Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» स्टूडेंट एग्जाम प्रेशर और पैरेंट्स सप्लीमेंट्री, ग्रेस पर कर रहे सवाल

स्टूडेंट एग्जाम प्रेशर और पैरेंट्स सप्लीमेंट्री, ग्रेस पर कर रहे सवाल

माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से स्टूडेंट्स को एग्जाम फोबिया से बचाने हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है। कोर्स और पेपर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 14, 2018, 04:25 AM IST

स्टूडेंट एग्जाम प्रेशर और पैरेंट्स सप्लीमेंट्री, ग्रेस पर कर रहे सवाल
माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से स्टूडेंट्स को एग्जाम फोबिया से बचाने हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है। कोर्स और पेपर सॉल्व करने के तरीकों के अलावा स्टूडेंट अपनी तबियत खराब होने से जुड़ी समस्याएं भी काउंसलर से शेयर कर रहे हैं। वहीं, पैरेंट्स ये जानने में उत्सुक हैं कि अगर बच्चा सप्लीमेंट्री आता है तो आगे क्या करना चाहिए या ग्रेस कितने मार्क्स का मिलता है। मंगलवार को एक बच्चे ने कॉल कर कहा- सर मेरी तबियत खराब है, लगता है पेपर नहीं दे पाऊंगा। कॉन्फिडेंस भी डाउन हो गया है। बच्चे के पैरेंट्स ने पूछा, सर ग्रेस कितने मार्क्स का मिलता है। पेपर के समय बच्चे की तबियत खराब होने से परेशान इस परिवार को काउंसलर ने समझाया कि टेंशन बिल्कुल मत लीजिए। डॉक्टर से चेकअप कर दवा और नींद पूरी लीजिए। इससे आपकी तबियत ठीक हो जाएगी। रही बात एग्जाम में पास होने की तो जितना कोर्स आपने सालभर पढ़ा है वही रिवाइज करें आप न सिर्फ पास हो जाएंगे, बल्कि अच्छे मार्क्स लाने में भी कामयाब रहेंगे। एक्सपर्ट ने स्टूडेंट को अपने दोस्तों से इंपॉर्टेंट टॉपिक पर ग्रुप डिस्कशन करने की सलाह भी दी। इसी तरह के और भी कॉल्स आ रहे हैं, जिनका काउंसलर एकेडमिक और साइकोलॉजिकल एंगल समझते हुए सलाह दे रहे हैं।

दूरदराज के कॉल बेहद कम

एग्जाम शुरू होने के बाद टोल फ्री नंबर पर कॉल करने वाले स्टूडेंट्स की संख्या में थोड़ी कमी आई है। 7 मार्च से 12 मार्च के बीच बस्तर इलाके से सिर्फ 3 कॉल आए। हेल्प लाइन में अधिकतर कॉल शहरी इलाकों से आ रहे हैं। कोण्डागांव, जगदलपुर, दंतेवाड़ा से भी कम कॉल आए हैं।

सेंटर्स में भेजी हेल्पलाइन की जानकारी

माशिमं की सीमा वर्मा ने बताया कि सभी एग्जाम सेंटर्स को स्टूडेंट्स को हेल्पलाइन नंबर की जानकारी नोटिस बोर्ड के जरिए देने के निर्देश दिए गए हैं। ताकि बच्चे इस सुविधा का लाभ ले सकें।

Helpline for Students

स्टूडेंट- सर तबियत खराब है, पेपर नहीं दे पाऊंगा, पैरेंट्स- ग्रेस कितने मार्क्स का मिलता है, काउंसलर: दवा-नींद पूरी लीजिए, ठीक हो जाएंगे और पास भी

पेपर नहीं दे पाया हूं, क्या करूं?

एक स्टूडेंट ने सवाल किया अंग्रेजी का पेपर नहीं दे पाया हूं, क्या करूं? जवाब में एक्सपर्ट्स ने बताया कि एक विषय में सप्लीमेंट्री का प्रावधान है। आगे के पेपर पर फोकस करो और इंग्लिश का पेपर सप्लीमेंट्री के तौर पर दे देना। इसी तरह, पिछले साल के क्वेश्चन पेपर से कितने क्वेश्चन आ सकते हैं, ब्लू प्रिंट से तैयारी करना कितना सही है? जैसे क्वेश्चन भी स्टूडेंट पूछ रहे हैं। बतौर एक्सपर्ट कीर्ति सोनी, राजू गुप्ता, अरविंद भूषण गुप्ता ने सवालों के जवाब दिए। बच्चों के बिहेवियर को देखकर जिन पैरेंट्स को उनके फेल होने की आशंका है, वे कॉल करके सप्लीमेंट्री और ग्रेस की जानकारी ले रहे हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Raipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: स्टूडेंट एग्जाम प्रेशर और पैरेंट्स सप्लीमेंट्री, ग्रेस पर कर रहे सवाल
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×