• Home
  • Chhattisgarh News
  • Raipur News
  • News
  • छत्तीसगढ़ और सारनाथ में दस दिन में लूटे गए आधा दर्जन महिलाओं के हैंडबैग, गिरोह सक्रिय
--Advertisement--

छत्तीसगढ़ और सारनाथ में दस दिन में लूटे गए आधा दर्जन महिलाओं के हैंडबैग, गिरोह सक्रिय

ट्रांसपोर्ट रिपोर्टर | रायपुर धीमी लेकिन बेहद भीड़भरी दो प्रमुख ट्रेनों छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस और सारनाथ...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:30 AM IST
ट्रांसपोर्ट रिपोर्टर | रायपुर

धीमी लेकिन बेहद भीड़भरी दो प्रमुख ट्रेनों छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस और सारनाथ एक्सप्रेस में एक हफ्ते के भीतर महिला यात्रियों से हैंडबैग लूटने की आधा दर्जन वारदातों से रेलवे सुरक्षाबलों में खलबली मच गई है। सभी वारदातें स्टेशन के करीब हुई हैं, जब ट्रेन की रफ्तार कम होती है। लुटेरे हैंडबैग छीनकर चलती ट्रेन से कूदकर भाग रहे हैं। छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस में रायपुर से नागपुर के बीच और सारनाथ में कटनी के आसपास ऐसी वारदातें हुई हैं। हालांकि राजधानी में एक ही मामले की रिपोर्ट हुई है, जिसमें महिला का हैंडबैग रतलाम स्टेशन से गाड़ी छूटने के बाद छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस से लूटा गया था।

सुरक्षा बलों के मुताबिक ऐसी वारदातें दिनदहाड़े भी हुई हैं और सभी में स्लीपर कोच की महिला यात्रियों को निशाना बनाया गया है। जीआरपी के मुताबिक पुरानी बस्ती की अर्चना मिश्रा 24 फरवरी को छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस से दिल्ली की ओर से आ रही थीं, तब तड़के 4 बजे जैसे ही ट्रेन थोड़ी धीमी रफ्तार से रतलाम स्टेशन से बाहर निकली, एक युवक ने उनका हैंडबैग छीना और ट्रेन से कूद गया। ऐसी तीन वारदातें कटनी के आसपास भी हुई हैं, जिनकी वहां रिपोर्ट दर्ज है। इसलिए सुरक्षाबलों ने महिलाओं को हैंडबैग की दिन में हिफाजत करने के लिए एलर्ट भी किया है।

कीमती सामान हैंडबैग में ही

रेल पुलिस का कहना है कि लुटेरों का यह गिरोह बिलासपुर और नागपुर, दोनों जोन में वारदातें कर रहा है। हैंडबैग इसलिए छीना जा रहा है, क्योंकि आमतौर पर महिलाएं मोबाइल समेत अपना सारा कीमती सामान इसी में रखती हैं। स्लीपर कोच में लोकल यात्री चढ़ते-उतरते रहते हैं, इसलिए महिलाओं की रेकी करना आसान रहता है। कुछ देर की रेकी के बाद ही लुटेरे ऐसी वारदातों को अंजाम देकर इसलिए आसानी से भाग जाते हैं क्योंकि ट्रेन स्पीड पकड़ रही होती है।

रायपुर से निकली ट्रेनों में रतलाम और कटनी के पास लगातार हो रही वारदात

लूट सुबह 7 बजे तक

ट्रेनों में हैंड बैग छिनकर भागने की वारदातें तड़के 4 से सुबह 7 बजे तक हुई हैं। छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस में यह वारदातें रतलाम के आसपास और सारनाथ एक्सप्रेस में कटनी के पास इसलिए हो रही हैं क्योंकि यहां ट्रेन बड़ी सुबह पहुंचती हैं। आसपास से क्रास होने के दौरान सुबह वारदातें इसलिए भी आसानी से की जा रही हैं क्योंकि तब लोग बहुत अधिक एलर्ट नहीं रहते हैं।