Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» युवक ने दोस्त के कारोबार में 20 लाख लगाए मांगे तो मार डाला, शव हटा नहीं पाए और फंसे

युवक ने दोस्त के कारोबार में 20 लाख लगाए मांगे तो मार डाला, शव हटा नहीं पाए और फंसे

न्यू राजेंद्रनगर में सोमवार की शाम 7 बजे पंडरी के कपड़ा कारोबारी कमलचंद गोलछा के छोटे बेटे सिद्धार्थ को उसके दोस्त...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 14, 2018, 04:25 AM IST

युवक ने दोस्त के कारोबार में 20 लाख लगाए मांगे तो मार डाला, शव हटा नहीं पाए और फंसे
न्यू राजेंद्रनगर में सोमवार की शाम 7 बजे पंडरी के कपड़ा कारोबारी कमलचंद गोलछा के छोटे बेटे सिद्धार्थ को उसके दोस्त ऋषभ ने कारोबार के 20 लाख रुपए का लौटानेे के बजाय बेरहमी से मार डाला। पुलिस की जांच में यह बात सामने आई कि सिद्धार्थ और ऋषभ करीब डेढ़ साल से मेडिकल का कारोबार पार्टनरशिप में कर रहे थे। सिद्धार्थ के पैसों से ऋषभ महंगे मेडिकल सामान मंगाकर अपनी दुकान में बेचता था। करीब 20 लाख सिद्धार्थ को लेने थे। कुछ दिन से वह पैसे वापस मांग रहा था। इसलिए आरोपी ने उसकी हत्या की साजिश रची और उसे सोमवार की रात अपने मेडिकल स्टोर में बुलाया। वहां अपने नाबालिग साले के साथ मिलकर सिद्धार्थ को कुर्सी से बांध दिया गया। इसके बाद उसके सिर पर इतने हथौड़े मारे गए कि युवक ने वहीं दम तोड़ दिया। वारदात के बाद लाश ठिकाने लगाने के लिए उसके नाबालिग साले ने अपने दो दोस्तों को बुलाया। चारों ने मिलकर शव बोरी में भरने की कोशिश की, ताकि दूसरी जगह ले जा सकें। वजनी होने के कारण वे ऐसा नहीं कर सके। शव को वहीं छोड़कर दुकान बंद करके चले गए। इधर, सिद्धार्थ देर रात तक घर नहीं लौटा तो पुलिस के साथ परिजनों ने उसकी तलाश शुरू की। मोबाइल लोकेशन के आधार पर मंगलवार को सुबह पुलिस मेडिकल स्टोर का ताला तोड़कर घुसी। दुकान में खून से लथपथ सिद्धार्थ की लाश मिली। पुलिस ने कुछ घंटे में तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया, लेकिन मुख्य आरोपी ऋषभ देर रात अभनपुर के पास पकड़ा गया।

पुलिस इस वारदात में गिरफ्तार ऋषभ की प|ी के नाबालिग भाई के अलावा उसके दोस्तों मोहनीश कुमार और हिमांशु यादव से पूछताछ कर रही है। ऋषभ की तलाश में भी पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम ने मंगलवार की देर शाम कई जगह छापेमारी की। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि मेडिकल कारोबारी ऋषभ ने पूरी प्लानिंग के साथ सिद्धार्थ को न्यू राजेंद्र नगर के मेडिकल दुकान में बुलवाया।

सिद्धार्थ वहां अक्सर उससे मिलने आता था। इस वजह से वह बेझिझक पहुंच गया। करीब एक घंटे तक दोनों भीतर बातचीत करते रहे। उसके बाद आरोपी ने अपनी प|ी के भाई के साथ मिलकर उसे कुर्सी से बांधा उसके बाद हत्या की।

मोबाइल के लोकेशन से मिला सुराग, सभी आरोपी मंगलवार देर रात गिरफ्तार

मुंह में कपड़ा ठूंसकर मारा

कुर्सी से बांधने के बाद ऋषभ ने सिद्धार्थ के मुंह में कपड़ा ठूंसा और कंप्यूटर पर तेज साउंड में गाना चालू कर दिया ताकि उसके चीखने चिल्लाने की आवाज कोई सुन न सके। पुलिस काे प्रारंभिक जांच में ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि जब सिद्धार्थ और ऋषभ के बीच विवाद चल रहा था तभी ऋषभ ने मौका पाकर उसके सिर पर पीछे से हमला किया।

वह बेहोश हो गया। उसके बाद ऋषभ ने अपने साले के साथ मिलकर उसे कुर्सी से बांधा और फिर उसकी हत्या की।

पुलिस ने छोड़ा, फिर भागा आरोपी

आधी रात जब सिद्धार्थ गायब होने का हल्ला मचा तब पुलिस ने उसके एक-एक दोस्तों की जानकारी ली। सिद्धार्थ अक्सर ऋषभ के पास भी जाता था, इसलिए एक टीम उसके पास भी पहुंची। उससे सिद्धार्थ के बारे में जानकारी ली गई। वह अनजान बन गया। उसने कहा कि आज वह उससे मिला ही नहीं। उस समय तक पुलिस को मोबाइल का कोई लोकेशन नहीं मिला था। इस वजह से उस पर शक नहीं हुआ। पुलिस उसके घर से लौट गई। सुबह सुबह जब उसी की दुकान से लाश मिली तब पुलिस की टीम ने घेरेबंदी कर छापा मारा, लेकिन तब तक आरोपी फरार हो चुका था।

आरोपी ऋषभ।

जिस कुर्सी पर बांधकर सिद्धार्थ की हत्या की गई उसकी भी जांच। इनसेट दवाई दुकान।

कोचिंग के लिए घर से निकला : राजेंद्र नगर थाना प्रभारी संध्या द्विवेदी ने बताया सिद्धार्थ हनुमान नगर निवासी कमलचंद गोलछा का दूसरे नंबर का बेटा है। वह न्यू राजेंद्र नगर में कोचिंग कर रहा था। वह आईटीएम यूनिवर्सिटी से बीबीए की पढ़ाई कर रहा था। सोमवार शाम 4:30 बजे कोचिंग जाने के लिए घर से निकला था। वह रात 9 बजे तक घर नहीं लौटा। माता-पिता से लेकर भाई और दूसरे दोस्त इस बीच लगातार उसके मोबाइल पर संपर्क करने का प्रयास करते रहे। रात 11 बजे तक जब उसने फोन रिसीव नहीं किया तब परिजन उसे ढूंढने निकले। उसके दोस्तों से संपर्क किया। सिद्धार्थ की कोई जानकारी नहीं मिली। रात लगभग 12 बजे वे राजेंद्र नगर थाने पहुंचे। मोबाइल के आधार पर पुलिस को लोकेशन तेलीबांधा, आनंदनगर और आस-पास के इलाके में मिला। इस वजह से इसी इलाके में रातभर उसकी खोज होती रही।

कोचिंग के दौरान हुई दोस्ती

सिद्धार्थ आरडीए बिल्डिंग न्यू राजेंद्र नगर में कोचिंग करता था। इसी कांप्लेक्स में कटोरा तालाब के ऋषभ मल्होत्रा की न्यू मेडिकल और जनरल स्टोर है। कोचिंग के दौरान उसकी ऋषभ से दोस्ती हुई। मृतक ने आरोपी के कारोबार में 20 लाख लगाए थे। सिद्धार्थ उसी पैसे के लिए दबाव डाल रहा था।

पुलिस ने छोड़ा, फिर भागा आरोपी

आधी रात जब सिद्धार्थ गायब होने का हल्ला मचा तब पुलिस ने उसके एक-एक दोस्तों की जानकारी ली। सिद्धार्थ अक्सर ऋषभ के पास भी जाता था, इसलिए एक टीम उसके पास भी पहुंची। उससे सिद्धार्थ के बारे में जानकारी ली गई। वह अनजान बन गया। पुलिस इस मामले में प्रेम प्रसंग को लेकर भी जांच कर रही है। सिद्धार्थ का एक युवती से मिलना जुलना था।





उसने कहा कि आज वह उससे मिला ही नहीं। उस समय तक पुलिस को मोबाइल का कोई लोकेशन नहीं मिला था।

इस वजह से उस पर शक नहीं हुआ। पुलिस उसके घर से लौट गई। सुबह सुबह जब उसी की दुकान से लाश मिली तब पुलिस की टीम ने घेरेबंदी कर छापा मारा, लेकिन तब तक आरोपी फरार हो चुका था।

गुमराह करने की कोशिश : पुलिस को गुमराह करने के लिए आरोपी ऋषभ ने सिद्धार्थ की मोपेड पर मोबाइल को रखा और उसकी गाड़ी मरीन ड्राइव के किनारे छोड़कर भाग गए। मोबाइल लोकेशन के आधार पर रातभर पुलिस मरीन ड्राइव के पास उसे को तलाश करती रही।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Raipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: युवक ने दोस्त के कारोबार में 20 लाख लगाए मांगे तो मार डाला, शव हटा नहीं पाए और फंसे
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×