• Home
  • Chhattisgarh News
  • Raipur News
  • News
  • अब सीजीपी एप के माध्यम से देख सकेंगे ऑनलाइन एफआईआर, थाने हुए हाईटेक
--Advertisement--

अब सीजीपी एप के माध्यम से देख सकेंगे ऑनलाइन एफआईआर, थाने हुए हाईटेक

रायपुर

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 03:05 AM IST
रायपुर
शहरी क्षेत्रों के थानों को हाईटेक बनाया जा रहा है। थाने में ऑनलाइन एफआईआर होते ही अब सीधे मोबाइल में एप के जरिए केस स्टेट्स देख सकेंगे। हाल ही में पुलिस विभाग ने इस एप को बनवाया है। इस एप में जिले का नाम, थाने का लोकेशन और दिनांक बताने पर पूरी जानकारी आपके मोबाइल पर ही मिल जाएगी। इस तरह की एप सुविधा रायपुर के अलावा प्रदेश के लोगों को भी मिलेगी। क्योंकि इस एप के जरिए प्रदेश के हर थानों को जोड़ा जा रहा है। जिससे लोग घर बैठे एफआईआर की कॉपी ऑनलाइन ही देख सकेंगे। यह सुविधा ई-गर्वेंनेंस योजना के तहत शुरु की जा रही है। इससे हर केस स्टेट्स की जानकारी मिल सकेगी।



concern

पुलिस विभाग ने एक ऐसा एप बनाया है, जिससे ऑनलाइन एफआईआर होने पर किसी भी व्यक्ति को केस स्टेट्स की जानकारी एप के जरिए मिल सकेगी। शहर के सभी थानों को एप से जोड़ा गया है। वहीं दूसरे राज्य के लोगों को भी केस स्टेट्स की जानकारी भी एप के माध्यम से मिल जाएगी।

पुलिस विभाग ने बनाया सीजीपी एफआईआर सिटीजन नाम का एप

आप भी ऐसे देख सकते हैं ऑनलाइन एफआईआर

मोबाइल के प्ले स्टोर में सीजीपी एफआईआर सिटीजन नाम से सर्च करना होगा। प्ले स्टाेर से डाउनलोड करने के बाद उसमें एक पेज खुलेगा। फिर जिले का नाम टाइप करना होगा। फिर थाने का लोकेशन सर्च करने के लिए पोस्ट करना होगा। इसके बाद किस तारीख से किस दिन तक का एफआईआर देखना है,उसे सर्च करना होगा। रेंज के एसपी, आईजी और थानेदारों के नंबर उपलब्ध है। इसमें शिकायत कर सकते है। साथ ही अपनी शिकायत लिखित में भी कर सकते है। इससे दूसरे राज्यों में रह रहे पीड़ित और पुलिस वाले भी जुड़ सकेंगे।

एफआईआर के लिए एप भी तैयार

 कोई भी व्यक्ति ऑनलाइन एफआईआर एप के माध्यम से देख सकता है। मोबाइल एप डाउनलोड कर थाने में होने वाले एफआईआर की जानकारी ले सकता है। आरके विज, एडीजी, योजना एवं प्रबंध, पीएचक्यू

प्रदेश के 300 से ज्यादा थाने के एफआईआर एप से जुड़े

पहले यह सुविधा सिर्फ वेबसाइट पर ही थी

आपको बता दें कि पहले यह सुविधा वेबसाइट पर ही थी, लेकिन अब एप पर भी यह सुविधा प्रारंभ की गई है। इसी के जरिए ही एफआईआर का स्टेट्स ऑनलाइन देखा जा सकता था। वहीं मिसिंग लोगों के अलावा डेडबॉडी की जानकारी पुलिस मुख्यालय की ही वेबसाइट पर दिखाई देती थी, लेकिन अब एप के जरिए पूरे प्रदेश में दिखाई देगी।

इसलिए थानों को किया जा रहा ऑनलाइन

ई-गर्वेंनेंस सिस्टम के तहत देश के सभी थानों को क्राइम क्रिमिनल ट्रेकिंग नेटवर्क एंड सिस्टम से जोड़ा गया है। इसका सर्वर सीधे दिल्ली के कंट्रोल रूम से जुड़ा हुआ है। इसका उद्देश्य यह है कि देशभर के थानों के एफआईआर की मॉनीटरिंग केंद्रीय स्तर पर करना है। ऐसा होने के बाद उस स्टेटस में कोई छेडखानी नहीं हो सकेगी।

एप से जोड़ी जाएंगी और भी सुविधाएं

इस एप में अज्ञात लाश की जानकारी भी ऑनलाइन की जाएगी। साथ ही गुम इंसान के मामले भी दर्ज किए जाएंगे। पहले चरण में एफआईआर से संबंधित जानकारी की अपलोड की जाएगी। इसमें सभी थाने के गुमइंसान की जानकारी अपलोड की जाएगी। वहीं डेड बॉडी की जानकारी फोटो समेत ऑनलाइन की जाएगी।