--Advertisement--

वन अफसर बनकर की 14 लाख की ठगी, पांच मीडियाकर्मी फंसे

रायपुर | वन मंत्री से 26 करोड़ का पौधा सप्लाई का ठेका दिलाने का झांसा देकर नोएडा के कारोबारी से 14 लाख की ठगी की गई।...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 03:05 AM IST
रायपुर | वन मंत्री से 26 करोड़ का पौधा सप्लाई का ठेका दिलाने का झांसा देकर नोएडा के कारोबारी से 14 लाख की ठगी की गई। फर्जी वन अफसर बनकर वारदात को अंजाम देने वाले पांच मीडिया कर्मियों काे पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

आरोपियों ने वन मंत्री का करीबी होने का झांसा दिया और पैसे ले लिए। आरोपी फर्जी सीसीएफ बनकर आए थे। उन्हें एग्रीमेंट की कॉपी भी दी थी, जिसमें मुख्य वन संरक्षक का सील और साइन था। एडिशनल एसपी विजय अग्रवाल ने बताया भोपाल का राजेंद्र सेन मीडिया कर्मी है। वह अभी रायपुर में रहता है। उसने अपने साथी मंडला के मुकेश श्रीवास, संकट मोचन, अमित सोनी और दिव्यकांत विश्वकर्मा के साथ मिलकर 14 लाख की ठगी की। आरोपी मीडिया लाइन से जुड़े हुए है। आरोपी राजेंद्र गिरोह का सरगना है। उसकी मुलाकात दो साल पहले दिल्ली के पत्रकार राजीव उर्फ राजू शर्मा से हुई। उसके बाद से दोनों के बीच लगातार बातचीत होती रही।



दो माह पहले राजेंद्र ने राजीव से संपर्क किया कि वन विभाग में पौधा सप्लाई करने का ठेका निकला है। 26 करोड़ का प्रोजेक्ट है। राजेंद्र ने कहा कि उनके कहने पर मंत्री किसी को भी ठेका दे सकते हैं। राजीव उसके झांसे में आ गए। उन्होंने अपने दोस्त सुमित्रा इंटरनेशनल के अभिनव कृष्ण अग्रवाल से चर्चा की। उन्हें ठेका लेने के लिए राजी हो गए। दोनों उससे मिलने रायपुर आए। जहां आरोपी ने मुकेश श्रीवास से मुलाकात कराई। उसका परिचय सीसीएफ अरुण पांडे के तौर पर दिया। उसके साथ संकट मोचन चंडोल और अमित सोनी थे। एक स्टेनो और दूसरा अकाउंटेंट बना हुआ था। आरोपियों ने तीन लाख का चेक लिया और एग्रीमेंट साइन करके दे दिया। स्टेनो को भी खर्च के लिए एक लाख दिलाए। आरोपी वहां से चले गए। सभी दस्तावेज दिव्यकांत विश्वकर्मा ने बनाए है। आरोपियों से वन विभाग की सील और लेटर मिला है। आरोपियों को पुलिस रिमांड पर लिया गया है। उनसे पूछताछ की जा रही है। पुलिस पैसे जब्त करने की कोशिश कर रही है। आरोपियों के खिलाफ नागपुर में भी केस दर्ज होने की चर्चा है। पुलिस ने नागपुर पुलिस से जानकारी मांगी है।