन ज्यादातर देर रात तक अंधेरे में डूबे रहे। कई जगह मैदानी अमला मरम्मत के लिए पहुंचा, लेकिन फाल्ट ढूंढने और उसे दूर करने में वक्त लग गया।

बिजली दफ्तरों में भीड़, गुस्सा भी

शहर के ज्यादातर इलाकों में देर रात तक लाइट नहीं आने पर लोग परेशान होते रहे। बिजली दफ्तर खाली थे, इसलिए कई जगह लोगों का गुस्सा भी फूटा। लाखेनगर बिजली दफ्तर सिर्फ लाइनमैन के भरोसे था, और वहीं सबसे ज्यादा शिकायतें आईं। बूढ़ापारा बिजली दफ्तर में भी लोग शिकायतें लेकर देर रात तक पहुंचते रहे। सिविल लाइन बिजली आफिस में आसपास की शिकायतें कम थीं, दूर वाले वार्डों से लोग रात तक पहुंचते रहे।

अफसर भी उतारे : सीई

मैदानी अमले के साथ अफसर भी फील्ड पर उतार दिए थे। 70 फीसदी जगहों पर 10 बजे तक बिजली चालू हो गई। जहां बड़े फाल्ट हैं, वहीं देर रात तक काम चला। सीके अवस्थी, चीफ इंजीनियर रायपुर

शाम 6:00 बजे

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×