• Home
  • Chhattisgarh News
  • Raipur News
  • News
  • आरआई-पटवारी लगाए गए ‘आधार’ में, फिर पेंडिंग होने लगे जमीन विवाद
--Advertisement--

आरआई-पटवारी लगाए गए ‘आधार’ में, फिर पेंडिंग होने लगे जमीन विवाद

प्रशासनिक रिपोर्टर | रायपुर तहसील के सभी राजस्व निरीक्षकों और पटवारियों को पिछले एक महीने से आधार सीडिंग और...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 03:15 AM IST
प्रशासनिक रिपोर्टर | रायपुर

तहसील के सभी राजस्व निरीक्षकों और पटवारियों को पिछले एक महीने से आधार सीडिंग और जमीन दस्तावेजों को ऑनलाइन करने के काम में लगा दिया गया है। किसान ऋण पुस्तिका से आधार नंबर सीडिंग नहीं करने वाले जिले के राजस्व निरीक्षकों और पटवारियों पर लगातार कार्रवाई की जा रही है।

काम में लापरवाही करने वाले 57 पटवारियों की सैलरी रोकने के साथ ही तीन पटवारियों को निलंबित भी किया जा चुका है। इस वजह से रायपुर समेत जिले की सभी तहसीलों में जमीन के नामांतरण, डायवर्सन, सीमांकन और बटांकन के 25 हजार से ज्यादा मामले पेंडिंग हो चुके हैं। केवल रायपुर तहसील में दस हजार से ज्यादा मामले पेंडिंग है।तहसील में लंबित मामलों की संख्या कम करने के लिए कलेक्टर ने रजिस्टर सिस्टम लागू करने के साथ ही सभी नायब तहसीलदार, तहसीलदार और एसडीएम का मुख्यालय में बैठने का समय तय किया था। अफसरों को हर हफ्ते यह रिपोर्ट पेश करने को कहा गया था, लेकिन यह सिस्टम भी फेल हो गया। एक ही मामले में बार-बार सुनवाई और मामलों का निपटारा नहीं होने की वजह से तहसील में एक ही दिन में दो बाबूओं की पिटाई हो गई। तहसील में हुई मारपीट की घटना की रिपोर्ट कलेक्टर ने मांगी है। उन्होंने एसडीएम और तहसीलदार से पूछा है कि किन कारणों की वजह से तहसील में इस तरह की घटनाएं हुई।

इधर, तहसील में आरआई और बाबू से हुई मारपीट का कर्मचारी संघ ने विरोध किया है। छत्तीसगढ़ प्रदेश तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ ने बुधवार को आरआई से मारपीट के विरोध में दूसरे दिन भी प्रदर्शन किया। के प्रांतीय महामंत्री विजय कुमार झा और उपाध्यक्ष अजय तिवारी ने कहा कि जमीन दलालों के बढ़ते हौसलों की वजह से कर्मचारी काम नहीं कर पा रहे हैं।





उन्होंने दोनों मामलों में कड़ी कार्रवाई की मांग की। इस घटना के बाद एसडीएम सिटी हरबंस मिरी ने तहसील के सभी अफसरों और कर्मचारियों से कहा है कि वे किसी के भी दबाव में काम न करें। कोई भी व्यक्ति इस तरह की गैर कानूनी हरकत करता है तो उस पर कड़ी कार्रवाई कराई जाएगी। कर्मचारी बेखौफ होकर तहसील में काम करें।