न्यूज़

  • Home
  • Chhattisgarh News
  • Raipur News
  • News
  • कर्मचारियों का वेतन बढ़ाया लेकिन विभाग ने ज्यादा फंड भेजने नहीं लिखा पत्र, इसलिए पांच महीने से अटका वेतन
--Advertisement--

कर्मचारियों का वेतन बढ़ाया लेकिन विभाग ने ज्यादा फंड भेजने नहीं लिखा पत्र, इसलिए पांच महीने से अटका वेतन

रायपुर

Danik Bhaskar

Mar 01, 2018, 03:35 AM IST
रायपुर
डीबी स्टार टीम को शिकायत मिली कि कृषि संचालनालय में पदस्थ दर्जनों कर्मचारियों को पांच महीने से वेतन नहीं मिला है। लिहाजा टीम ने इसकी पड़ताल की। इस दौरान खुलासा हुआ कि अप्रैल 2017 से ही नए वेतन दर आए है। इसमें उन्हें बढ़ी हुई सैलेरी दी जानी है, लेकिन पिछले पांच महीने से उनके खाते में सैलेरी नहीं पहुंच रही है। दरअसल इसके पीछे की वजह यह है कि वेतन दर बढ़ने पर कृषि संचालनालय ने शासन को पत्र नहीं लिखा। इसलिए पुराने दर पर ही फंड का आबंटन कर दिया गया। उतना फंड अक्टूबर महीने में ही खत्म हो गया। इसके बाद से आज तक एक भी रूपए वेतन नहीं मिला है।

कृषि संचालनालय का मामला, लैब टेक्नीशियन से लेकर वाहन चालकों को नहीं मिला वेतन

कृषि संचालनालय के लैब टेक्नीशियन से लेकर वाहन चालकों की सैलेरी पिछले पांच महीने से रोक दी गई है। विभाग को हर साल इन्हें सैलेरी बांटने के लिए फंड दिया जाता था, लेकिन इसी साल वेतन दर में बढ़ोत्तरी हो गई।

DB Star

investigation

6 लाख से ज्यादा का फंड नहीं मिला

कृषि संचालनालय में पदस्थ कर्मचारियों के वेतन देने विभाग ने अभी पत्र लिखा है। पांच-पांच महीने की सैलेरी के हिसाब से फिलहाल कर्मचारियों को 6 लाख रुपए से ज्यादा भुगतान करना होगा। इसके अलावा आगे आने वाले महीने के लिए भी दोगुना फंड अलॉट कराना पड़ेगा।

ऐसे समझिए, किसकी लापरवाही

और क्यों नहीं मिल रहा वेतन

2017 अप्रैल में आदेश हुआ जारी

सरकार ने संविदा कर्मचारियों को वेतन बढ़ाने का आदेश दिया। पहले उन्हें कलेक्टर दर से 6 हजार से कुछ रुपए ज्यादा मिलता था। इसके बाद आदेश निकाले जाने के बाद करीब 12 हजार रुपए के आसपास उनकी सैलेरी हो गई है।

विभाग ने वेतन वृद्धि के लिए नहीं लिखा पत्र

हर साल पुराने दर पर ही फंड अलॉट होता था। इसी साल वेतन बढ़ गए। फिर भी विभाग ने शासन को पत्र नहीं लिखा, जबकि उन्हें अवगत कराया जाना था कि ज्यादा फंड भेजे। फिर भी जिम्मेदारों ने पत्र नहीं लिखा।

दोगुना वेतन बांटा, 5 महीने में ही फंड खत्म

अप्रैल से उन कर्मचारियों को दोगुनी सैलेरी बांट-बांट कर खत्म कर दी गई। उसी दौरान ही पत्र लिखकर जिम्मेदारों को फंड अलॉट कराना था, लेकिन किसी भी जिम्मेदारों ने समय पर फंड के लिए शासन को पत्र नहीं लिखा।

त्योहारी सीजन में वेतन नहीं मिलने से बढ़ी परेशानी

दिवाली त्योहार के समय से ही कर्मचारियों को वेतन बांटना बंद कर दिया गया है। इसके अलावा नए साल में भी सैलेरी नहीं दी गई। वहीं होली त्योहार में भी उन्हें सैलेरी अब तक नहीं दी गई है। इसी तरह त्योहारी सीजन में उन्हें वेतन नहीं मिलने से दिक्कतें हो रही है।

फंड अलॉटमेंट में हुई देरी

 इस संबंध में मुझे जानकारी है। इसी साल वेतन दर उनके बढ़े है। इसलिए अलॉट में देरी हुआ है। सरकार को इस संबंध में जानकारी भेजी गई है। जैसी ही फंड की स्वीकृति मिलेगी, वैसे ही पेमेंट कर दिया जाएगा। एनके दीक्षित, उप संचालक, कृषि

Click to listen..